Home मनोरंजन ऑर्डिनरी से एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी बनने की कहानी है, शकुंतला देवी

ऑर्डिनरी से एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी बनने की कहानी है, शकुंतला देवी

17 second read
0
0
39
Share

‘अगर एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी बन सकती हूं, तो ऑर्डिनरी से क्यों मैनेज करना।’ यही लाइफ मोटो था मानव कंप्यूटर शकुंतला देवी का। इसी ऊर्जा के साथ शकुंतला देवी फिल्म में विद्या बालन शकुंतला देवी का किरदार निभाती नजर आ रही हैं। फिल्म का हर सीन विद्या बालन के मजाकिया अंदाज और भरपूर आत्मविश्वास से भरा हुआ है। और अगर आपने कभी शकुंतला देवी के लाइव परफॉर्मेंस या यूट्यूब वीडियो देखे हों, तो आपको थोड़ी बहुत समानता मिल ही जाएगी। फिल्म की कहानी शकुंतला देवी की जिंदगी से जुड़े हुए पहलुओं को समेटते हुए चलती है। सानिया मल्होत्रा और विद्या बालन की मां-बेटी की जोड़ी फिल्म का एक मजबूत हिस्सा है। फिल्म का डायरेक्शन अनु मेनन ने किया है और प्रोड्यूस सोनी एंटरटेनमेंट नेटवर्क ने  किया है। कोरोना वायरस लॉकडाउन के चलते फिल्म को ओटीटी प्लेटफॉर्म, अमेजॉन प्राइम पर रिलीज किया गया है। अगर आप इस फिल्म को देखने के लिए इस प्लेटफार्म को सब्सक्राइब करते हैं तो आपका पैसा पूरी तरह वसूल होगा।

अगर कहानी की बात करें तो फिल्म मां और बेटी के रिश्ते पर आधारित है और एक औरत (शकुंतला देवी) की जिंदगी के विभिन्न पहलुओं को छूती है। शकुंतला देवी जिनका जन्म गुलाम भारत के बेंगलुरु में हुआ था, वह गरीब परिवार की सबसे छोटी लड़की हैं। स्कूली शिक्षा के अभाव में भी उनकी गणित की प्रतिभा अप्रतिम है और इसी को देखते हुए उनके पिता उन्हें गणित से जुड़े स्टेज शो करवाते हैं, जिससे उनका परिवार चलता है। पर अपनी बहन की किसी बीमारी से मौत होने के बाद शकुंतला देवी अपने परिवार से नाराज होकर अपना करियर बनाने के लिए अलग रास्ता ढूंढती हुई, लंदन चली जाती  हैं। शकुंतला की नाराजगी का प्रमुख कारण उनकी मां का चुप रहना है। बड़ा अजीब सच है ये समाज का कि एक मां को सफल औरत बनने के लिए उतनी ही कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है जितना किसी नोबेल प्राइज विनर को अपनी प्रतिभा को निखारने में करना पड़े।

शकुंतला देवी की कहानी भी इसी विषय के आसपास घूमती नजर आती है। मैथमेटिकल शो और वर्ल्ड टूर कर अपने गणित विषय पर अपनी मजबूत पकड़ की प्रतिभा का लोहा मनवाने के बाद शकुंतला कोलकाता के प्रत्यूष बनर्जी से विवाह करती हैं। पर, फिर प्रश्न वही खड़ा होता है की शकुंतला मां और जीनियस एक साथ कैसे बन सकेंगी, यही चुनौती आगे चलकर शकुंतला की बेटी अनु को भी झेलनी पड़ती है। अगर आपको कहानी का अंत जानना है तो इस फिल्म को जरूर देखना चाहिए। फिल्म में कॉमिक टाइमिंग और ब्रिलियंट डायलॉग के अलावा मजबूत कहानी और अच्छे कलाकार भरे हैं। अगर आपको विद्या बालन के इससे पहले निभाए हुए किरदार पसंद आए हैं तो यह फिल्म आपके लिए पैसा वसूल साबित होगी।

 

Story by – Vikas Tripathi (Varanasi, Uttar Pradesh)

Load More Related Articles
Load More By HNN News Desk
Load More In मनोरंजन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

वाराणसी में कोरोना का कहर जारी, एक्टिव केसों की संख्या बढ़कर हुई 1719

Share       प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र  वाराणसी जनप…