लोकसभा में पास हुआ तीन तलाक बिल, मुस्लिम महिलाओं ने मनाया जश्न

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

लोकसभा में पास हुआ तीन तलाक बिल, मुस्लिम महिलाओं ने मनाया जश्न

लोकसभा ने एक बार में तीन तलाक को अवैध करार देने वाले मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक 2017 (The Muslim Women (Protection of Rights on Marriage) Bill) को गुरुवार को मंजूरी दे दी जिसके बाद अब ऐसे पतियों को जेल की हवा खानी पड़ेगी जो एक बार में तीन तलाक का इस्तेमाल करेंगे। विधेयक में एक बार में तीन तलाक को दंडनीय अपराध की श्रेणी में रखते हुए तीन वर्ष तक कारावास और जुर्माने का प्रावधान किया गया है।भले ही यह बिल लोकसभा में पास हो गया हो लेकिन अभी इसको राज्यसभा में भी पेश किया जाएगा और वहां भी इसे परीक्षा से गुजरना होगा। अगर राज्यसभा में भी यह पास हो जाता है तो फिर इसको राष्ट्रपति की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। राष्ट्रपति के हस्ताक्षर होने के बाद यह विधेयक कानून बन जाएगा। इस विधेयक पर अब राज्यसभा में चर्चा होगी, जहां भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार का बहुमत नहीं है। इस बिल में सजा के प्रावधान को लेकर विपक्षी दल विरोध कर रहे हैं। साथ ही इसमें संशोधन की मांग कर रहे हैं। लोकसभा में भी AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी समेत अन्य ने संशोधन प्रस्ताव पेश किए लेकिन समर्थन नहीं मिलने से खारिज हो गए। अब सरकार के सामने इस बिल को राज्यसभा में पास करवाना बड़ी चुनौती होगा क्योंकि राज्यसभा में भाजपा का बहुमत नहीं है। मोदी सरकार इस बिल को शीतकालीन सत्र में ही पास करवाना चाहती है। इसी के मद्देनजर वह विपक्षी पार्टियों से बातचीत कर रही है ताकि सबका साथ मिल सके और इस पर सभी की सहमति बने। वहीं केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि हमें पूरा विश्वास है कि कांग्रेस लोकसभा की तरह ही राज्यसभा में भी तीन तलाक बिल पर हमारा साथ देगी और हम बिल को संसद से पारित कराने में कामयाब रहेंगे। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मुस्लिम महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए तीन तलाक बिल आया है। यह महिलाओं की गरिमा से जुड़ा है और हम शरीयत में दखल नहीं देना चाहते हैं। पाकिस्तान सहित कई मुस्ल

इस विधेयक पर अब राज्यसभा में चर्चा होगी, जहां भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार का बहुमत नहीं है। इस बिल में सजा के प्रावधान को लेकर विपक्षी दल विरोध कर रहे हैं। साथ ही इसमें संशोधन की मांग कर रहे हैं। लोकसभा में भी AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी समेत अन्य ने संशोधन प्रस्ताव पेश किए लेकिन समर्थन नहीं मिलने से खारिज हो गए। अब सरकार के सामने इस बिल को राज्यसभा में पास करवाना बड़ी चुनौती होगा क्योंकि राज्यसभा में भाजपा का बहुमत नहीं है। मोदी सरकार इस बिल को शीतकालीन सत्र में ही पास करवाना चाहती है। इसी के मद्देनजर वह विपक्षी पार्टियों से बातचीत कर रही है ताकि सबका साथ मिल सके और इस पर सभी की सहमति बने। वहीं केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि हमें पूरा विश्वास है कि कांग्रेस लोकसभा की तरह ही राज्यसभा में भी तीन तलाक बिल पर हमारा साथ देगी और हम बिल को संसद से पारित कराने में कामयाब रहेंगे। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मुस्लिम महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए तीन तलाक बिल आया है। यह महिलाओं की गरिमा से जुड़ा है और हम शरीयत में दखल नहीं देना चाहते हैं। पाकिस्तान सहित कई मुस्लिम देशों में भी तीन तलाक पर रोक है।

लोकसभा में बीजू जनता दल (BJD), AIADMK, सपा और तृणमूल कांग्रेस समेत कई राजनीतिक पार्टियों ने तीन तलाक बिल का विरोध किया, हालांकि इन दलों के सांसद सदन में बिल में संशोधन प्रस्ताव पर वोटिंग के दौरान अनुपस्थित रहे जिसका फायदा भाजपा को हुआ लेकिन राज्यसभा में भाजपा का बहुमत नहीं है। ऐसे में बिल को पास कराने के लिए दूसरे दलों के साथ की जरूरत है। 245 सदस्यीय राज्यसभा में राजग के 88 सांसद (भाजपा के 57 सांसद सहित), कांग्रेस के 57, सपा के 18, BJD के 8 सांसद, AIADMK के 13, तृणमूल कांग्रेस के 12 और NCP के 5 सांसद हैं, अगर सरकार को अपने सभी सहयोगी दलों का साथ मिल जाता है, तो भी बिल को पारित कराने के लिए कम से कम 35 और सांसदों के समर्थन की जरूरत होगी। संभावना है कि राज्यसभा में
कई विपक्षियां पार्टियां बिल का जोर-शोर से विरोध करें। इन विपक्षी दलों का कहना है कि बिल में संशोधन किया जाना चाहिए और तीन साल की सजा का प्रावधान करना गलत है।एक साथ तीन बार तलाक (बोलकर, लिखकर या ईमेल, एसएमएस और व्हाट्सएप जैसे इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से) कहना गैरकानूनी होगा। अगर कोई पति ऐसा करता है तो उसे तीन साल के कारावास की सजा हो सकती है। यह गैर-जमानती और संज्ञेय अपराध माना जाएगा।यह कानून सिर्फ ‘तलाक ए बिद्दत’ यानी एक साथ तीन बार तलाक बोलने पर लागू होगा। तीन तलाक पीड़ित महिला अपने और नाबालिग बच्चों के लिए गुजारा भत्ता मांगने के लिए मजिस्ट्रेट से अपील कर सकेगी। वह नाबालिग बच्चों के संरक्षण का भी अनुरोध कर सकती है। मजिस्ट्रेट इस मुद्दे पर अंतिम फैसला करेंगे। यह प्रस्तावित कानून जम्मू-कश्मीर को छोड़कर पूरे देश में लागू होगा है।

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

factory

रुड़की में पतंजलि के पास आदित्य इंडस्ट्रीज फैक्ट्री में लगी भीषण आग

Listen to this article

हरिद्वार नेशनल हाइवे स्थित पतंजलि के पास आदित्य इंडस्ट्रीज नाम की एक फैक्ट्री में

आज सुबह अचानक आग लग गई। फैक्ट्री से आग की लपटें उठने लगी। सूचना दमकल विभाग को दी गई,

सूचना पर दमकल विभाग की कई गाड़िया सिडकुल, हरिद्वार और रुड़की से उक्त फैक्ट्री पर पहुंची,

जहां कई घंटों तक आग को बुझाने का प्रयास किया गया।इस फैक्ट्री में प्लास्टिक के पार्ट्स बनाए जाते हैं।

घंटो की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया।

लेकिन तबतक फैक्ट्री में रखा माल जलकर राक हो चुका था। फैक्ट्री में प्लास्टिक के पार्ट्स बनाए जाते थे

और आग लगने के कारण करीब 2 करोड़ के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है।

दमकल विभाग के सीएफओ नरेंद्र सिंह कुंवर ने बताया हैं, कि आग पर पूरी तरह से काबू पाया हैं।

आस –पास के लोग फैक्ट्री की आग के चपेट में आने से बाल-बाल बच गए।

फैक्ट्री स्वामी द्वारा विभाग से कोई एनओसी नहीं ली गई थी और ना ही फैक्ट्री में अग्निशमन के कोई इंतेजाम थे।

फिलहाल आग लगने के कारणों का पता लगाया जा रहा है।

 

-सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े-एससी, एसटी व विधवाओं के लिए बढ़ेगी पेंशन आय सीमा

Bihar

बिहार में होगा पंचायत चुनाव पहली बार ईवीएम से पड़ेंगे वोट

Listen to this article

बिहार में पंचायत चुनाव के लिए मंगलवार शाम को नीतीश सरकार ने मंजूरी दे दी है ।

राज्य में 10 चरणों में पंचायत चुनाव होगा। खास बात ये है कि पहली बार बिहार में पंचायत

चुनाव में ईवीएम का इस्तेमाल किया जाएगा। इसके साथ ही चुनाव में आने वाले 122 करोड़ के खर्चे को भी मंजूरी दे दी गई है।

कैबिनेट बैठक में लिए अहम निर्णय

बिहार सरकार की मंगलवार शाम को कैबिनेट बैठक हुई। बैठक में निर्णय लियाा गया कि इस

बार पंचायत चुनाव में ईवीएम मशीन का इस्तेमाल किया जाएगा। इसके साथ ही इस चुनाव में करीब

122 करोड़ रुपये का खर्चा आएगा। इस रकम को जारी करने की परमिशन दे दी गई है।

पंचायत चुनाव के लिए राज्य सरकार 90 हजार ईवीएम खरीदेगी। बता दें कि बिहार में होने

वाले पंचायत चुनाव में वार्ड सदस्य, पंच, सरपंच, पंचायत स्तर पर मुखिया,

पंचायत समिति सदस्य और जिला परिषद सदस्यों को चुना जाएगा।

कैबिनेट की बैठक में फैसला लिया गया है कि पंचायत चुनाव में पुरानी आरक्षण की व्यवस्था को

ही लागू किया जाएगा यानी जो भी सीट पिछले पंचायत चुनाव में आरक्षित थीं वह इस बार भी आरक्षित ही रहेंगी

। बिहार में तीन पंचायत चुनाव के लिए चुनाव आयोग के गाइडलाइंस के मुताबिक मतदान सुबह 7 बजे से शाम

5 बजे तक कराया जाएगा। मतों की गणना सुबह 8 बजे से की जाएगी। हालांकि अभी तक 10 चरणों में

होने वाले पंचायत चुनाव की तारीखों की घोषणा नहीं हुई है।

 

 

नुपूर पुण्डीर

 

 

यह भी पढ़े-बुलंदशहर में ट्रिपल मर्डर, तीसरी बेटी हालत खराब

दीपिका के विज्ञापन पर लगा चोरी का आरोप,हॉलीवुड डायरेक्टर ने उठाया सवाल

Listen to this article

आज से पहले आपने फिल्म के गाने, म्यूज़िक या कहानियों के

कॉपीराइट के बारे में सुना होगा, लेकिन इस बार बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका

पादुकोण के नए विज्ञापन पर चोरी करने का आरोप लगा है।

हाल ही में दीपिका का एक एड रिलीज़ किया गया है

जिसमें वो एक ब्रांडेड जींस का एड करती दिख रही हैं

और ये एड बीते कई दिनों से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

अब इस विज्ञापन पर हॉलीवुड फिल्म ‘Yeh Ballet’ की डायरेक्टर सोनी तारपोरेवाला ने

कॉन्सेप्ट चोरी करने का आरोप लगाया है। उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पर

विज्ञापन कंपनी को घेरते हुए एक लंबा चौड़ा पोस्ट लिखा है

जिसमें उन्होंने उस एड को लेकर नाराज़गी ज़ाहिर की है।

सोनी ने अपने इंस्टाग्राम पर उस सेट की फोटोज़ भी शेयर की हैं

जिससे दीपिका के एड का सेट मेल खाता नज़र आ रहा है।

फोटोज़ शेयर करते हुए डायरेक्टर ने लिखा, ‘कुछ दिन पहले मुझे ये एड दिखाया गया।

विज्ञापन देखने के बाद मैं ये देखकर शॉक्ड हो गई

कि इसमें Yeh Ballet डांस स्टूडियो के सेट का इस्तेमाल किया गया है।

डायरेक्टर ने ये भी लिखा भारत में चल रहे कॉपीकैट के कल्चर को अब बंद हो कर देना चाहिए।

तब आपको पता चलेगा कि विदेशी प्रोडक्शन कंपन और डायरेक्टर आपसे बेहतर जानते हैं।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े- तीन महीने तक बंद रहेगी ऑस्ट्रेलिया की अंतराष्ट्रीय सीमाएं

Arrested

नोएडा  में Swiggy के दो डिलीवरी boy गिरफ्तार

Listen to this article

उत्तर प्रदेश के नोएडा में पुलिस ने खाना डिलवरी करने वाली कंपनी Swiggy  के

दो डिलीवरी executives को गिरफ्तार किया है। यह दोनों ऑनलाइन फूड डिलीवरी ऐप स्विगी के लिए काम करते थे।

इन दोनों लड़कों पर नोएडा के बहुत घरों के ताला तोड़कर घर में घुसकर कीमती सामान चुराते थे।

उत्तर प्रदेश के नोएडा में पुलिस ने दोनों लड़को को गिरफ्तार किया

और दोनों से पूछताछ की दोनों लड़को ने अपना जुर्म भी कबूल किया है।

पुलिस के मुताबि नोएडा के गोल्फ कोर्स इलाके में कुछ दिनों से चोरी की काफी शिकायत आई।

पुलिस के मुताबिक दोनों लड़के पहले ये देखते थे कि फ्लैट में कोई है या नहीं,

उसके बाद ये दोनों लड़के घरों में घुसकर कीमती सामान चुराते थे।

पुलिस के मुताबिक दोनों लड़कों के पास से एलईडी टीवी, रिस्ट वॉच, बाइक और कई सारे सामान बरामद किए गए हैं।

पुलिस के मुताबिक दोनों आरोपी उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर के भायपुरा के रहने वाले है।

यह दोनों नोएडा के सेक्टर 126 में किराए के मकान में रहते थे।

 

-सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढे़-बॉलीवुड सिंगर हर्षदीप कौर बनी मॉं,बेटे को दिया जन्म

 

तीन महीने तक बंद रहेगी ऑस्ट्रेलिया की अंतराष्ट्रीय सीमाएं

Listen to this article

कोरोना वायरस को देखते हुए ऑस्ट्रेलिया में अगले तीन महीनों के

लिए अंतरराष्ट्रीय सीमा बंद करने का फैसला किया गया है।

वैसे तो पिछले साल से देश की अंतरराष्ट्रीय सीमा बंद हैं और अब प्रशासन ने वहां

तीन महीने और अंतरराष्ट्रीय सीमा बंद करने की घोषणा की है।

ऑस्ट्रेलिया के स्वास्थ्य मंत्री ग्रेग हंट ने कहा कि स्वास्थ्य अधिकारियों ने

सरकार को सलाह दी कि विदेशों में कोविड-19 की

स्थिति ऑस्ट्रेलिया के लिए स्वास्थ्य जोखिम पैदा कर सकती है।

इसलिए मई से लेकर जून तक अंतरराष्ट्रीय सीमा बंद रहेंगी।

बता दें कि महामारी की शुरुआत में ही ऑस्ट्रेलिया ने अपनी अंतरराष्ट्रीय सीमा बंद कर दी थीं।

वहां की सरकार ने विशेष परिस्थितियों को छोड़कर बाकी नागरिकों पर यात्रा का प्रतिबंध लगाया हुआ।

वहीं देश में आने वाले यात्रियों के आगमन पर

होटल क्वारंटीन में 14 दिन के लिए हजारों डॉलर खर्च करने होंगे।

हालांकि ऑस्ट्रेलिया में कोरोना से निपटने के लिए बेहतर कदम उठाए गए,

यही वजह है कि वहां 25 मिलियन जनसंख्या पर केवल 29,000 कोरोना के मामले हैं।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े- निरंजनी अखाड़े की पेशवाई के साथ महाकुंभ का आगाज

निरंजनी अखाड़े की पेशवाई के साथ महाकुंभ का आगाज

Listen to this article

हरिद्वार में आज से महाकुंभ की शुरुआत हो गई है। निरंजनी अखाड़े की पेशवाई के बाद

हरिद्वार में कुंभ जैसा माहौल दिखने लगा है। एसएम जैन कॉलेज से शुरू हुई निरंजनी अखाड़े

की पेशवाई शहर भर में घुमने के बाद निरंजनी अखाड़े पहुंचेगी। इस समय निरंजनी अखाड़ा के

सभी महामंडलेश्वर और आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंद गिरी महाराज के साथ और सारे साधु

मौजूद रहे।अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी महाराज भी मौजूद थे और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह

रावत भी निरंजनी अखाड़ा की पेशवाई में शामिल थे। निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर ने

इस समय एबीपी गंगा से बातचीत की। आज से कुम्भ नगरी में महाकुंभ का आगाज हो गया है।

निरंजनी अखाड़े की पेशवाई एसएम जैन पीजी कॉलेज से सुबह 10 बजे शुरू हुई ।

पेशवाई में एक हाथी, पांच ऊंट, 40 घोड़े और 50 रथ शामिल हैं वहीं हेलीकॉप्टर से फूलों की वर्षा की गई

।इसके अलावा ढाई से 3 हजार संत पेशवाई में शामिल हुए। पेशवाई में सबसे आगे कोविड-19 जागरूक

का संदेश देता वाहन खड़ा रहा।कुमाऊं, गढ़वाल और जौनसार बावर के सांस्कृतिक कलाकारों की टोली

पेशवाई के दौरान प्रस्तुति देगी। पेशवाई में हरिद्वार के 4 बैंड और विशेष तौर पर नाशिक से मंगाया बैंड भी शामिल है।

 

नुपूर पुण्डीर

 

 यह भी पढ़े-एससी, एसटी व विधवाओं के लिए बढ़ेगी पेंशन आय सीमा b