आपदा प्रभावित लोग आज भी जोह रहे हैं विस्थापन की बाट, सरकार बेसुध

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

आपदा प्रभावित लोग आज भी जोह रहे हैं विस्थापन की बाट, सरकार बेसुध

आसमान में बादल लगते ही आपदा प्रभावितों की रूह कांप उठती है। ये बात हम नहीं कर रहे बल्कि उन ग्रामीणों का दर्द है जो वर्षों से विस्थापन की बाट जोह रहे हैं और उनका विस्थापन तो दूर सरकार और प्रशासन ने उनकी सुध तक नहीं ली है। किसी तरह जीवन बसर करने वाले ग्रामीणों को आसमान की बिजली कड़कते ही आशियाने की चिंता सताने लगती है। आर्थिकी से सक्षम कुछ ग्रामीणों ने सरकार पर भरोसा छोड़कर कहीं और शरण ले ली है, मगर उन ग्रामीणों का क्या जो सरकार से आज भी उम्मीद लगाए बैठे हैं।  रुद्रप्रयाग जिले के आपदा पीड़ित आज भी सरकार द्वारा किये गए वादे की राह देख रहे हैं। सरकारी नुमाईदें कई बार गांव का सर्वे कर रिर्पोट शासन को भेज चुके हैं लेकिन शासन से विस्थापन की स्वीकृति कब आएगी कहा नही जा सकता।  जिले के 472 परिवारों पर आपदा का साया मंडरा रहा है।
तेज बारिश आते ही ये नहीं कहा जा सकता है कि कोई भी व्यक्ति सुरक्षित है।  तेज बारिश लगते ही लोग आसपास के गांवों में शरण लेने चले जाते हैं। 2007 से पांजणा गाॅव में भू धंसाव व कटाव हो रहा है। पहले गांव के नीचे से भू धंसाव हो रहा था लेकिन अब गांव के ऊपर से भूस्खलन हो रहा है। जो ग्रामीण सक्षम थे वे लोग तो गांव छोड़ कर चले गए हैं लेकिन जो असक्षम हैं वे लोग आज भी इन्हीं घरों में डरे सहमें रह रहे हैं। ग्यारह साल से गाॅंव की जमीन धंस रही है  लेकिन सरकार की ओर से कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। इसके अलावा केदारघाटी का सेमीण्भैंसाणी के ग्रामीण भी डर के साए में जीवन यापन कर रहे हैं। राष्ट्रीय राजमार्ग केदारनाथ से सटा यह गांव वर्ष 2013 की आपदा के बाद से विस्थापन की मांग कर रहा है मगर सरकार और प्रशासन सिर्फ झूठे आश्वासन देने तक सीमित रह गया है। मानसून सीजन शुरू हो गया है और ग्रामीणों को अब फिर से डर लगने लगा है।
Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

Corona

भारत में तेज हुआ कोरोना टीकाकरण

Listen to this article

देश में कोरोना वायरस महामारी को ख़तम करने के लिए टीकाकरण की गति

और तेज हो गई है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि देश में कोरोना वायरस

के 1.80 करोड़ से ज्यादा टीके लगाए जा चुके हैं। बड़ी बात यह है कि कल एक दिन

में करीब 11 लाख टीके लगाए गए हैं। भारत में 16 जनवरी को स्वास्थ्य कर्मियों को टीके

लगाए जाने के साथ ही देशव्यापी टीकाकरण अभियान शुरू हुआ था।

कल 10 लाख 93 हजार 954 टीके लगाए गए। इनमें से 8,34,141 लाभार्थियों को पहली

खुराक दी गई और 2,59,813 स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मियों को दूसरी

खुराक दी गई। 8,34,141 लाभार्थियों में 60 साल से ज्यादा 4,93,999 और बहुत सारे रोगों से

ग्रस्त 45 से 60 साल की उम्र के 75,147 लोग शामिल हैं।

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में अग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मियों को टीके

लगाने की शुरुआत दो फरवरी से हुई थी। मार्च में शुरू हुए कोरोना वायरस टीकाकरण

के अगले चरण में 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों और विभिन्न बीमारियों से पीड़ित 45

या उससे ज्यादा उम्र के व्यक्तियों को टीके लगाने की शुरुआत हुई।

 

 

नुपूर पुण्डीर

 

यह भी पढ़े-मशहूर अभिनेत्री गौहर खान के पिता हमारे बीच नहीं रहे

 

Russia

रुस में 17 साल के छात्र ने किए होश उड़ाने वाला काम

Listen to this article

17 साल के छात्र ने अपने ही मां-बाप और बहन को कुलहाड़ी से काट डाला।

इसका कारण ये बताया जा रहा है कि जब उस छात्र को उसके घरवालों ने स्कूल

भेजने का दबाव बनाया तो उसने अपने ही घरवालों को मार डाला। इस घटना को

अंजाम देने के बाद उस छात्र ने बच निकलने की भी कोशिश की लेकिन उसे पुलिस

ने पकड़ लिया । ये मामला रुस के पर्म क्षेत्र ओक्टयाबस्काई का है। उस लड़के ने पुलिस

से बचने के लिए जो तरकीब अपनाई, उसे सुनकर दिल दहल जाएगा। उसने पहले सब

को मारा, फिर अपने पिता के चेहर को बुरी तरह से कुचल दिया और उसे अपने कपड़े पहना

दिए ताकि पुलिस को लगे पिता ने परिवार को मारा है। पहले तो पुलिस उसके चक्कर में फंस

गई थी लेकिन पुलिस को फॉरेंसिक रिपोर्ट से पता चल गया वो उसके पिता का शरीर था।लड़के

की मां और 12 साल की बहन के शव भी घर से बरामद हुए हैं। पुलिस ने बताया कि उस लड़के

ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। उसने पुलिस को बताया कि वह स्कूल नहीं जाना चाहता था

और उसकी मां जबरन स्कूल भेजना चाहती थी, जिसके बाद विवाद बढ़ गया।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े-मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पेश किया पांचवां बजट

Gauhar khan

मशहूर अभिनेत्री गौहर खान के पिता हमारे बीच नहीं रहे

Listen to this article

बॉलीवुड की एक्ट्रेस गौहर खान के पिता जफर अहमद खान

का इंतकाल हो गया है। बताया जा रहा है कि उनके पिता का स्व्स्थ्य

काफी समय से खराब चल रहा था जिसके चलते वो पिछले एक हफ्ते

से अस्पताल में भर्ती थे। गौहर के पिता के निधन की खबर उनकी ही

करीबी दोस्त प्रीति सिमोस ने सोशल मीडिया पर शेयर की है। पिछले

कुछ दिनों से गौहर खान अपने पिता की कई तस्वीरें शेयर कर फैंस से

अपने पिता के लिए दुआ करने की अपील की थी। लेकिन शायद भगवान

को कुछ और ही मंजूर था। गौहर की दोस्त प्रीति सिमोस ने सोशल मीडिया

पर यह जानकारी देते हुए अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक वीडियो शेयर

किया है। इस वीडियो में गौहर अपने पिता और मां के लिए 100 वर्षों की

जिंदगी की कामना कर रही हैं और वहीं कई ऐसी खबसूरत तस्वीरें भी

इस वीडियो में हैं जब गौहर ने अपने पिता के साथ खास पल बिताए था।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े-अपनी नई फिल्म तेजस के लिए आर्मी ट्रेनिंग ले रही है कंगना

prime minister

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनने जा रही है तीसरी फिल्म

Listen to this article

“पीएम नरेंद्र मोदी” और “मोदी: जर्नी ऑफ अ कॉमन मैन” इन दो फिल्मों के

बाद अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तीसरी फिल्म बनने जा रही है जिसका नाम “एक और नरेंद्र” बताया जा रहा है।

इससे पहले एक्टर विवेक ओबेरॉय ने और एक्टर महेश ठाकुर के बाद अब महाभारत

सीरियल में युधिष्ठिर का किरदार निभाने वाले गजेंद्र चौहान प्रधानमंत्री की ज़िदंगी को बॉलीवुड

के पर्दे पर लाने वाले हैं। ‘एक और नरेंद्र’ में गजेंद्र चौहान को एक लीड एक्टर कास्ट किया गया है।

इस फिल्म में स्वामी विवेकानंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विचारों को बॉलीवुड के बड़े पर्दे पर दिखाया

जाएगा। इस फिल्म का निर्देशन मिलन भौमिक कर रहे है और उन्होंने बताया है कि इस फिल्म को दो भागों

में बांटा जाएगा। जिसमे एक कहानी होगी नरेंद्रनाथ दत्त के रूप स्वामी विवेकानंद की, वहीं दूसरी कहानी में

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जिंदगी को दिखाया जाएगा।  डायरेक्टर मिलन भौमिक का मानना है कि विवेकानंद

ने अपनी पूरी जिंदगी सिर्फ भाईचारे का संदेश दिया था, वहीं नरेंद्र मोदी वो महान नेता हैं जिन्होंने भारत को नई

ऊंचाईयों पर पहुंचाया। फिल्म की शूटिंग लगभग 12 मार्च से शुरु हो जाएगी और अप्रैल के खत्म होने से पहले शूटिंग खत्म भी हो जाएगी।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े-लाठीचार्ज पर भड़की कांग्रेस कर रही धरना प्रदर्शन

Tejas

अपनी नई फिल्म तेजस के लिए आर्मी ट्रेनिंग ले रही है कंगना

Listen to this article

बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस कंगना रनोत आजकल अपनी नई फिल्म तेजस के

लिए काफ़ी चर्चाओं में है। अभी तेजस फिल्म की शूटिंग चल रही है और कंगना

इसमें एक महिला भारतीय वायुसेना ऑफिसर की भूमिका निभाने वाली है।

इस फिल्म के सेट से कंगना ने एक विडियो शेयर की थी जिसमें वो आर्मी की

ट्रेनिंग लेती नज़र आ रही थी। कंगना ने अपने इंस्टाग्राम और टिव्टर के अकांउट

में विडियो शेयर किया था जिसमें वो एक नेट पर चढ़ती हुई नज़र आ रही है। विडियो

शेयर करते हुए उन्होंने बताया कि वो आजकल तेजस फिल्म के लिए आर्मी ट्रेनिंग ले रही है।

वीडियो के साथ कंगना ने कैप्शन में लिखा, ‘‘ईर्ष्यालु केकड़े हमेशा हमें नीचे खींचने की कोशिश

करेंगे। लेकिन हमें ऊंचा और ऊंचा उठना होगा’’। आपको बता दे कि इस फिल्म का निर्देशन सर्वेश

मेवार कर रहे है। कुछ दिन पहले से ही इस फिल्म को लेकर कंगना रनोत काफी उत्साहित दिख रही

है उन्होंने इस पोस्ट से पहले भी एक पोस्ट शेयर की थी जिसमें उन्होंने आर्मी की ड्रेस की एक फोटो शेयर

की थी जिसमे लिखा हुआ था ‘तेजस गर्ल’। जल्द ही कंगना की कई फिल्मों में नज़र आने वाली है।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े-स्लाटर हाउस से मुक्त हुआ हरिद्वार जिला

Budget

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पेश किया पांचवां बजट

Listen to this article

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार ने गुरुवार के दिन 2021-22 के लिए 57,400.32

करोड़ रुपए का बजट पेश कर दिया है। जिसमें कृषि, पेयजल, पर्यावरण, से लेकर मनरेगा,

और स्वच्छ, भारत अभिआन के लिए भी बजट पेश किया गया। खास कर त्रिवेंद्र सरकार ने

विकास के कामों पर ज्यादा ध्यान देते हुए सड़कों व पुलों के निर्माण लोक निर्माण कामों के लिए

2369 करोड़ बजट रखा गया है। कक्षा 01 से 8वीं तक सभी विद्यार्थियों को मुफ्त जूता और स्कूल

बैक देने के लिए भी कहा हैं। जिसमें राजस्व प्राप्तियां 44,151.24 करोड रूपये अनुमान लगाए हैं।

20,195.43 करोड़ और तथा करेत्तर राजस्व से 23,995.81 करोड़ रूपये अनुमानित है। बजट में

राजस्व व्यय 44,036.31 करोड रुपये जबकि पूंजीगत व्यय 13,364.01 करोड रुपये रहने का

अनुमानित रखा गया है। राज्य सरकार के वेतन भत्तों के लिये 16,422.51 करोड रुपये के व्यय का

प्रावधान किया गया है जबकि पेशन  और लाभों पर व्यय 6,400.19 करोड का व्यय अनुमानित है।

ब्याज के भुगतान पर 60,052.19 करोड जबकि कर्ज के भुगतान पर 4241.57 करोड प्रस्तावित है।

बजट में राजस्व घाटा अनुमान नहीं लगाया है। लेकिन राजकोषीय घाटा 8984 करोड़ रू तथा 2931.90

करोड रूपये के प्रारंभिक घाटे का अनुमानित किया गया है। बजट में सर्वाधिक 29.58 फीसदी व्यय

वेतन भत्तों और मजदूरी पर प्रस्तावित है तथा इसके बाद अन्य व्ययों पर 15.79 % विकास कामों पर

15.01 फीसद और पेंशन आदि पर 13. 03 प्रतिशत खर्च किया जाना है। बजट में सबसे अधिक प्राप्तियां

केन्द्र सरकार की सहायता अनुदान से आकलित है जिसका हिस्सा 35.83 प्रतिशत है। बजट में कृषि कार्य

एवं अनुसंधान के लिए 1,108 करोड रू चिकित्सा एवं परिवार कल्याण के लिए 3,188 करोड़ रू का प्रावधान किया गया है।

 

 

मीना छेत्री

 

यह भी पढ़े-चुनाव को लेकर संजय राउत का बड़ा बयान