सूबे में बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था से जुड़ी रिपोर्ट पढ़िए….

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article
सूबे में बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था से जुड़ी रिपोर्ट पढ़िए….
उत्तराखंड राज्य को बने हुए 16 साल से ज्यादा का वक्त हो चुका है, लेकिन सूबे के पहाड़ी क्षेत्र मूलभूत सुविधाओं की अभी भी बाट जोह रहे हैं। लोग इस बात से सभी वाकिफ हैं कि  किसी भी क्षेत्र के विकास के लिए वहां स्वास्थ्य सेवाओं का सही होना बेहद आवश्यक है। इसके अभाव में उस क्षेत्र से लोगों का पलायन कर जाना लाजिमी है। बावजुद इसके प्रदेश की स्वास्थ्य सेवा का हाल बेहाल है.  प्रदेश में अभी भी 60 प्रतिशत से ज्यादा डॉक्टरों के पद खाली हैं। वहीं प्रदेश का सबसे सस्ता मेडिकल कॉलेज डॉक्टर तो पैदा कर रहा है लेकिन वह भी सूबे में डॉक्टरों की कमी को पूरा करने के लिए काफी नहीं है।  प्रदेश के पहाड़ी हिस्सों का हाल स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर और भी बुरा है। यहां अस्पताल में न डॉक्टर मौजुद हैं और ना ही दवा। नतीजतन सर्दी-जुकाम की दवा लेने के लिए भी पहाड़ी लोगों को शहरी इलाकों की दौड़ लगानी पड़ती है। इन परिस्थियों को देखकर कहा जा सकता है कि पर्वतीय इलाकों में सेहत भगवान भरोसे ही है। यहां लाख कोशिशों के बाद भी महकमा डॉक्टरों को पहाड़ चढ़ाने में नाकाम रहा है। उत्तराखंड में अभी तक कई सरकारें आईं और गईं लेकिन शराब और खनन के मुद्दे तक ही सीमित रहीं।  मूलभूत जरूरतों पर किसी भी हुक्मरान की नजर नहीं पहुंच पाई। हुक्मरान 16 साल के इस युवा प्रदेश के पहाड़वासियों के मर्ज का इलाज नहीं खोज पाए।
वहीं प्रदेश की स्वास्थ्य सेवा पर अगर एक नजर दौड़ाएं तो पता चलता है कि सूबे में सरकारी अस्पतालों की संख्या 993 है और इनमें डॉक्टरों के 2711 पद स्वीकृत हैं।  मगर इनमें से 1615 पद सालों से खाली पड़े हैं और वो भी अधिकांश पर्वतीय इलाकों के सरकारी अस्पतालों में न सिर्फ चिकित्सक बल्कि अन्य स्टॉफ और दवाओं की भी कमी भी बनी हुई है। साफ शब्दों में कहें तो सरकारी अस्पताल महज उपस्थिति दर्ज कराने तक सीमित हैं। विभाग के अधिकारी भी इस बात को मानते हैं।  यही कारण है कि उत्तराखंड का जनमानस अपने आप को ठगा हुआ महसूस कर रहा है। 16 सालों में सरकारें स्वास्थ्य जैसी अहम विभाग को दुरुस्त नहीं कर पाई, सरकारी चिकित्सा सेवाओं की बदहाल स्थिति के कारण निजी अस्पतालों और डॉक्टरों की शरण में जाना लोगों की मजबूरी बन गई है। गौरतलब है कि प्रदेश भऱ में इस वक्त छोटे-बड़े करीब 600 निजी अस्पताल और नर्सिंग होम हैं। ऐसे में सरकारी अस्पतालों की बेहाली में निजी अस्पताल फल-फूल रहे हैं।
 किस जिले में कितने डॉक्टरों के पद खाली हैं….
जिला                 रिक्त पद              स्वी. पद                 कार्य. पद
पौड़ी गढ़वाल        244                             370                    126
रुद्रप्रयाग                   61                           95                      34
उत्तरकाशी                   89                        140                    51
चमोली                          127                     173                    46
देहरादून                        136                    357                    221
टिहरी                            159                   222                     63
हरिद्वार                          116                     180                   64
पिथौरागढ़                      124                       191                     67
बागेश्वर                            62                    101                         39
चम्पावत                          54                      91                        37
अल्मोड़ा                          183                    302                      119
उधमसिंह नगर               115                       179                     64
नैनीताल                          164                     314                     150
कुल योग                          1634                   2715                   1081
अन्य रिक्त पद 
पदनाम                                    रिक्त पद                    स्वीकृत पद           कार्यरत
महानिदेशक                                   1                            1                     0
निदेशक                                         1                         6                    5
अपर निदेशक                                 2                        35                 33
वरिष्ठ श्रेणी चिकित्सा अधिकारी        169                   425                 256
चिकित्सा अधिकारी ग्रेड-1               522                  634                 121
चिकित्सा अधिकारी                         967                1444                 477
Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

factory

रुड़की में पतंजलि के पास आदित्य इंडस्ट्रीज फैक्ट्री में लगी भीषण आग

Listen to this article

हरिद्वार नेशनल हाइवे स्थित पतंजलि के पास आदित्य इंडस्ट्रीज नाम की एक फैक्ट्री में

आज सुबह अचानक आग लग गई। फैक्ट्री से आग की लपटें उठने लगी। सूचना दमकल विभाग को दी गई,

सूचना पर दमकल विभाग की कई गाड़िया सिडकुल, हरिद्वार और रुड़की से उक्त फैक्ट्री पर पहुंची,

जहां कई घंटों तक आग को बुझाने का प्रयास किया गया।इस फैक्ट्री में प्लास्टिक के पार्ट्स बनाए जाते हैं।

घंटो की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया।

लेकिन तबतक फैक्ट्री में रखा माल जलकर राक हो चुका था। फैक्ट्री में प्लास्टिक के पार्ट्स बनाए जाते थे

और आग लगने के कारण करीब 2 करोड़ के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है।

दमकल विभाग के सीएफओ नरेंद्र सिंह कुंवर ने बताया हैं, कि आग पर पूरी तरह से काबू पाया हैं।

आस –पास के लोग फैक्ट्री की आग के चपेट में आने से बाल-बाल बच गए।

फैक्ट्री स्वामी द्वारा विभाग से कोई एनओसी नहीं ली गई थी और ना ही फैक्ट्री में अग्निशमन के कोई इंतेजाम थे।

फिलहाल आग लगने के कारणों का पता लगाया जा रहा है।

 

-सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े-एससी, एसटी व विधवाओं के लिए बढ़ेगी पेंशन आय सीमा

Bihar

बिहार में होगा पंचायत चुनाव पहली बार ईवीएम से पड़ेंगे वोट

Listen to this article

बिहार में पंचायत चुनाव के लिए मंगलवार शाम को नीतीश सरकार ने मंजूरी दे दी है ।

राज्य में 10 चरणों में पंचायत चुनाव होगा। खास बात ये है कि पहली बार बिहार में पंचायत

चुनाव में ईवीएम का इस्तेमाल किया जाएगा। इसके साथ ही चुनाव में आने वाले 122 करोड़ के खर्चे को भी मंजूरी दे दी गई है।

कैबिनेट बैठक में लिए अहम निर्णय

बिहार सरकार की मंगलवार शाम को कैबिनेट बैठक हुई। बैठक में निर्णय लियाा गया कि इस

बार पंचायत चुनाव में ईवीएम मशीन का इस्तेमाल किया जाएगा। इसके साथ ही इस चुनाव में करीब

122 करोड़ रुपये का खर्चा आएगा। इस रकम को जारी करने की परमिशन दे दी गई है।

पंचायत चुनाव के लिए राज्य सरकार 90 हजार ईवीएम खरीदेगी। बता दें कि बिहार में होने

वाले पंचायत चुनाव में वार्ड सदस्य, पंच, सरपंच, पंचायत स्तर पर मुखिया,

पंचायत समिति सदस्य और जिला परिषद सदस्यों को चुना जाएगा।

कैबिनेट की बैठक में फैसला लिया गया है कि पंचायत चुनाव में पुरानी आरक्षण की व्यवस्था को

ही लागू किया जाएगा यानी जो भी सीट पिछले पंचायत चुनाव में आरक्षित थीं वह इस बार भी आरक्षित ही रहेंगी

। बिहार में तीन पंचायत चुनाव के लिए चुनाव आयोग के गाइडलाइंस के मुताबिक मतदान सुबह 7 बजे से शाम

5 बजे तक कराया जाएगा। मतों की गणना सुबह 8 बजे से की जाएगी। हालांकि अभी तक 10 चरणों में

होने वाले पंचायत चुनाव की तारीखों की घोषणा नहीं हुई है।

 

 

नुपूर पुण्डीर

 

 

यह भी पढ़े-बुलंदशहर में ट्रिपल मर्डर, तीसरी बेटी हालत खराब

दीपिका के विज्ञापन पर लगा चोरी का आरोप,हॉलीवुड डायरेक्टर ने उठाया सवाल

Listen to this article

आज से पहले आपने फिल्म के गाने, म्यूज़िक या कहानियों के

कॉपीराइट के बारे में सुना होगा, लेकिन इस बार बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका

पादुकोण के नए विज्ञापन पर चोरी करने का आरोप लगा है।

हाल ही में दीपिका का एक एड रिलीज़ किया गया है

जिसमें वो एक ब्रांडेड जींस का एड करती दिख रही हैं

और ये एड बीते कई दिनों से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

अब इस विज्ञापन पर हॉलीवुड फिल्म ‘Yeh Ballet’ की डायरेक्टर सोनी तारपोरेवाला ने

कॉन्सेप्ट चोरी करने का आरोप लगाया है। उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पर

विज्ञापन कंपनी को घेरते हुए एक लंबा चौड़ा पोस्ट लिखा है

जिसमें उन्होंने उस एड को लेकर नाराज़गी ज़ाहिर की है।

सोनी ने अपने इंस्टाग्राम पर उस सेट की फोटोज़ भी शेयर की हैं

जिससे दीपिका के एड का सेट मेल खाता नज़र आ रहा है।

फोटोज़ शेयर करते हुए डायरेक्टर ने लिखा, ‘कुछ दिन पहले मुझे ये एड दिखाया गया।

विज्ञापन देखने के बाद मैं ये देखकर शॉक्ड हो गई

कि इसमें Yeh Ballet डांस स्टूडियो के सेट का इस्तेमाल किया गया है।

डायरेक्टर ने ये भी लिखा भारत में चल रहे कॉपीकैट के कल्चर को अब बंद हो कर देना चाहिए।

तब आपको पता चलेगा कि विदेशी प्रोडक्शन कंपन और डायरेक्टर आपसे बेहतर जानते हैं।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े- तीन महीने तक बंद रहेगी ऑस्ट्रेलिया की अंतराष्ट्रीय सीमाएं

Arrested

नोएडा  में Swiggy के दो डिलीवरी boy गिरफ्तार

Listen to this article

उत्तर प्रदेश के नोएडा में पुलिस ने खाना डिलवरी करने वाली कंपनी Swiggy  के

दो डिलीवरी executives को गिरफ्तार किया है। यह दोनों ऑनलाइन फूड डिलीवरी ऐप स्विगी के लिए काम करते थे।

इन दोनों लड़कों पर नोएडा के बहुत घरों के ताला तोड़कर घर में घुसकर कीमती सामान चुराते थे।

उत्तर प्रदेश के नोएडा में पुलिस ने दोनों लड़को को गिरफ्तार किया

और दोनों से पूछताछ की दोनों लड़को ने अपना जुर्म भी कबूल किया है।

पुलिस के मुताबि नोएडा के गोल्फ कोर्स इलाके में कुछ दिनों से चोरी की काफी शिकायत आई।

पुलिस के मुताबिक दोनों लड़के पहले ये देखते थे कि फ्लैट में कोई है या नहीं,

उसके बाद ये दोनों लड़के घरों में घुसकर कीमती सामान चुराते थे।

पुलिस के मुताबिक दोनों लड़कों के पास से एलईडी टीवी, रिस्ट वॉच, बाइक और कई सारे सामान बरामद किए गए हैं।

पुलिस के मुताबिक दोनों आरोपी उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर के भायपुरा के रहने वाले है।

यह दोनों नोएडा के सेक्टर 126 में किराए के मकान में रहते थे।

 

-सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढे़-बॉलीवुड सिंगर हर्षदीप कौर बनी मॉं,बेटे को दिया जन्म

 

तीन महीने तक बंद रहेगी ऑस्ट्रेलिया की अंतराष्ट्रीय सीमाएं

Listen to this article

कोरोना वायरस को देखते हुए ऑस्ट्रेलिया में अगले तीन महीनों के

लिए अंतरराष्ट्रीय सीमा बंद करने का फैसला किया गया है।

वैसे तो पिछले साल से देश की अंतरराष्ट्रीय सीमा बंद हैं और अब प्रशासन ने वहां

तीन महीने और अंतरराष्ट्रीय सीमा बंद करने की घोषणा की है।

ऑस्ट्रेलिया के स्वास्थ्य मंत्री ग्रेग हंट ने कहा कि स्वास्थ्य अधिकारियों ने

सरकार को सलाह दी कि विदेशों में कोविड-19 की

स्थिति ऑस्ट्रेलिया के लिए स्वास्थ्य जोखिम पैदा कर सकती है।

इसलिए मई से लेकर जून तक अंतरराष्ट्रीय सीमा बंद रहेंगी।

बता दें कि महामारी की शुरुआत में ही ऑस्ट्रेलिया ने अपनी अंतरराष्ट्रीय सीमा बंद कर दी थीं।

वहां की सरकार ने विशेष परिस्थितियों को छोड़कर बाकी नागरिकों पर यात्रा का प्रतिबंध लगाया हुआ।

वहीं देश में आने वाले यात्रियों के आगमन पर

होटल क्वारंटीन में 14 दिन के लिए हजारों डॉलर खर्च करने होंगे।

हालांकि ऑस्ट्रेलिया में कोरोना से निपटने के लिए बेहतर कदम उठाए गए,

यही वजह है कि वहां 25 मिलियन जनसंख्या पर केवल 29,000 कोरोना के मामले हैं।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े- निरंजनी अखाड़े की पेशवाई के साथ महाकुंभ का आगाज

निरंजनी अखाड़े की पेशवाई के साथ महाकुंभ का आगाज

Listen to this article

हरिद्वार में आज से महाकुंभ की शुरुआत हो गई है। निरंजनी अखाड़े की पेशवाई के बाद

हरिद्वार में कुंभ जैसा माहौल दिखने लगा है। एसएम जैन कॉलेज से शुरू हुई निरंजनी अखाड़े

की पेशवाई शहर भर में घुमने के बाद निरंजनी अखाड़े पहुंचेगी। इस समय निरंजनी अखाड़ा के

सभी महामंडलेश्वर और आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंद गिरी महाराज के साथ और सारे साधु

मौजूद रहे।अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी महाराज भी मौजूद थे और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह

रावत भी निरंजनी अखाड़ा की पेशवाई में शामिल थे। निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर ने

इस समय एबीपी गंगा से बातचीत की। आज से कुम्भ नगरी में महाकुंभ का आगाज हो गया है।

निरंजनी अखाड़े की पेशवाई एसएम जैन पीजी कॉलेज से सुबह 10 बजे शुरू हुई ।

पेशवाई में एक हाथी, पांच ऊंट, 40 घोड़े और 50 रथ शामिल हैं वहीं हेलीकॉप्टर से फूलों की वर्षा की गई

।इसके अलावा ढाई से 3 हजार संत पेशवाई में शामिल हुए। पेशवाई में सबसे आगे कोविड-19 जागरूक

का संदेश देता वाहन खड़ा रहा।कुमाऊं, गढ़वाल और जौनसार बावर के सांस्कृतिक कलाकारों की टोली

पेशवाई के दौरान प्रस्तुति देगी। पेशवाई में हरिद्वार के 4 बैंड और विशेष तौर पर नाशिक से मंगाया बैंड भी शामिल है।

 

नुपूर पुण्डीर

 

 यह भी पढ़े-एससी, एसटी व विधवाओं के लिए बढ़ेगी पेंशन आय सीमा b