गौरैया को बचाने को कोशिस अभी से करनी होगी नहीं तो बहुत देर हो जाएगी

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

 गौरैया को बचाने को कोशिस अभी से करनी होगी नहीं तो बहुत देर हो जाएगी

आज विश्व गौरैया दिवस है. विश्व गौरैया दिवस पहली बार वर्ष 2010 ई. में मनाया गया था. ये दिवस प्रत्येक वर्ष 20 मार्च को पूरी दुनिया में गौरैया पक्षी के संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है.जैसा कि आप सबको विदित है की गौरैया आजकल अपने अस्तित्व के लिए हम मनुष्यों और अपने आस पास के वातावरण से काफी जद्दोजहद कर रही है. ऐसे समय में हमें इन पक्षियों के लिए वातावरण को इनके प्रति अनुकूल बनाने में सहायता प्रदान करनी चाहिए. तभी ये हमारे बीच चह-चहायेंगे. गौरैया की घटती संख्या के कुछ मुख्य कारण है – भोजन और जल की कमी, घोसलों के लिए उचित स्थानों की कमी तथा तेज़ी से कटते पेड़ – पौधे. गौरैया के बच्चों का भोजन शुरूआती दस – पन्द्रह दिनों में सिर्फ कीड़े – मकोड़े ही होते है. लेकिन आजकल हम लोग खेतों से लेकर अपने गमले के पेड़ – पौधों में भी रासायनिक पदार्थों का उपयोग करते है. जिससे ना तो पौधों को कीड़े-मकोड़े भी नष्ट होते जा रहे हैं जिससे  इस पक्षी का समुचित भोजन पनप नहीं  पाता है. इसलिए गौरैया समेत दुनिया भर के हजारों पक्षी हमसे रूठ चुके है और शायद वो लगभग विलुप्त हो चुके है या फिर किसी कोने में अपनी अन्तिम सांसे गिन रहे है.

हम मनुष्यों को गौरैया के लिए कुछ ना कुछ तो करना ही होगा वरना यह भी मॉरीशस के डोडो पक्षी और गिद्ध की तरह पूरी तरह से विलुप्त हो जायेंगे. इसलिए हम सबको मिलकर गौरैया का संरक्षण करना चाहिए.गौरेया पासेराडेई परिवार की सदस्य है, लेकिन कुछ लोग इसेवीवर फिंच परिवार की सदस्य मानते हैं. इनकी लम्बाई 14 से 16 सेंटीमीटर होती है तथा इनका वजन 25 से 32 ग्राम तक होता है. एक समय में इसके कम से कम तीन बच्चे होते है. गौरेया अधिकतर झुंड में ही रहती है. भोजन तलाशने के लिए गौरेया का एक झुंड अधिकतर दो मील की दूरी तय करते हैं. ये पक्षी कूड़े में भी अपना भोजन ढूंढ़ लेते है.

गौरेया आज संकटग्रस्त पक्षी है जो पूरे विश्व में तेज़ी से दुर्लभ हो रही है. दस-बीस साल पहले तक गौरेया के झुंड सार्वजनिक स्थलों पर भी देखे जा सकते थे. लेकिन खुद को परिस्थितियों के अनुकूल बना लेने वाली ये चिड़िया अब भारत ही नहीं, यूरोप के कई बड़े हिस्सों में भी काफी कम रह गई है. ब्रिटेन, इटली, फ्रांस, जर्मनी और चेक गणराज्य जैसे देशों में इनकी संख्या जहाँ तेज़ी से गिर रही है, तो नीदरलैंड में तो इन्हें “दुर्लभ प्रजाति” के वर्ग में रखा गया है.

जिस आंगन में नन्ही गौरैया की चहल कदमी होती थी आज वो आंगन सूने पड़े हुए हैं. आधुनिक मकान, बढ़ता प्रदुषण, जीवन शैली में बदलाव के कारण गौरैया लुप्त हो रही है . कभी गौरैया का बसेरा इंसानों के घर में होता था. अब गौरैया के अस्तित्व पर छाए संकट के बादलों ने इसकी संख्या काफी कम कर दी है और कहीं-कहीं तो अब ये बिल्कुल दिखाई नहीं देती. इस संकट की घड़ी में नन्ही गौरैया को अपने अंगने में बुलाने के लिए हम लोगों को मिलकर कई काम करने होंगे. विश्व गौरैया दिवस 20 मार्च को मनाया जायेगा. इस उपलक्ष्य में आपको गौरैया की कहानी बताते हैं की आखिर इस छोटी चिड़िया को क्या हो गया? हम इनको कैसे बचा सकते हैं?गौरैया की चूं चूं अब चंद घरों में ही सिमट कर रह गई है. एक समय था जब उनकी आवाज़ सुबह और शाम को आंगन में सुनाई पड़ती थी. मगर आज के परिवेश में आये बदलाव के कारण वो शहर से दूर होती गई. गांव में भी उनकी संख्या कम हो रही है.

इन कारणों से गौरैया पर आई आफत

-आधुनिक घरों में गौरैया के रहने के लिए जगह नहीं

-घर में अब महिलाएं न तो गेहूं सुखाती हैं न ही धान कूटती हैं जिससे उन्हें छत पर खाना नहीं मिलता

-घरों में टाइल्स का इस्तेमाल ज्यादा होने लगा

-खेती में कीटनाशकों का इस्तेमाल बढ़ गया है जिसका असर गौरैया पर पड़ रहा है.

80 फ़ीसदी कम हुई गौरैया
विशेषज्ञों के मुताबिक गौरैया की आबादी में 60 से 80 फीसदी तक की कमी आई है. यदि इसके संरक्षण के उचित प्रयास नहीं किए गए तो हो सकता है कि गौरैया इतिहास की चीज बन जाए और भविष्य की पीढ़ियों को यह देखने को ही न मिले.आंध्र विश्वविद्यालय द्वारा किए गए अध्ययन के मुताबिक गौरैया की आबादी में करीब 60 फीसदी की कमी आई है.ऐसा ग्रामीण और शहरी दोनों ही क्षेत्रों में हुआ है.

ऐसे बुलाएं गौरैया को अपने आंगन
घरों में कुछ स्थान ऐसे बनाएं जहाँ गौरैया रह सके

छत परअनाज के दाने और पानी रखें

गमलों में रासायनिक खाद का उपयोग न करें

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Killer

पति ही निकला पत्नी का कातिल

Listen to this article

उत्तर प्रदेश के मेरठ से एक ऐसा मामला सामने आया है,

जिसने पति-पत्नी के रिश्ते पर सवाल खड़े कर दिए हैं।

50 लाख की बीमा राशि और पत्नी से छुटकारा पाने के लिए

पति ने उसका मर्डर कराया।  पड़ोस में रहने वाले डॉक्टर ने पति के

कहने पर शिक्षिका की तकिये से मुंह दबाकर हत्या की।

पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

एक पति को अपनी पत्नी की हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस ने बताया कि 50 लाख रुपये की बीमा की राशि का दावा

करने के लिए शख्स ने अपनी पत्नी का मर्डर करवाया।

शिक्षिका चंदा अरोड़ा (40) की शादी जून 2012 में मेरठ के शास्त्रीनगर

सेक्टर-2  में रहने वाले टेंच व्यवसायी संजय लूथरा से हुई थी।

बीते 20 फरवरी की रात चंद्र की संदिग्ध हालात में मौत हो गई।

डेड बॉडी डीप फ्रीजर में रखी मिली । परिजनों ने चंदा के ससुरालवालों पर हत्या का आरोप लगाया था।

21 फरवरी को शव का पोस्टमार्टम हुआ। जिसमें मौत की वजह स्पष्ट नहीं हुई।

पुलिस ने बिसरा व हार्ट प्रिजर्व कर लिया।

रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने कोई केस दर्ज नहीं किया।

 

डॉक्टर ने की हत्या


संजय लूथरा के अनुसार, उसने पड़ोसी डॉक्टर रजत भारद्वाज को ब्याज

पर 1.35 लाख रुपए उधार दिए थे। डॉक्टर द्वरा पैसे ना लौटाए

जाने पर संजय ने डॉक्टर से कहा कि अगर वह उसकी पत्नी का मर्डर कर देगा

तो रुपए नहीं मांगेगा। देनदारी से बचने के लिए डॉक्टर तैयार हो गया।

संजन ने 20 फरवरी की रात पत्नी को नींद की गोलियां दी।

रात करीब पौने 2 बजे पड़ोसी डॉक्टर छत के रास्ते उसके घर में आया।

उस वक्त चंदा सो रही थी। डॉक्टर ने तकिये से मुंह दबाकर चंदा को मार डाला।

 

सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े- दुष्कर्म के इरादे से अपहृत की गईं थीं बच्चियां

 

Rape

दुष्कर्म के इरादे से अपहृत की गईं थीं बच्चियां

Listen to this article

शाहजहांपुर के कांट थाना क्षेत्र के एक गांव में अपहरण के बाद एक बच्ची की हत्या

और एक को मारते हुए का मामले सामने आया है। आशंका जताई जा रही है

कि दोनों बहनों को कोई परिचित ही बरगलाकर खेतों की ओर ले गया और

बड़ी बहन से दुष्कर्म की कोशिश की हैं। छोटी बहन की मौके पर ही मौत हो गई थी।

रात लगभग आठ बजे गांव से करीब एक किलोमीटर दूर उसकी छोटी

पोती का शव एक खेत में मिला। बड़ी बहन बरेली के एक निजी अस्पताल में मौत से जूझ रही है।

बेटियों के बाबा ने अज्ञात हमलावर के खिलाफ कांट थाने में एफआईआर दर्ज कराई है।

बाबा के मुताबिक उसकी पांच और सात साल की दो पोतियां सोमवार दोपहर

करीब साढ़े तीन बजे प्राथमिक स्कूल के पास बने सरकारी नल के पास देखी गईं थीं ।

इसके बाद दोनों लापता हो गईं ।  शाम छह बजे तक दोनों के वापस न

आने पर उन लोगों ने दोनों की खोज शुरू की। रात लगभग आठ बजे

गांव से करीब एक किलोमीटर दूर उसकी छोटी पोती का शव एक खेत में मिला।

इसके बाद पुलिस को सूचना दी तो वह मौके पर पहुंची।

पुलिस के साथ काफी देर तक तलाशने के बाद रात

करीब 11 बजे दूसरी पोती 1 मीटर दूर बुरी तरह से घायल हुई पड़ी थी।

पुलिस ने आननफानन में उसे मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया ।

यहां डॉक्टरों की टीम ने उसका प्राथमिक उपचार किया।

मंगलवार सुबह करीब 10 बजे बेहतर इलाज के लिए उसे बरेली के एक निजी

मेडिकल कॉलेज के लिए भेजा गया। छोटी बच्ची के शव का

डॉक्टरों के पैनल से पोस्टमार्टम कराया गया है।

 

-सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े- BJP के नेता ने खुद को मारी गोली

 

suicide

BJP के नेता ने खुद को मारी गोली

Listen to this article

BJP के नेता ने खुद को गोली मारी है, बेटे की मौत के बाद से भाजपा नेता सदमें थे,

जिसकी वजह से उन्होंने गोली मारकर आत्महत्या कर ली। गोली की आवाज

सुनते ही परिजनों ने घर के अंदर देखा तो, भाजपा नेता की लाश पड़ी थी।

उनकी पत्नी गर्भवती है। भाजपा नेता को एक संतान को खोने का गम

तो घर में आने वाली संतान की खुशी भी थी। मौत के बाद पत्नी

और परिवार के अन्य सदस्य गहरे सदमें में हैं।

 

पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा

 

थाना पुवायां क्षेत्र के मुड़िया कुरमियात निवासी ललित मिश्रा भाजपा के मंडल उपाध्यक्ष थे ।

उन्होंने घर में खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली ।

गोली तेज आवाज सुनकर स्थानीय लोगों और परिवार ने घर में देखा तो,

भाजपा नेता की लाश पड़ी थी। उसके बाद पुलिस को सूचना दी गई।

पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

 

-सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े- क्या है वह सीक्रेट मैसेज जो लिखा था नासा के रोवर में

 

 

CM yogi

मंडराया कोरोना का संकट सीएम योगी बोले संकट अभी टला नहीं

Listen to this article

जहां देश के अन्य राज्यों में कोरोना संक्रमण बढ़ रहे वहीं यूपी में कोरोना

से संक्रमित लोगों संख्या कम होती जा रही हैं, बीते 15 दिनो में 32

फीसद कोरोना रोगी कम होते नजर आ रहे हैं। नौ फरवरी को प्रदेश में

3,306 एक्टिव केस थे और अब यह घटकर 2,268 रह गए हैं।

यानी 1,038 मरीज कम हुए हैं। हालाकि देश में जहां मध्य प्रदेश, माहाराष्ट्र

और पंजाब जेसे अन्य राज्यों में बढ़ रहे कोरोना मामलों देखते हुए सीएम योगी

आदित्यनाथ ने अभी पूरी सावधानी बरतने के लिए कहा हैं। इस बीच राज्य

में बीते चौबीस घंटों को दौरान 1.23 लाख लोगों का कोरोना टेस्ट किया गया

तो 108 नए रोगी मिले। वहीं, 24 घंटे में 202 मरीज स्वस्थ भी हुए।

साथ ही उन्होंने अधिकारियों को भी सावधानि बरतने के लिए निर्देश दिए है

आगे सीएम बोले जिलों में इंटीग्रेटेड कोविड कमांड सेंटर एंड कंट्रोल

रूम में डीएम और सीएमओ को दो बार बैठक करने को कहा साथ ही सीएम

योगी ने कोरोना प्रोटोकाल का सख्ती से पालन करने के आदेश दिए

और आगे CM योगी बोले  टेस्टिंग और कांटेक्ट ट्रेसिंग पर पूरा ध्यान देने के लिए कहा हैं।

कार्यालयों में कोविड-19 हेल्प डेस्क पूरी तरह सक्रिय रहें और अस्पतालों में व्यवस्था सही रखी जाए।

लोगों को दो गज की शारीरिक दूरी बनाए रखें और साथ में सख्ती

से पालन करने और सैनिटाइजेशन का काम समय-समय पर इस्तेमाल करने के निर्देश दिए।

 

-मीना छैत्री

 

यह भी पढ़े- सीएम हेल्पलाइन को हुए दो साल,51 हजार में से केवल 248 शिकायतों का मिला समाधान

 

 

 

vidhan sabha

विधानसभा और विधान परिषद की कार्यवाही में उठा घटिया PPE किट सप्लाई का मुद्दा

Listen to this article

यूपी में विधानसभा और विधान परिषद की कार्यवाही जारी है।

कांग्रेस MLC (member of legislative council) दीपक सिंह ने

कोरोना काल मे घटिया PPE किट सप्लाई का मुद्दा उठाया।

सरकार का माना है कि मेडिकल कॉलेज मेरठ, ग्रेटर नोएडा और

आगरा में PPE में कमियां थीं, जो मानक के अनुसार नहीं थी।

सदन में विधानसभा की कार्यवाही जारी है। कार्यवाही के दौरान

समाजवादी पार्टी के विधायक शैलेन्द्र यादव ने जौनपुर में हुई युवक की हत्या के

मामले को लेकर नियम 311 के तहत चर्चा की मांग उठाई।

इसके अलावा विधायक आजाद अरिमर्दन ने भी विधानसभा में सवाल उठाए।

मंत्री के जवाब से विपक्ष असंतुष्ट

विधायक आजाद अरिमर्दन ने बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी से

प्रेरकों को लेकर सवाल उठाया। उन्होंने कहा है क्या प्राथमिक

विद्यालयों पर तैनात ग्राम शिक्षा प्रेरकों की सेवाएं समाप्त कर दी गई हैं?

क्या सरकार ग्राम शिक्षा प्रेरकों की बहाली कराते हुए।

उनके बकाया मानदेय का भुगतान करेगी? बेसिक शिक्षा मंत्री

सतीश द्विवेदी के जवाब से विपक्ष असंतुष्ट नजर आया।

 

 -सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े- घर में अकेली थी महिला पति के दोस्त ने किया रेप

rape

घर में अकेली थी महिला पति के दोस्त ने किया रेप

Listen to this article

राजधानी लखनऊ के मड़ियांव शहर से एक शर्मनाक ख़बर सामने आई है।

जहां पति के दोस्त ने उसकी पत्नी के साथ किया रेप।

मड़ियांव कोतवाली में महिला ने युवक के खिलाफ दुराचार

करने का मुकदमा दर्ज कराया है। इंस्पेक्टर मनोज

सिंह के मुताबिक महिला ने पति के दोस्त मोहित पर आरोप लगाया है।

पीड़िता के अनुसार मोहित दो साल से घर आता था।

सोमवार को पति काम पर गए था । महिला घर में अकेले थी। इस बीच मोहित आ धमका।

आरोपी रेप करने के बाद फरार

आरोपी ने महिला को खाने में नशीला पदार्थ मिला कर दिया।

महिला के बेहोश होने के बाद मोहित ने दुराचार किया।

महिला को होश आने पर  पुलिस कंट्रोल रूम पर फोन कर सूचना दी।

इंस्पेक्टर के मुताबिक महिला को मेडिकल जांच के लिए भेजा गया है।

आरोपी मोहित की गिरफ्तारी के लिए टीम लगई हुई हैं।

 

-सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े- ऑनलाइन क्लास के व्हाट्सएप ग्रुप में भेजा अश्लील वीडियो