Home » Uncategorized » लोगों की किडनी निकालकर बेचने वाले गिरोह का हुआ पर्दाफाश

लोगों की किडनी निकालकर बेचने वाले गिरोह का हुआ पर्दाफाश

Listen to this article

लोगों की किडनी निकालकर बेचने वाले गिरोह का हुआ पर्दाफाश

राजधानी देहरादून के लाल तप्पड़ में मजबूर लोगों की किडनी निकालकर उन्हें बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश होने के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है। दून के लाल तप्पड़ स्थित गंगोत्री हॉस्पिटल में कब से यह काम चल रहा है इस बात का भी जल्द खुलासा हो जाएगा। इस बड़े रैकेट के खुलासे और पुलिस की कार्रवाई के पीछे हैं हरिद्वार की रानीपुर कोतवाली क्षेत्र से पकड़े गए वह दो पीड़ित जिनकी यहां धोखे से किडनी निकाली गई थी। मुखबिर की सूचना के बाद दोनों को ही पुलिस ने पकड़ लिया।सूचना के बाद रविवार देर रात हरिद्वार एसएसपी कृष्ण कुमार वीके और देहरादून एसएसपी निवेदिता कुकरेती के संयुक्त अभियान के बाद अस्पताल पर कार्रवाई की गई। ये अस्पताल डोइवाला के लाल तप्पड़ स्थित डेंटल कॉलेज के बगल में गंगोत्री चैरिटेबल अस्पताल के नाम से चलाया जाता है जो सेंचुरी वेलनेस हॉस्पिटल के नाम से रजिस्टर्ड है। आधी रात को एसएसपी हरिद्वार और एसएसपी देहरादून की संयुक्त टीम ने साथ में इस अस्पताल में छापामारी की।आपको बता दें किबताया जा रहा है कि एक साल के लिए यह हॉस्पिटल लीज पर लिया गया था और इस हॉस्पिटल की केयरटेकर अंजू चौधरी नाम की महिला बताई जा रही है और डॉक्टर अमित रावल है। जिसको पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। वहीं अस्पताल का डॉयरेक्टर फरार है, जो कि अंजू चौधरी का पति है। सूत्रों से पता चला है कि तो पुलिस अभी और लोगों को हिरासत में ले सकती है और इस हॉस्पिटल के तार कई राज्यों से जुड़े हो सकते हैं। पुलिस ने जिन दो लोगों को हिरासत में लिया है उनसे पुलिस किसी गुप्त जगह पूछताछ कर रही है। हाल ही में गुजरात के लोगों की किडनी इसी अस्पताल में निकालने का मामला भी सामने आया था। बताया जा रहा है कि ये सेंटर किसी प्रभावशाली व्यक्ति का है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *