Home » Uncategorized » उत्तराखण्ड सांस्कृतिक नगरी में शुमार रामलीला का मंचन हुआ शुरू

उत्तराखण्ड सांस्कृतिक नगरी में शुमार रामलीला का मंचन हुआ शुरू

Listen to this article

उत्तराखण्ड सांस्कृतिक नगरी में शुमार रामलीला का मंचन हुआ शुरू

उत्तराखण्ड में सांस्कृतिक नगरी के नाम से शुमार अल्मोड़ा नगरी में रामलीला का मंचन शुरू हो गया है। यहां रामलीला की एक अलग ही पहचान है, जिसको कुमाऊँनी भाषा में चौपाई, राधेश्याम, पीलू, विहाग सहित अन्य रागों में गायी जाती है। जिसका अपना अलग ही पहचान है। कुमाऊँनी रामलीला थेयटर पर आधारित है। जिसमें संवाद भी रहते है। रागों में रामलीला गाना बहुत ही कठिन होता है। अल्मोडा में रामलीला का आयोजन अल्मोडा के बद्रेशर मंदिर से 1860 में शुरू हुआ।बाद में सन् 1880 में यह रामलील नन्दा देवी से शुरू हुई। और अब धीरे – धीरे अल्मोडा के कर्नाटक खोला, नन्दा देवी, धारानौला, हुक्का क्लब, सरकार की आली, खत्याडी, सहित दर्जना स्थानों में रामलीला का मंचन किया जा रहा है। जिसको देखने के लिए दूर – दूर से लोग रामलीला स्थल पहुचते है। रामलीला आरम्भ के प्रथम दिन रावण अत्याचार, देवगण स्तुति, राम और सीता जन्म हुआ। वहीं 30 सितम्बर को रावण पुतला दहन के साथ रामलीला का समापन भी किया जाएगा।वही रामलीला कमेटी अध्यक्ष बिट्टू कर्नाटक ने कहा कि पिछले 22 सालों से रामलीला का आयोजन किया जा रहा है। हर वर्ष कर्नाटक खोला की रामलीला में कुछ नया किया जाता है इस बार भी रामलीला के बाद गणेश लीला का आयोजन किया जाएगा। वैसे तो अल्मोडा में 30 सितम्बर को रामलीला का समापन होगा। लेकिन गणेश लीला के कारण इस रामलीला का समापन 3 अक्टूबर को समापन किया जाएगा। वहीं यहां के स्थानीय लोगों का मानना है कि आज की रामलीला और पहले की रामलीला मे काफी अन्तर हो चुका है। पहले से कोई सुख सुविधा नही होने के कारण बडी संख्या लोग पहुते थे। अब सुख सुविधा होने के कारण लोग रामलीला मंचन से दूर होते जा रहे है। जिस तरह से युवा पीडी रामलीला के मंचन में पहले से बढचढ कर हिस्सा लेती थी वही अब सुख सुविधा होने के कारण युवा पीढि रामलीला जैसे मंचन से दूर होती जा रही है। भगवान श्री राम की लीला के सभी पात्र अपने अपने स्तर से रामलीला के मंचन को जीवन्त बनाने के पूरे श्रद्धा भाव से कर ले रहे है। नगर में रामलीलाओं का मंचन यहां के अल्मोडा में पिछले कई सालों से किया जाता रहा है। दूर दूर से संगीत प्रेमी एवं श्रद्धालु इस रामलीला के साथ साथ और दुर्गा पूजा को देखने के लिए हजारों की संख्या में आयोजन स्थल पर उमड़ रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *