अदनान सामी: पद्मश्री देने पर संग्राम जारी, राज ठाकरे और कांग्रेस के बाद अब NCP ने दिया बड़ा बयान

Share

जाने-माने गायक अदनान सामी को पद्मश्री दिए जाने पर अब विवाद काफी आगे बढ़ चुका है। राज ठाकरे की पार्टी एमएनएस और कांग्रेस की आपत्ति के बाद अब शरद पवार की पार्टी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) ने सामी को पद्मश्री दिए जाने पर सवाल उठाया है।

महाराष्ट्र के मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक ने गायक-संगीतकार अदनान सामी को पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किए जाने पर कहा, ‘यह साफ-साफ ऐसा मामला है कि पाकिस्तान से आने वाला कोई शख्स ‘जय मोदी’ बोलेगा, तो उसे भारत की नागरिकता के साथ-साथ पद्मश्री पुरस्कार भी दिया जाएगा… यह देशवासियों का अपमान है।

 

 

इससे पहले कांग्रेस ने तंज कसते हुए कहा कि अब ‘बीजेपी सरकार की चमचागिरी’ यह प्रतिष्ठित सम्मान दिए जाने का नया मानदंड बन गया है। पार्टी प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने यह सवाल भी किया कि ऐसा क्यों हुआ कि कारगिल युद्ध में शामिल हुए सैनिक सनाउल्लाह को ‘घुसपैठिया’ घोषित कर दिया गया, जबकि उस सामी को पद्म सम्मान दिया जा रहा है जिसके पिता ने पाकिस्तानी वायुसेना में रहकर भारत के खिलाफ गोलाबारी की थी?

शेरगिल ने एक वीडियो जारी कर कहा कि भारतीय सेना के वीर सिपाही और भारत माता के पुत्र मोहम्मद सनाउल्लाह, जिन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ कारगिल की लड़ाई लड़ी उनको एनआरसी के जरिए घुसपैठिया घोषित कर दिया गया। दूसरी तरफ अदनान सामी को पद्मश्री से नवाज दिया गया जिनके पिता पाकिस्तानी वायुसेना में अफसर थे और भारत के खिलाफ गोलाबारी की थी।

उन्होंने सवाल किया कि पाक के खिलाफ लड़ने वाला भारत का सिपाही घुसपैठिया और पाक वायुसेना के अफसर के बेटे को सम्मान क्यों? क्या पद्मश्री के लिए समाज में योगदान जरूरी है या सरकार का गुणगान? क्या पद्मश्री के लिए नया मानदंड है कि करो सरकार की चमचागिरी, मिलेगा तुमको पद्मश्री?’’ गौरतलब है कि कुछ साल पहले भारत की नागरिकता हासिल करने वाले सामी को इस साल पद्मश्री सम्मान देने की घोषणा की गई है। सामी पहले पाकिस्तानी नागरिक थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *