Home राष्ट्रीय भारत पहुंचा दुनिया का सबसे ताकतवर लड़ाकू विमान ‘राफेल’, जानिए क्या हैं इस लड़ाकू विमान की खूबियां

भारत पहुंचा दुनिया का सबसे ताकतवर लड़ाकू विमान ‘राफेल’, जानिए क्या हैं इस लड़ाकू विमान की खूबियां

12 second read
0
0
37
Share

आखिरकार लंबे इंतजार के बाद दुनिया का सबसे ताकतवर फाइटर जेट राफेल भारत पहुंच गया है। आज दोपहर 3: 15 बजे, पांच राफेल विमानों ने लगभग 7000 किलोमीटर का सफर पूरा करते हुए अंबाला एयरफोर्स स्टेशन पर लैंडिंग की। भारतीय वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर.के.एस. भदौरिया ने राफेल विमानों की रिसीविंग की। प्राप्त जानकारी के मुताबिक अगस्त के दूसरे हफ्ते दुनिया का सबसे ताकतवर लड़ाकू विमान औपचारिक रूप से भारतीय सैन्य बेड़े में शामिल हो जाएगा। राफेल के आने से वायु सेना की ताकत कई गुना बढ़ गई है। चीन के साथ लद्दाख सीमा पर चल रहे तनाव के बीच रफेल का भारतीय सैन्य बेड़े में शामिल होना बेहद अहम माना जा रहा है। 4.5 जेनरेशन वाला रफेल विमान दुनिया के सबसे बेहतरीन लड़ाकू विमानों में से एक माना जाता है। इसकी सबसे बड़ी खूबी यह है कि ये एक ही उड़ान में कई अभियानों को अंजाम दे सकता है।

3700 किलोमिटर प्रतिघंटा की क्षमता के साथ, खाली राफेल का वजन 10-टन है। इस लड़ाकू विमान में 14 हार्ड प्वाइंट हैं, जिनमें से पांच टैंक और भारी आयुध ले जाने में सक्षम हैं। राफेल विमान अपने वजन के बराबर भार उठाने में सक्षम है।

यह अधिकतम 24.5 टन भार के साथ उड़ान भर सकता है और यह लड़ाकू विमान आंतरिक स्तर पर 4.7 टन ईंधन और बाहरी स्तर पर 6.6 टन ईंधन ले जा सकता है।

यह ध्वनि की गति से लगभग दोगुनी अधिकतम रफ्तार के साथ ड्रैग-शूट के बिना भी 450 मीटर लैंडिंग ग्राउंड पर उतर सकता है।

अचूक मारक क्षमता के लिए जाना जाने वाला राफेल विमान हवा से हवा में और हवा से जमीन पर निशाना लगाने में सक्षम है। राफेल विमान में मीटियॉर मिसाइल लगी है जो हवा से हवा में 150 किलोमीटत तक मार कर सकती है। राफेल में लगी दूसरी मिसाइल का नाम स्काल्प मिसाइल है जिसकी मारक क्षमता 600 किलोमीटर है। तीसरी मिसाइल हैमर मिसाइल है जिसकी मारक क्षमता 60 से 70 किलोमीटर बताई जा रही है। राफेल दक्षिण एशिया में अब तक का सबसे शक्तिशाली विमान है, जो पाकिस्तान के एफ-16 और चीन के जेएफ-20 से भी ज्यादा मारक है। अफगानिस्तान, लीबिया, इराक और सीरिया में हुए संघर्ष में राफेल की युद्धक क्षमता पूरी दुनिया देख चुकी है। गौरतलब है कि भारत ने फ्रांस के साथ 36 राफेल विमानों का करार किया है। इस करार के तहत पांच विमानों की पहले खेप भारत पहुंची है। बाकी के 31 विमान वर्ष 2022 से  पहले भारत पहुंच जाएंगे।

Load More Related Articles
Load More By HNN News Desk
Load More In राष्ट्रीय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

वाराणसी में कोरोना का कहर जारी, एक्टिव केसों की संख्या बढ़कर हुई 1719

Share       प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र  वाराणसी जनप…