बठिंडा में हर घंटे सामने आ रहे है 30 केस,संक्रमण हो रहा है बेकाबू

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

प्रशासन के तमाम कोशिशों के बावजूद बठिंडा जिले में कोरोना महामारी की स्थिति बेकाबू होती जा रही है। शनिवार को मई माह के पहले दिन ही 653 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले है। हर घंटे 27 नए कोरोना मरीज मिल रहे है। इनमें 30 फीसदी मरीज ऐसे है, जिनकी उम्र 20 से लेकर 45 साल के बीच है। इसके अलावा शनिवार को 15 मरीजों की मौत हुई है, जोकि अब तक की सबसे ज्यादा मौत है।

हालांकि, शहर की समाजसेवी संस्थाओं ने शनिवार शाम पांच बजे तक 21 कोरोना संक्रमित मरीजों के शवों का अंतिम संस्कार किया है, जिसमें 15 मरीज बठिेंडा जिलेे, दो दिल्ली निवासी एक मुक्तसर साहिब, दो सिरसा के शामिल है। वहीं अब तक संक्रमितों की कुल गिनती 21315 और मृतकों का आंकड़ा 368 तक पहुंच चुका है। सेहत विभाग की रिपोर्ट के अनुसार शनिवार को 269 मरीज स्वस्थ हुए है। इसके साथ ही अब तक 15806 मरीज स्वस्थ हो चुके है। कोरोना के एक्टिव केसों की संख्या 5141 पर पहुंच गई, जिसमें 4262 मरीज होम आइसोलेट में है़ और 658 कोरोना संक्रमित मरीज अनट्रेस है, जिनकी तलाश सेहत विभाग की टीमें लगातार कर रही है।

प्राइेम केयर अस्पताल के एमडी मेडिसन डा. परमिंदर बांसल का कहना है कि आक्सीजन लेवल 90 से कम हो तो ही डाक्टर के पास जाएं। घर में आक्सीमीटर रखेंं और दिन में दो से तीन बार आक्सीजन लेवल चेक करें। आक्क्सीजन लेवल 90 से कम हो तो डाक्टर से संपर्क करें। लक्षण आने पर तुरंत आररटी-पीसीआर टेस्ट करवाएं। अगर डाक्टर कहे कि जरूरत है तो ही चेस्ट सीटी स्कैन करवाएं। बुखार आने पर पैरासीटामोल ही लें।

 

मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े- सिलीगुड़ी के भाजपा उम्मीदवार शंकर घोष 7300 वोट से आगे

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

झारखंड के सीएम का सांसदों के साथ संवाद

Listen to this article

सीएम हेमंत सोरेन ने दक्षिणी छोटानागपुर प्रमंडल के सांसदों के साथ संवाद किया। उन्होंने सभी से कोविड के संक्रमण को रोकने संबंधी राय मांगी। इस पर लगभग सभी सांसदों ने निजी अस्पतालों के मनमानी की जिक्र की। धनबाद के सांसद पीएन सिंह ने कहा कि यहां के निजी अस्पताल सरकार के निर्देशों का पालन नहीं कर रहे हैं।

10 दिन के इलाज का मरीजों से दो-तीन लाख रुपए बिल बसूला जा रहा है। सांसदों ने कहा कि केवल फीस में ही नहीं इलाज में भी निजी अस्पताल लापरवाही कर रहे हैं। वे पैसा कमाने के लिए मनमाना कोविड बेड तो बना लेते हैं लेकिन उनके पास न ही मेडिकल स्टाफ होते हैं और न ही बेड। इसका खामियाजा मरीजों को भुगतना पड़ता है।

मेडिकल काउंसिल बना कर आंकड़ों का करें विश्लेषण

सांसद जयंत चौधरी ने बताया कि सरकार की तरफ से जारी होने वाले आंकड़ों में काफी खामिया रहती है। उन्होंने बताया कि विशेषज्ञों की एक टीम बनाकर डेटा के अध्ययन करने की जरूरत है। यही टीम रोज राज्य भर के आंकड़ों जानकारी मीडिया को दे ताकि जनता को सही जानकारी मिल सके। उन्होंने कहा कि कोरोना की इस लड़ाई में जनता को जागरुक करना बेहद जरूरी है।
प्रभारी मंत्री का जिले में नहीं होता है दर्शन
सांसदों की एक शिकायत प्रभारी मंत्री को लेकर भी दिखी। धनबाद सांसद ने कहा कि हर जिले के लिए एक प्रभारी मंत्री बनाए गए हैं लेकिन विपदा के इस काल में वे जिले में दर्शन ही नहीं देते हैं। उन्होंने कहा कि धनबाद की जिम्मेदारी खुद स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के पास है लेकिन वे अभी तक यहां एक भी बैठक नहीं किए हैं।

शिवानी माजिला

हिमाचल प्रदेश में सिलेंडर फटने से लगी भीषण आग

Listen to this article

हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के करसोग की ग्राम पंचायत थाच थर्मी के कमांद गांव में सिलेंडर फटने से 4 कमरों का मकान जलकर राख हो गया। अग्निकांड में मकान मालिक की जिंदा जलने से मौत हो गई है। ग्रामीणों ने आग बुझाने का भरकस प्रयास किया, लेकिन लपटें बेहद विकराल थीं।
मृतक की पहचान घर के मालिक झाँसीलाल (52) पुत्र स्वर्गीय कुंदी लाल के रूप में हुई। फायर बिग्रेड की गाड़ियों ने घटनास्थल पर पहुंचकर आग पर काबू पाया, लेकिन तब तक पूरा मकान जलकर राख हो चुका था। इस मकान में झांसी लाल अकेला ही रहता था। उसका परिवार दूसरे मकान में रहते थे।
घटनास्थल पर पहुंचे तहसीलदार ने पीड़ित परिवार को फौरी तौर पर 15 हजार की राशि जारी कर दी है। तहसीलदार राजेंद्र ठाकुर ने घटना की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि प्रारंभिक सूचना है कि सिलेंडर फटने से आग लगी है। नुकसान का आकलन किया जा रहा है।

शिवानी माजिला

CLOUD BURST IN DEVPRAYAG

देवप्रयाग में बादल फटा, ITI की तीन मंजिला बिल्डिंग ध्वस्त

Listen to this article

उत्तराखंड के देवप्रयाग में बादल फटने से शांता नदी मे आए उफान से नगर के शांति बाजार मे तबाही आ गई। यहां स्थित आईटीआई का तीन मंजिला भवन पूरी तरह ध्वस्त हो गया। जबकि शांता नदी से सटी दस से अधिक दुकानें भी बह गईं। देवप्रयाग नगर से बस अड्डे की ओर आने वाला रास्ता और पुलिया पूरी तरह से बह गया। मलबे में किसी के दबने को लेकर अभी स्थिति साफ नहीं हो पाई है।

हालांकि कोरोना कर्फ्यू के कारण आई टी आई सहित तमाम दुकानों के बन्द रहने से भारी जान माल का नुकसान नहीं हुआ है। बता दें मंगलवार शाम करीब चार बजे दशरथ पहाड़ पर बादल फटने से यहां से निकलने वाली शांता नदी में उफान आ गया। बस अड्डे से शांति बाजार होकर शांता नदी भागीरथी में मिलती है। उफान के साथ आये भारी बोल्डरों ने यहाँ शांति बाजार में तबाही मचा दी। यहां मौजूद आई टी आई की तीन मंजिला बिल्डिंग इसकी जद में आ गयी। यहाँ मौजूद सुरक्षाकर्मी दीवान सिह ने कूद कर अपनी जान बचाई।

 

कोरोना कर्फ्यू न होता तो होती बड़ी जनहानि

बाजार में कम्प्यूटर सेंटर, बैंक, बिजली, फोटो आदि की दुकानें भी ध्वस्त हो गयी। उधर शांता नदी पर बनी पुलिया ,रास्ता सहित उससे सटी ज्वैलर्स, कपड़े, मिठाई आदि की दुकाने भी उफान की भेट चढ़ गयी। शांति बाजार में लगभग करोडो के नुकसान अनुमान लगाया जा रहा है। पुलिस को यहां अभी तक किसी के हताहत होने की सूचना नही है। अगर कोरोना कर्फ्यू की स्थिति नही होती तो यहां बड़ी संख्या में जन हानि हो सकती थी।

यह भी पढ़े- उत्तराखंड में दूसरे राज्यों से सप्लाई हो रही है ऑक्सीजन

कोरोना काल में गरीबों की मुसीबतें बढ़ती जा रही है

Listen to this article

कोरोनाकाल में गरीब तबके की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। पहले ही लॉकडाउन के चलते ज्यादातर लोग बेरोजगार हो चुके हैं। थोड़ी बहुत जमापूंजी से जो लोग अपना परिवार पाल रहे हैं वह भी बैंकों की मनमानी से परेशान है। बैंक से रुपये न निकलने से परेशान ऐसी ही भीड़ ने आज सौरिख में जाम लगा दिया।

कन्नौज के सौरिख नगर की बैंक आफ इंडिया शाखा के खाताधारक कई दिनों से रुपये न निकलने परेशान हैं। ग्रामीण क्षेत्रों के यह खाताधारक जनता कर्फ्यू में अपनी जमापूंजी निकालने कई दिन से बैंक आ रहे हैं, लेकिन बैंक कर्मचारी उन्हें कोई न कोई बहाना बनाकर रोज वापस कर देते हैं। आज जब परेशान खाताधारक बैक पहुंचे तो भीड़ देख बैंक सुरक्षाकर्मियों मेनगेट ही बंद कर दिया। गेट बंद होने से आक्रोशित खाताधारकों ने सौरिख छिबरामऊ रोड जाम कर दिया। जाम की सूचना पर पहुंची पुलिस भीड़ को समझाने में जुटी हुई है।

 

– मीना छेत्री

 

यह भी पढ़े- उत्तराखंड में दूसरे राज्यों से सप्लाई हो रही है ऑक्सीजन

कार हादसे में आप और कांग्रेस नेता समेत एक की मौत

Listen to this article

पंजाब के फतेहगढ़ साहिब में सोमवार देर रात एक हादसे में 3 लोगों की मौत हो गई। हादसा उस वक्त हुआ, जब AAP और कांग्रेस के एक-एक नेता अपने तीसरे दोस्त के साथ किसी कााम से चंडीगढ़ जा रहे थे। अचानक उनकी कार की एक ट्रक के साथ हो गई। हादसे के बाद कार ट्रक के नीचे जा घुसी। पता चलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने कार की बॉडी को तोड़कर तीनों को बाहर निकाला।

दो की मौके पर ही मौत हो गई, वही तीसरे ने अस्पताल ले जाने के बाद दम तोड़ दिया। मृतकों की पहचान संगरूर जिले के धूरी निवासी संदीप सिंगला, मनदीप सिंह ढींढसा और लुधियाना के विजय अग्निहोत्री उर्फ गोल्डी के रूप में हुई है। इनमें संदीप सिंगला आम आदमी पार्टी (AAP) की ट्रेड विंग के पदेश उपाध्यक्ष थे, वहीं विजय अग्निहोत्री कांग्रेस नेता थे। पता चला है कि तीनों सोमवार देर रात किसी काम के चलते लुधियाना से चंडीगढ़ जा रहे थे।

देर रात हुआ हादसा
करीब साढ़े 12 बजे लुधियाना-खरड़ नेशनल हाईवे पर फतेहगढ़ साहिब जिले के गांव राणवां के महेशपुरा T-प्वाइंट के पास इनकी कार रॉन्ग साइड से आ रहे एक ट्रक के नीचे घुस गई। इस बारे में खमाणों के थाना प्रभारी हरमिंदर सिंह ने बताया कि हादसे के बाद ट्रक चालक मौके से फरार हो गया है। ट्रक को कब्जे में लेकर चालक की तलाश की जा रही है। वहीं पोस्टमॉर्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिए जाएंगे।

-शिवानी माजिला

 

यह भी पढ़े-ऑक्सीजन प्लांट अचानक फेल होने से कोरोना मरीजों की अटकी सांसें

राघव जुयाल ने दून पुलिस को दिए तीन आक्सीजन कंसन्ट्रेटर मशीन

Listen to this article

कोरोना वायरस के संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान विपदा की इस घड़ी में विभिन्न सामाजिक संगठनों, स्वयंसेवी संस्थाओं तथा व्यक्तियों द्वारा आगे आते हुए दून पुलिस को सहयोग प्रदान करने की इच्छा जाहिर की गई है। इसी क्रम में टीवी इंडस्ट्री के मशहूर कलाकार राघव जुयाल द्वारा क्षेत्राधिकारी नगर से संपर्क स्थापित कर दून पुलिस के लिए खालसा ग्रुप के माध्यम से तीन ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर मशीन उपलब्ध कराई गई है। जल्द ही पुलिसकर्मियों के लिए और भी ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीनें उपलब्ध कराने की बात कही गई।

राघव जुयाल की ओर से पुलिस कर्मीयों के लिए दी उक्त मशीनों के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने उनका आभार व्यक्त किया। साथ ही अन्य लोगों से भी विपदा की इस घड़ी में आगे आते हुए जरूरतमंद लोगों की सहायता करने का अनुरोध किया गया है।

बता दें कि ऑक्सीजन कंसंट्रेटर एक पोर्टेबल मशीन है, जो बिजली की मदद से चलती है। यह बीमार व्यक्तियों के लिए हवा से ऑक्सीजन बना सकती है। कोरोना संक्रमित होने पर ऑक्सीजन का स्तर कम होने पर कर्मचारी या उनके परिवार के सदस्य ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन का लाभ उठा सकेंगे।

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े-कोविड काल में गाढ़ा हुआ सियासी रंग