क्या सर्दियों के मौसम में आ सकती है कोरोना महामारी की सेकेंड वेव ?

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

कोरोना महामारी ने पूरे विश्व में हाहाकार मचाया हुआ है। तमाम कोशिशों के बावजूद कोरोना वायरस संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। भारत की बात करें तो अब तक 71 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। इस बीच कोरोना महामारी को लेकर एक आशंका जताई जा रही है कि सर्दियों के मौसम में वायरस का संक्रमण और तेजी से फैल सकता है।

मीडिया में आई कुछ रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि सर्दियों के मौसम में कोरोना वायरस का प्रकोप और बढ़ सकता है। बीते रविवार (11 अक्टूबर) तो केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने कहा कि भारत में भी ऐसी आशंकाओं से इनकार नहीं किया जा सकता है।

रविवार को आयोजित होने वाले सोशल मीडिया इंटरेक्शन कार्यक्रम ‘संडे संवाद’ में उन्होंने कहा कि सॉर्स कोव-2 (SARS-CoV-2) एक रेस्पिरेट्री वायरस है और इस तरह के वायरस ठंड के मौसम में अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने कहा कि रेस्पिरेट्री वायरस ठंड के मौसम और कम आर्द्रता की स्थिति में तेजी से पनपते हैं। ऐसे में इस आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता कि सर्दियों के मौसम में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों की संख्या में तेजी आ सकती है।

डॉक्टर हर्षवर्धन ने ब्रिटेन तथा अन्य यूरोपीय देशों का जिक्र करते हुए कहा कि सर्दियों के मौसम में वहां कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी देखी गई थी।

डॉक्टर हर्षवर्धन ने अपील की कि सर्दियों के मौसम में लोग ज्यादा सावधानी बरतें। उन्होंने कहा, ‘इसे मेरी चेतावनी समझ लें या फिर सलाह, लेकिन अगर त्योहारों के दौरान हमने लापरवाही बरती तो कोरोना फिर से विकराल हो जाएगा। इसलिए मैं कहूंगा कि त्योहारों के दौरान ‘दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी’ का पालन जरूर करें। बाहर जाने के बजाय घर पर रहकर परिवार के साथ त्योहार मनाएं।’

कोरोना से निपटने के प्रयासों की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि देश में वैज्ञानिकों की उच्च स्तरीय टीम कोरोना वैक्सीन तैयार करने की दिशा में जुटी हुई है। उन्होंने उम्मीद जताई कि अगले साल जुलाई तक देश में कोरोना वैक्सीन आ जाएगी।

इस बीच कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के डायरेक्टर डॉक्टर रणदीप गुलेरिया के हवाले से कहा गया है कि प्रदूषण के स्तर में वृद्धि होने से भी कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ सकते हैं। प्रदूषण के पीएम 2.5 स्तर में मामूली बढ़ोतरी भी कोरोना वायरस के मामलों को 8-9 फीसदी तक बढ़ा सकती है।

 

क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स ?

जानकारों की मानें तो सर्दियों के मौसम में कोल्ड-फ्लू के मामले बड़ी तेजी से सामने आते हैं। ऐसे में जबकि भारत में सर्दी का मौसम दस्तक दे चुका है, तब कोरोना के प्रकोप को लेकर चिंता स्वाभाविक है। कुछ वैज्ञानिकों का दावा है कि दुनिया के जिन देशों में सर्दी दस्तक दे चुकी है उन देशों को कोरोना वायरस की ‘सेंकेंड वेव’ का सामना करना पड़ सकता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि यदि ऐसा हुआ तो यह बहुत बड़ा संकट होगा। आशंका जताई जा रही है कि सेकेंड वेव का सामना करने वालों देशों में कोरोना महामारी पहले से कहीं अधिक जानलेवा हो सकती है।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वैज्ञानिकों ने ऐसे कई अध्ययन किए हैं जिनसे बदलते मौसम के साथ वायरस की संक्रमण क्षमता में आने वाले बदलावों का पता चला है। हालांकि कोरोना वायरस के मामले में अभी तक किसी ने इस तरह का कोई ठोस दावा नहीं किया है, मगर दुनियाभर में ऋतु परिवर्तन के साथ वायरसों के संक्रमण का अब तक का जो ट्रैंड है वह यही बताता है कि सर्दियों के मौसम में वायरस अधिक प्रभावी होते हैं।

दरअसल सर्दियों के मौसम में वायरस से होने वाली बीमारियों के मामले बढ़ जाते हैं। सर्दियों के मौसम में लोगों को सबसे ज्यादा सांस संबंधी दिक्कतें होती हैं।

इस बीच ब्रिटेन सरकार की एक रिपोर्ट में यह चेतावनी दी गई है कोरोना वायरस की सेंकेंड वेब पहले से कहीं अधिक जानलेवा साबित हो सकती है। पाकिस्तान सरकार ने भी सेकेंड वेब की आशंका जताते हुए अपने नागरिकों से ठंड के मौसम में अधिक सावधानी बरतने की अपील की है।

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक मामले मानसून के मौसम में जून से सितंबर के बीच सामने आए हैं। सितंबर के दूसरे पखवाड़े के बाद भारत में कोरोना के मामलों में कमी देखी गई है। ऐसे में देखने वाली बात होगी कि सर्दियां बढ़ने के साथ भारत में कोरोना का असर कितना रहता है। फिलहाल कोरोना वायरस संक्रमण से बचने का सबसे करगर उपाय सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क और साफ सफाई ही है।

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

डॉक्टर समेत 382 कोरोना संक्रमित, चार की मौत

डॉक्टर समेत 382 कोरोना संक्रमित, चार की मौत

तीन डॉक्टर समेत 382 कोरोना संक्रमित, चार की मौत

  • सहारनपुर में कोरोना के नए 38 केस मिले
  • शामली में भी 4 संक्रमित पाए गए
  • सबसे ज्यादा मेरठ में 1939 एक्टिव केस

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण कम होने का नाम नहीं ले रहा है।

संक्रमित लोगों की संख्या प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। मेरठ और आस-पास के जिलों में भी कोरोना ने रफ्तार पकड़ ली है।

बीते दिन तीन डॉक्टर समेत 382 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए और चार लोगों की मौत हुई।

बुधवार को कोरोना के कुल 5753 सैंपल्स की जांच की गई। 950 सैंपलों की जांच रिपोर्ट बाद में पता चलेगी।

122 मरीज डिस्जार्च हो गए 1,106 लोग होम आइसोलेशन में हैं। मेरठ में सबसे ज्यादा 1939 एक्टिव केस

हैं। मेडिकल कॉलेज में भी चार मरीजों की मौत हुई, जिसमें एक मेरठ का मरीज है।

डॉक्टर समेत 382 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए

बीते दिन सहारनपुर जिले में कोरोना जांच के बाद 38 नए केस मिले। इसके चलते कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 8641 तक पहुंच गया।

जिलाधिकारी अखिलेश सिंह के मुताबिक बुधवार को आई रिपोर्ट में कोरोना के

38 नये मामले सामने आए हैं, जिन्हें उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

कोरोना के दिन प्रतिदिन नये मरीज सामने आने से कोरोना मरीजों का आंकड़ा बढ़ते जा रहा है।

शामली में बुधवार को 4 कोरोना संक्रमित पाए गए जिससे शामली में अब कोरोना के 169 एक्टिव केस हो चुके हैं।

 

यह भी पढें-बाराबंकी में युवती को अगवा कर सामूहिक दुष्कर्म

गोरखपुर में 72 घंटे में मिले दो शव, मचा वबाल

उत्तर प्रदेश में प्रतिदिन हत्या के मामले बढ़ते जा रहे हैं।

ताज़ा मामला गोरखपुर का है, जहां 72 घंटे में दो लोगों का शव मिलने से इलाके मे दहशत फैल गई।

जानकारी के अनुसार, कहा जा रहा है कि दोनों शवों का आपस में कोई संबंध हो सकता है।

दोनों मृतकों की पहचान की जा रही है।

महिला के शव का पोस्टमार्टम मंगलवार को कराया गया था और

पुरुष का पोस्टमार्टम 72 घंटो के बाद किया जाएगा।

जानकारी के अनुसार पिपराइच थाना क्षेत्र के जंगलछत्रधारी टोला शाहपुर में शुक्रवार को

पुलिस ने अर्धनग्न हाल में एक महिला का शव मच्छरदानी के पास से बरामद किया गया था।

पुलिस के अनुसार, महिला का चेहरा जला दिया गया था

ताकि महिला को पहचानने में दिक्कत हो।

पुलिस द्वारा आंशका जताई जा रही है कि महिला की हत्या कर शव को नाले के किनारे फेंक दिया गया था।

महिला का शव दो-तीन दिन पुराना लग रहा है। महिला के शव का पोस्टमार्टम मंगलवार को किया गया था,

लेकिन महिला की पहचान अभी अज्ञात है।

पोस्टमार्टम के बाद पता चला कि महिला की हत्या उसके सिर पर वार करके की गई थी।

वहीं, महिला शव के 72 घंटे बाद मंगलवार को गुलरिहा थाना क्षेत्र में नाले के पास एक युवक का शव मिला।

जो करीब 6 से 7  दिन पुराना लग रहा था।

पुलिस आसपास के थाने में युवक की गुमशुदगी की रिपोर्ट जांच रही है।

पुलिस की जानकारी के अनुसार शव का पोस्टमार्टम 72 घंटो के बाद होगा।

दो शव मिलने के बाद इलाके में सनसनी फैली हुई है।

कोहरे के कारण हाईवे पर भीषण सड़क हादसा, दो की मौत

कोहरे के कारण हाईवे पर भीषण सड़क हादसा, दो की मौत

झांसी-मिर्जापुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर मऊ थाना क्षेत्र के सुराणा गांव के पास मंगलवार देर रात ट्रैक्टर और बाइक सवार युवकों की टक्कर हो गयी है।

स्थानीय लोगों द्वारा सूचना मिलने पर थानाध्यक्ष सुभाष चौरसिया पुलिस टीम के साथ घटना स्थल पर पहुंचे और तीनों को जिला अस्पताल ले गए।

अस्पताल ले जाते समय रास्ते में ही बाइक सवार अशोक और सोनू ने दम तोड़ दिया,

जबकी तीसरा युवक गंभीर रुप से घायल है।

पुलिस ने घायल को जिला अस्पताल में भर्ती कराया। तीनों युवक चित्रकूट के रहने वाले थे।

जानकारी के अनुसार, तीनों युवक अपने रिश्तेदार के यहां निमंत्रण पर जा रहे थे।

देर रात को सदर कोतवाली क्षेत्र के कंठीपुर निवासी अशोक कुमार,

पुत्र चुनना लाल आरख और कसहाई निवासी सोनू,

पुत्र बाल केश पहाड़ी के रामसुहावन के साथ बाइक से सखुआ गांव में निमंत्रण पर जा रहे थे।

जैसे ही इन युवकों की बाइक श्रद्धा मोड़ के पुलिया के पास पहुंची,

तभी आगे जा रही ट्रैक्टर-ट्रोली के कारण बाइक सवार युवकों का बैंलेस बिगड़ गया और बाइक हादसे का शिकार हो गई।

तीनों बाइक सवार लड़को ने हेलमेट नहीं पहना था।

मुमकिन है कि अगर हेलमेट पहना होता तो शायद आज तीनों जिंदा होते।

स्थानीय लोगों का कहना है कि कोहरा अधिक होने के कारण बाइक चालक को आगे जा रहा ट्रैक्टर नहीं दिखा,

जिस कारण बाइक उसे टकराकर हादसे का शिकार हो गयी।

सर्दी के मौसम में कोहरे के कारण और हेलमेट न पहनने के कारण लोग आय दिन सड़क हादसों का शिकार हो रहे हैं।

उत्तर प्रदेश- बाराबंकी में युवती को अगवा कर सामूहिक दुष्कर्म

बाराबंकी में युवती को अगवा कर सामूहिक दुष्कर्म

बाराबंकी  जिले के सुबेहा थाना क्षेत्र  में एक युवती को अगवा कर उसके साथ गैंगरेप का मामला सामने आया है।

इस मामले में बारांबकी  पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

उत्तर प्रदेश अपराध का गढ़ बनता जा रहा है।

प्रदेश में दुष्कर्म के मामले दिन प्रतिदिन बढ़ते ही जा रहे हैं।

मामला

घर से अगवा कर किया दुष्कर्म, परिवार वालों को भनक तक नहीं लगी

जानकारी के अनुसार  बाराबंकी में शनिवार की देर शाम 18 साल की युवती को दो युवकों ने उसके घर से अगवा कर लिया और गांव से कुछ दूर खेत में उसके साथ दोनों ने दुष्कर्म किया।

अपहरण के दौरान घर के दूसरे हिस्से में मौजूद युवती के छोटे भाई व नेत्र से दिव्यांग पिता को भनक तक नहीं लगी।

घटना का पता तब चला जब दूसरे राज्य में मजदूरी के लिए गई युवती के बड़े भाई ने देर शाम गांव में रहने वाले

एक रिश्तेदार को फोन कर बहन से बात कराने के लिए कहा, लेकिन युवती घर पर नहीं मिली।

इसके बाद ग्रामिणों ने पुलिस को सूचना दी। जिसके बाद ग्रामीण और पुलिस रात भर युवती की तलाश करते रहे।

रविवार को नहर के किनारे युवती बेहोशी की हालत में मिली।

सूचना पर एएसपी दक्षिण मनोज पांडेय भी मौके पर पहुंचे।

तहरीर मिलने पर  बाराबंकी पुलिस ने किया मामला दर्ज

पुलिस ने पीड़ित युवती का बयान दर्ज कर उसे चिकित्सीय परीक्षण के लिए जिला महिला अस्पताल भेजा।

पीड़िता के छोटे भाई की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

इस मामले में  बाराबंकी पुलिस ने मुदस्सिर और आरिफ नाम के दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने बताया कि दोनों पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे निर्माण में मिट्टी की पटाई के लिए जेसीबी चलाते थे और एक महीने से उसी गांव में ठहरे थे।

 

यह भी पढें-पेड़ से टकराई यूपी रोडवेज की बस 12  यात्री घायल

पेड़

पेड़ से टकराई यूपी रोडवेज की बस 12  यात्री घायल

पेड़ से टकराकर बस में सवार 12 यात्री घायल हुए

देश मे आए  दिन सड़क दुर्घटनाएं सामने आ रही है।  वही एक बेहद दर्दनाक घटना दक्षिण दिल्ली से सामने आई है।

जहां न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी इलाके में उत्तर प्रदेश रोडवेज की बस अनियंत्रित होकर पेड़ से जा टकराई।

जिसमें चालाक समेत 12 यात्री घायल हो गए। समय पर यात्रियों को दिल्ली के अखिल

भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है। यात्रियों की हालात  गंभीर बताई गई है।

जानकारी के मुताबिक चालक की झपकी लेने के कारण यह दुर्घटना हुई।

चालाक के अनुसार अगर दिन के समय यह घटना हुई होती तो यह ओर भी गम्भीर होती।

पुलिस का अधिकारीक बयान आना बाकी है।वहीं अन्य यात्रियों को अन्य बस से सराय काले खां पहुंचा गया।

यह बस यूपी के आगरा से सराय काले खां आ रही थी।

सड़क हादसे की खबर मिलने के बाद स्थानीय पुलिस जब वह पहुंची तो दुर्घटना स्थल में लोगों की चीख-पुकार मची बस के अन्य यात्री डरे सहमें हुए थे।

पुलिस की मद्द से जख्मी यात्रियों को बस से बाहर निकाला। पुलिस ने बताया उत्तर प्रदेश रोडवेज की

बस संख्या UP 85 AF 9583 मथुरा रोड स्थित सीआरपीएफ के पास मौजूद पेड़ से जा टकराई।

 

यह भी पढ़े-  मशरुम की खेती से 20 हजार युवाओं को जोड़ेगी सरकार

कोरोना पॉजिटिव दरोगा ने अस्पताल में काटी हाथ की नस , आत्महत्या की कोशिश

कोरोना पॉजिटिव दरोगा ने अस्पताल में काटी हाथ की नस

कोरोना पॉजिटिव दरोगा ने  पॉजिटिव रिपोर्ट आने के कारण आत्महत्या की कोशिश की है

कोरोना काल में अनेक लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही कई लोग अस्पातल से भागते और सुसाइड़ करने की कोशिश की है

यहीं कारण हैं कि कोरोना में सुसाइड़ के मामले दौगुने हो गये।

किसी ने आर्थिक तंगी के कारण तो किसी ने मानसिक तनाव के कारण  आत्महत्या की है ।

वही अलीगढ़ के उत्तर प्रदेश से एक गंभीर मामला सामने आया जहां एक दरोगा ने कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने के कारण आत्महत्या की कोशिश की है।

दरोगा दिनेश शहर के क़्वार्सी इलाके की सूर्य विहार कॉलोनी के रहने वाले है जो कि शाहजहांपुर में तैनात है।

दरोगा दिनेश की पॉजिटिव रिपोर्ट आने के पश्चात उन्हें अलीगढ़ जिले में दीनदयाल अस्पताल में भर्ती कराया गया था,

जानकारी के अनुसार अस्पातल में ही दिनेश दरोगा ने तनाव

में आने के कारण अपने हाथ की नस काट आत्महत्या करने की कोशिश की

खबर मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंची दारोगा के मोबाइल से उनके घर वालों  को पूरी जानकारी दी गयी।

इसके पश्चात दरोगा को मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया है।

जानकारी के अनुसार आत्महत्या का कारण अभी तक स्पष्ट नही हुआ है इसकी जांच पुलिस द्वारा किया जा रहा है।

 

यह भी पढें-यूएन (UN) में दिखे टी.एस.तिरुमूर्ति के पाकिस्तानके लिए तीखे तेवर