Home » Uncategorized » हरिद्वार में दिव्य प्रेम सेवा मिशन कार्यक्रम को महामहिम कोविंद ने किया संबोधित

हरिद्वार में दिव्य प्रेम सेवा मिशन कार्यक्रम को महामहिम कोविंद ने किया संबोधित

Listen to this article

हरिद्वार में दिव्य प्रेम सेवा मिशन कार्यक्रम को महामहिम कोविंद ने किया संबोधित

लगातार हो रही बारिश के बीच हरिद्वार पहुँचे महामहिम रामनाथ कोविंद ने दिव्य प्रेम सेवा मिशन में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित किया। चंडीघाट स्थित दिव्य प्रेम सेवा मिशन के महामहिम संरक्षक है, इसलिए हरिद्वार दौरे के चलते महामहिम ने मिशन में पहुँच देश के दूर राज्यों से आए मिशन के सदस्यों और पदाधिकारियों को संबोधित किया। इस दौरान राज्यपाल केके पॉल,सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत,विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद्र अग्रवाल और पतंजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण भी माजिद रहे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि उत्तराखंड में आना मेरे लिए सौभाग्य की बात हरिद्वार ने देश को पहला आईआईटी दिया। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड का परिवेश शिक्षा के लिए बेहतरीन है। इस दौरान महामहिम ने मंच से पूर्व सीएम एनडी तिवारी को याद कर उनके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की परमात्मा से कामना की।इसके अलावा उत्तराखंड के चिपको आंदोलन के प्रणेता सुंदर लाल बहुगुणा को भी महामहिम ने याद किया।मौसम खराब होने के चलते कल केदारनाथ और बद्रीनाथ मंदिर दर्शन करने पर बोलते हुए कहा कि बाबा केदार बुलाएंगे तो चले जायेंगे, नहीं तो तीन माह बाद चले जायेंगे। उन्होंने दिव्य प्रेम सेवा मिशन के कार्य को सराहा और कहा कि गंगा पूजा में मां गंगा से मैंने मांग कि जो आपको अविरल बनाने में लगे हैं उनकी मदद कीजिये।महामहिम के दौरे को लेकर ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मियों का भी धन्यवाद करते हुए उन्होंने कहा कि मेरे आगमन की वजह से आप सबको भी तकलीफ उठानी पड़ी। इस देश की पहचान लाल किले,ताज महल ओर इंडिया गेट से नहीं बल्कि इस देश की पहचान यहां के साधु सन्यासियों और संस्कृति से है।

वहीं सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने महामहिम के उत्तराखंड आगमन पर उनका स्वागत कर धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि हमारे निमंत्रण पर महामहिम उत्तराखंड आए है कि इसके लिए हम उनके आभारी हैं।सीएम ने कहा जिन बच्चों को कोई नहीं अपनाता दिव्य प्रेम सेवा मिशन ने उन बच्चों को अपनाकर उन्हें जीवन जीने की नई दिशा दी। ये बच्चे माँ गंगा के आशीर्वाद से बहुत आगे बढ़े ऐसी परमात्मा से कामना करता हूं।जिन लोगों को कुष्ठ रोग की वजह से अपने से अलग कर दिया जाता है, दिव्य प्रेम सेवा मिशन देश की वो संस्था हैं जिसमे कुष्ठ रोगियों को सभी व्यवस्थाएँ दी जाती हैं।उनके लिए न केवल यहां स्कूल की व्यवस्था है बल्कि उनके इलाज करने रहने खाने से लेकर तमाम सुविधाएँ उपलब्ध हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *