बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी का जन्‍मदिन, जानें उनसे जुड़ी कुछ खास बातें

ममता बनर्जी
Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

आज बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी का जन्‍मदिन है। अपनी सादा जीवनशैली के कारण वो राजनीति में भी अपनी अलग पहचान रखती हैं।

5 जनवरी 1955 को कोलकाता में जन्‍म लेने वाली ममता केंद्र में दो बार रेल मंत्री रह चुकी हैं।

उन्‍हें देश की पहली महिला रेल मंत्री बनने का गौरव प्राप्‍त है। उनके समर्थक उन्‍हें दीदी कहकर बुलाते हैं।

100 प्रभावशालीलोगों की सूची में शामिल

ममता बनर्जी केंद्र सरकार में कोयला, मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री, युवा मामलों और

खेल के साथ ही महिला व बाल विकास की राज्य मंत्री भी रह चुकी हैं।

2011 में उन्‍होंने पश्‍चि‍म बंगाल में 34 वर्षों से सत्ता पर काबिज वामपंथी मोर्चे का सफाया किया,

जिसके बाद 2012 में प्रतिष्‍ठि‍त ‘टाइम’ मैगजीन ने उन्हें ‘

विश्व के 100 प्रभावशाली’ लोगों की सूची में स्थान दिया था।

सादा जीवन, हवाई चप्‍पल और सूती थैला

अपने अब तक के राजनीतिक जीवन में ममता ने सादा जीवन शैली ही अपनाई।

वे हमेशा ही परंपरागत बंगाली सूती की साड़ी (जिसे तंत कहा जाता है) पहनती हैं।

उन्‍हें कभी कोई आभूषण या श्रृंगार प्रसाधन का इस्‍तेमाल करते नहीं देखा गया है।

उनकी सादगी की मिसाल इस बात से दी जाती है कि वो घर पर सादगी के साथ जीवन जीती हैं

और हमेशा हवाई चप्‍पल ही पहनती हैं। वे अपने जीवन में अविवाहित रही हैं।

उनके कंधे पर आमतौर पर एक सूती थैला भी नजर आता है, जो उनकी पहचान बन गया है।

ममता बनर्जी बचपन से ही करती आई है संघर्ष

ममता बनर्जी अपने स्कूली दिनों से ही राजनीति से जुड़ी हुई हैं।

सत्तर के दशक में उन्हें राज्य महिला कांग्रेस का महासचिव बनाया गया।

उस समय में वे कॉलेज में पढ़ ही रही थीं। ममता के पिता स्वतंत्रता सेनानी थे

और जब वह बहुत छोटी थीं, तभी उनकी मृत्यु हो गई थी।

उनके बारे में बताया जाता है कि गरीबी से संघर्ष करते हुए उन्‍हें दूध बेचने का काम भी करना पड़ा था।

उनके लिए अपने छोटे भाई-बहनों के पालन-पोषण में, अपनी मां की मदद करने का यही अकेला तरीका था।

बचपन से ही मेहनती और ईमानदार छवि के साथ राजनी‍ति‍ में प्रवेश करना चाहती थीं।

दक्षिण कोलकाता के जोगमाया देवी कॉलेज से ममता बनर्जी ने इतिहास में ऑनर्स की डिग्री हासिल की।

बाद में कलकत्ता विश्वविद्यालय से उन्होंने इस्लामिक इतिहास में मास्टर डिग्री ली।

श्री शिक्षायतन कॉलेज से उन्होंने बीएड की डिग्री ली,

जबकि कोलकाता के जोगेश चंद्र चौधरी लॉ कॉलेज से उन्‍होंने कानून की पढ़ाई की थी।

 

 

-शिवम वालिया

 

यह भी पढ़ें-उत्तराखंड में कोरोना संकट के बीच एक और बीमारी का खतरा मंडराया

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Etawah

इटावा मे सपा के भाई की गोली मार कर हत्या

Listen to this article

 

उत्तरप्रदेश के इटावा मे देर रात एक सपा नेता के भाई की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

बदमाशों ने इस घटना को भाजपा की विधायक सरिता भदौरिया के घर से कुछ दूर

अंजाम दिया। मौके पर पंहुची पुलिस और फॉरेंसिक टीम को मौके पर काफी खाली

खोके बरामद हुए। पुलिस टीम को शक है की ये हत्या एक हमलावर ने नहीं बल्कि

काफी सारे हमलावरों ने करी है। मरने वाले की पत्नी ने चुनावी रंजिश बताते हुए

मोहल्ले के कुछ लोगों पर  शक जताया है।

ये पूरी घटना सदर कोतावली क्षेत्र के कबीरगंज मोहल्ले की है।

जो की मरने वाले के घर से कुछ ही दूर था। देर रात गुरुवार वह बाइक से घर जा रहे थे।

लेकिन घर से बस 50 मीटर दूर ही हमलावर घात लगा कर बेठे थे, और मोनू के

आते ही उन्होंने उस पर हमला कर दिया। मरने वाले की पहचान सपा नेता विमल

वर्मा के भाई मोनू उर्फ जितेंद्र वर्मा(34 वर्ष) की गई है। हमलावरों ने मोनू पर

ताबड़तोड़ गोलिया चलाई, मोनू तीन गोली लगते ही मौके पर ही नीचे गिर गया था।

फायरिंग की आवाज सुनते ही आस पड़ोस के लोग सब बहार आए, मोनू की बीवी निधि

वर्मा भी मौके पर पहुंची। लेकिन जब तक निधि आई तब तक मोनू की मौत हो चुकी थी। इसके बाद हमलावार मौके से फरार हो गए।

 

-शिवानी माजिला

 

 यह भी  पढ़े- 2021 माघ पूर्णिमा स्नान पर लाखों श्रद्धालुओं की पहुंचने की संभावना

Killer

पति ही निकला पत्नी का कातिल

Listen to this article

उत्तर प्रदेश के मेरठ से एक ऐसा मामला सामने आया है,

जिसने पति-पत्नी के रिश्ते पर सवाल खड़े कर दिए हैं।

50 लाख की बीमा राशि और पत्नी से छुटकारा पाने के लिए

पति ने उसका मर्डर कराया।  पड़ोस में रहने वाले डॉक्टर ने पति के

कहने पर शिक्षिका की तकिये से मुंह दबाकर हत्या की।

पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

एक पति को अपनी पत्नी की हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस ने बताया कि 50 लाख रुपये की बीमा की राशि का दावा

करने के लिए शख्स ने अपनी पत्नी का मर्डर करवाया।

शिक्षिका चंदा अरोड़ा (40) की शादी जून 2012 में मेरठ के शास्त्रीनगर

सेक्टर-2  में रहने वाले टेंच व्यवसायी संजय लूथरा से हुई थी।

बीते 20 फरवरी की रात चंद्र की संदिग्ध हालात में मौत हो गई।

डेड बॉडी डीप फ्रीजर में रखी मिली । परिजनों ने चंदा के ससुरालवालों पर हत्या का आरोप लगाया था।

21 फरवरी को शव का पोस्टमार्टम हुआ। जिसमें मौत की वजह स्पष्ट नहीं हुई।

पुलिस ने बिसरा व हार्ट प्रिजर्व कर लिया।

रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने कोई केस दर्ज नहीं किया।

 

डॉक्टर ने की हत्या


संजय लूथरा के अनुसार, उसने पड़ोसी डॉक्टर रजत भारद्वाज को ब्याज

पर 1.35 लाख रुपए उधार दिए थे। डॉक्टर द्वरा पैसे ना लौटाए

जाने पर संजय ने डॉक्टर से कहा कि अगर वह उसकी पत्नी का मर्डर कर देगा

तो रुपए नहीं मांगेगा। देनदारी से बचने के लिए डॉक्टर तैयार हो गया।

संजन ने 20 फरवरी की रात पत्नी को नींद की गोलियां दी।

रात करीब पौने 2 बजे पड़ोसी डॉक्टर छत के रास्ते उसके घर में आया।

उस वक्त चंदा सो रही थी। डॉक्टर ने तकिये से मुंह दबाकर चंदा को मार डाला।

 

सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े- दुष्कर्म के इरादे से अपहृत की गईं थीं बच्चियां

 

Rape

दुष्कर्म के इरादे से अपहृत की गईं थीं बच्चियां

Listen to this article

शाहजहांपुर के कांट थाना क्षेत्र के एक गांव में अपहरण के बाद एक बच्ची की हत्या

और एक को मारते हुए का मामले सामने आया है। आशंका जताई जा रही है

कि दोनों बहनों को कोई परिचित ही बरगलाकर खेतों की ओर ले गया और

बड़ी बहन से दुष्कर्म की कोशिश की हैं। छोटी बहन की मौके पर ही मौत हो गई थी।

रात लगभग आठ बजे गांव से करीब एक किलोमीटर दूर उसकी छोटी

पोती का शव एक खेत में मिला। बड़ी बहन बरेली के एक निजी अस्पताल में मौत से जूझ रही है।

बेटियों के बाबा ने अज्ञात हमलावर के खिलाफ कांट थाने में एफआईआर दर्ज कराई है।

बाबा के मुताबिक उसकी पांच और सात साल की दो पोतियां सोमवार दोपहर

करीब साढ़े तीन बजे प्राथमिक स्कूल के पास बने सरकारी नल के पास देखी गईं थीं ।

इसके बाद दोनों लापता हो गईं ।  शाम छह बजे तक दोनों के वापस न

आने पर उन लोगों ने दोनों की खोज शुरू की। रात लगभग आठ बजे

गांव से करीब एक किलोमीटर दूर उसकी छोटी पोती का शव एक खेत में मिला।

इसके बाद पुलिस को सूचना दी तो वह मौके पर पहुंची।

पुलिस के साथ काफी देर तक तलाशने के बाद रात

करीब 11 बजे दूसरी पोती 1 मीटर दूर बुरी तरह से घायल हुई पड़ी थी।

पुलिस ने आननफानन में उसे मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया ।

यहां डॉक्टरों की टीम ने उसका प्राथमिक उपचार किया।

मंगलवार सुबह करीब 10 बजे बेहतर इलाज के लिए उसे बरेली के एक निजी

मेडिकल कॉलेज के लिए भेजा गया। छोटी बच्ची के शव का

डॉक्टरों के पैनल से पोस्टमार्टम कराया गया है।

 

-सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े- BJP के नेता ने खुद को मारी गोली

 

suicide

BJP के नेता ने खुद को मारी गोली

Listen to this article

BJP के नेता ने खुद को गोली मारी है, बेटे की मौत के बाद से भाजपा नेता सदमें थे,

जिसकी वजह से उन्होंने गोली मारकर आत्महत्या कर ली। गोली की आवाज

सुनते ही परिजनों ने घर के अंदर देखा तो, भाजपा नेता की लाश पड़ी थी।

उनकी पत्नी गर्भवती है। भाजपा नेता को एक संतान को खोने का गम

तो घर में आने वाली संतान की खुशी भी थी। मौत के बाद पत्नी

और परिवार के अन्य सदस्य गहरे सदमें में हैं।

 

पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा

 

थाना पुवायां क्षेत्र के मुड़िया कुरमियात निवासी ललित मिश्रा भाजपा के मंडल उपाध्यक्ष थे ।

उन्होंने घर में खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली ।

गोली तेज आवाज सुनकर स्थानीय लोगों और परिवार ने घर में देखा तो,

भाजपा नेता की लाश पड़ी थी। उसके बाद पुलिस को सूचना दी गई।

पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

 

-सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े- क्या है वह सीक्रेट मैसेज जो लिखा था नासा के रोवर में

 

 

CM yogi

मंडराया कोरोना का संकट सीएम योगी बोले संकट अभी टला नहीं

Listen to this article

जहां देश के अन्य राज्यों में कोरोना संक्रमण बढ़ रहे वहीं यूपी में कोरोना

से संक्रमित लोगों संख्या कम होती जा रही हैं, बीते 15 दिनो में 32

फीसद कोरोना रोगी कम होते नजर आ रहे हैं। नौ फरवरी को प्रदेश में

3,306 एक्टिव केस थे और अब यह घटकर 2,268 रह गए हैं।

यानी 1,038 मरीज कम हुए हैं। हालाकि देश में जहां मध्य प्रदेश, माहाराष्ट्र

और पंजाब जेसे अन्य राज्यों में बढ़ रहे कोरोना मामलों देखते हुए सीएम योगी

आदित्यनाथ ने अभी पूरी सावधानी बरतने के लिए कहा हैं। इस बीच राज्य

में बीते चौबीस घंटों को दौरान 1.23 लाख लोगों का कोरोना टेस्ट किया गया

तो 108 नए रोगी मिले। वहीं, 24 घंटे में 202 मरीज स्वस्थ भी हुए।

साथ ही उन्होंने अधिकारियों को भी सावधानि बरतने के लिए निर्देश दिए है

आगे सीएम बोले जिलों में इंटीग्रेटेड कोविड कमांड सेंटर एंड कंट्रोल

रूम में डीएम और सीएमओ को दो बार बैठक करने को कहा साथ ही सीएम

योगी ने कोरोना प्रोटोकाल का सख्ती से पालन करने के आदेश दिए

और आगे CM योगी बोले  टेस्टिंग और कांटेक्ट ट्रेसिंग पर पूरा ध्यान देने के लिए कहा हैं।

कार्यालयों में कोविड-19 हेल्प डेस्क पूरी तरह सक्रिय रहें और अस्पतालों में व्यवस्था सही रखी जाए।

लोगों को दो गज की शारीरिक दूरी बनाए रखें और साथ में सख्ती

से पालन करने और सैनिटाइजेशन का काम समय-समय पर इस्तेमाल करने के निर्देश दिए।

 

-मीना छैत्री

 

यह भी पढ़े- सीएम हेल्पलाइन को हुए दो साल,51 हजार में से केवल 248 शिकायतों का मिला समाधान

 

 

 

vidhan sabha

विधानसभा और विधान परिषद की कार्यवाही में उठा घटिया PPE किट सप्लाई का मुद्दा

Listen to this article

यूपी में विधानसभा और विधान परिषद की कार्यवाही जारी है।

कांग्रेस MLC (member of legislative council) दीपक सिंह ने

कोरोना काल मे घटिया PPE किट सप्लाई का मुद्दा उठाया।

सरकार का माना है कि मेडिकल कॉलेज मेरठ, ग्रेटर नोएडा और

आगरा में PPE में कमियां थीं, जो मानक के अनुसार नहीं थी।

सदन में विधानसभा की कार्यवाही जारी है। कार्यवाही के दौरान

समाजवादी पार्टी के विधायक शैलेन्द्र यादव ने जौनपुर में हुई युवक की हत्या के

मामले को लेकर नियम 311 के तहत चर्चा की मांग उठाई।

इसके अलावा विधायक आजाद अरिमर्दन ने भी विधानसभा में सवाल उठाए।

मंत्री के जवाब से विपक्ष असंतुष्ट

विधायक आजाद अरिमर्दन ने बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी से

प्रेरकों को लेकर सवाल उठाया। उन्होंने कहा है क्या प्राथमिक

विद्यालयों पर तैनात ग्राम शिक्षा प्रेरकों की सेवाएं समाप्त कर दी गई हैं?

क्या सरकार ग्राम शिक्षा प्रेरकों की बहाली कराते हुए।

उनके बकाया मानदेय का भुगतान करेगी? बेसिक शिक्षा मंत्री

सतीश द्विवेदी के जवाब से विपक्ष असंतुष्ट नजर आया।

 

 -सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े- घर में अकेली थी महिला पति के दोस्त ने किया रेप