मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र रावत ने दून विश्वविद्यालय में चार शिक्षकों को सम्मानित किया

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

जयहरीखाल डिग्री काॅलेज का नाम डाॅ. भक्त दर्शन के नाम पर रखा गया है

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने दून विश्वविद्यालय के निर्माण कार्य का अवलोकन भी किया

मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने दून विश्वविद्यालय में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान देने वाले चार शिक्षकों को ‘‘डाॅ. भक्त दर्शन उच्च शिक्षा गौरव पुरस्कार-2020’’ से सम्मानित किया। जिन चार शिक्षकों को सम्मानित किया गया उनमें राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. मोहन चन्द्र पाण्डेय को वाणिज्य एवं प्रबंधन के क्षेत्र में, एम.बी काॅलेज हल्द्वानी के एसोसिएट प्रोफेसर  डाॅ. शिव दत्त तिवारी को वनस्पति विज्ञान के क्षेत्र में, पं. ललित मोहन शर्मा राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय ऋषिकेश के प्रो. (डाॅ.) सतेन्द्र कुमार को साहित्य के क्षेत्र में एवं प्रो. डाॅ. संजय कुमार को इतिहास के क्षेत्र में  उल्लेखनीय योगदान के लिए यह पुरस्कार प्रदान किया गया। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि हेमवती नन्दन बहुगुणा विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति डाॅ. डी.एस. रावत के नाम पर उच्च शिक्षा में विद्यार्थियों के विज्ञान, काॅमर्स, सामाजिक क्षेत्र में  सराहनीय कार्य करने वालों को छात्रवृत्ति दी जायेगी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कर्नल (डाॅ.) डी.पी. डिमरी द्वारा लिखित पुस्तक ‘‘उद्यमिता एवं हिमालय के प्रेरणादायक उद्यमी’’ का विमोचन भी किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने दून विश्वविद्यालय के निर्माण कार्य का अवलोकन भी किया।
मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि डाॅ. भक्त दर्शन ने शिक्षा के क्षेत्र में अनेक सराहनीय कार्य किये। वे एक कुशल राजनीतिज्ञ, शिक्षक, सम्पादक थे। भारत के स्वतंत्रता संग्राम में उन्होंने अहम योगदान दिया। वे सरल स्वभाव एवं बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। केन्द्रीय शिक्षा मंत्री रहते हुए उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में कई अभिनव पहल किये। उन्हें पहाड़ से विशेष प्रेम था। डाॅ. भक्त दर्शन द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में दिये गये उत्कृष्ट योगदान के कारण राज्य सरकार ने उनके नाम पर उच्च शिक्षा के क्षेत्र में शिक्षकों को पुरस्कृत करने का निर्णय लिया।

मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने कहा कि राज्य के स्थानीय संसाधनों से किस तरह लोगों के सामाजिक एवं आर्थिक जीवन में सुधार लाया जा सकता है, इस विषय पर शोध की आवश्यकता है। हम अपने प्राकृतिक संसाधनों एवं स्थानीय उपजों का कैसे बेहतर इस्तेमाल कर सकें। इन क्षेत्रों में विभिन्न विषयों पर आधारित शोध हो। प्रकृति ने देवभूमि उत्तराखण्ड को बहुत कुछ दिया है। इसका सही तरीके से उपयोग करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों की आर्थिकी में सुधार लाने के लिए राज्य में रूरल ग्रोथ सेंटर की शुरूआत की गई है। पिछले 06 माह में इन सेंटरों से 06 करोड़ से अधिक की बिक्री हुई है व इनमें कार्य करने वालों को 60 लाख से अधिक का शुद्ध लाभ हुआ है। राज्य में महिला स्वयं सहायता समूहों को 05 लाख तक एवं कृषकों को 03 लाख रूपये तक का ब्याज मुक्त ऋण दिया जा रहा है।

 

उच्च शिक्षा मंत्री डाॅ. धन सिंह रावत ने कहा कि अगले साल से डाॅ. भक्त दर्शन पुरस्कार उनके जन्म दिवस के अवसर पर 12 फरवरी को दिया जायेगा। जयहरीखाल डिग्री काॅलेज का नाम डाॅ. भक्त दर्शन के नाम पर रखा गया है। पौड़ी जनपद में मुसेटी गांव में उनका स्मारक बनाया गया है, अब मुसेटी में डाॅ. भक्त दर्शन द्वार बनाया जा रहा है। उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि अभी डिग्री काॅलेजों में 93 प्रतिशत फैकल्टी है। इसे जल्द शत प्रतिशत किया जायेगा। उच्च शिक्षा में चार लाख छात्रों को बड़ी सौगात मिलने वाली है। जल्द की हर डिग्री काॅलेज में 4 जी कनेक्टिविटी  और वाई-फाई की सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी।
विधायक  विनोद चमोली ने कहा कि डाॅ. भक्त दर्शन का जीवन दर्शन व्यावहारिक, राजनीतिक सुचिता, पहाड़ के प्रति समर्पित रहा। उन्होंने कहा कि डाॅ. भक्त दर्शन के बारे में लोगों को अधिक जानकारी प्राप्त हो सके इसलिए उनके जीवन एवं कार्यों पर आधारित जानकारी स्कूली पाठ्यक्रमों में होनी चाहिए।

इस अवसर पर विधायक  दिलीप सिंह रावत, प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा आनन्द वर्द्धन, उच्च शिक्षा उन्नयन परिषद के उपाध्यक्ष बी.एस.बिष्ट,  दीप्ति रावत भारद्वाज, दून विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. ए.के.कर्नाटक, उच्च शिक्षा निदेशक डाॅ. कुमकुम रौतेला, डाॅ. भक्त दर्शन की पुत्रियां  निर्मला नेगी एवं  मीरा चौहान आदि उपस्थित थे।

 

 

 

 

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आगरा: शक्ति चैम्पियंस मिशन के तहत आज दी जाएगी जिम्मेदारी

शक्ति चैम्पियंस मिशन के तहत आज दी जाएगी जिम्मेदारी

उत्तर प्रदेश के आगरा में महिला सुरक्षा को लेकर जागरुकता अभियान शक्ति चैम्पियंस  मिशन चलाया जा रहा है।

इस मिशन के तहत महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा, संरक्षण व हिंसा पर रोकथाम के लिए महिला कल्याण विभाग को महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी गई है।

शक्ति चैम्पियंस में योगदान देने वाली महिलाओं को दी जाएगी जिम्मेदारी 

शक्ति चैम्पियंस मिशन को आगे बढ़ाने में जिन महिलाओं ने अपना योगदान दिया है उन्हें 27 नवम्बर को चैंपियन का दर्जा दिया जाएगा।

इसके लिए नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। शुक्रवार को इन्हें पहचान पत्र, बैच और विधिवत कार्य वितरण किया जाएगा।

निदेशक महिला कल्याण व मिशन शक्ति के नोडल अधिकारी मनोज कुमार राय का कहना है कि कोई भी महिला,

पुरुष, बालक, बालिका या थर्ड जेंडर जो महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा, सम्मान और आत्मनिर्भरता की दिशा में जागरूक करने का बेहतर कार्य कर रहे हैं,

उन्हें शक्ति चैम्पियंस का दायित्व निभाने के लिए आगे लाया जा रहा है।

इनका चयन ग्राम, ब्लाक व जिला स्तर पर किया जाएगा।

इनका काम ग्राम या वार्ड में महिलाओं और बच्चों के अधिकारों, कानूनों और मुद्दों पर जागरूकता पैदा करना होगा।

हेल्पलाइन नंबर का प्रचार

शक्ति चैम्पियंस  मिशन के तहत 1090 वुमन पावर लाइन, 1098 चाइल्ड लाइन, 108 एम्बुलेंस सेवा,

102 स्वास्थ्य सेवा, 112 इंटीग्रेडेड हेल्पलाइन, 1076 मुख्यमंत्री हेल्पलाइन, 181 महिला हेल्पलाइन का ज्यादा से ज्यादा प्रचार-प्रसार करना होगा।

शक्ति चैम्पियंस पुलिस और अधिकारियों को स्थानीय ऐसे स्थलों की जानकारी भी मुहैया कराएंगे,

जो महिलाओं और बच्चों के लिए जोखिम भरे हो सकते हैं, जैसे – विद्यालय के पास शराब की दुकान का होना,

विद्यालय के समय आस-पास असामाजिक तत्वों का भीड़ होना, विद्यालय में शौचालय व भेदभाव रहित वातावरण का न होना आदि।

जागरुता शिविर आयोजित किए जाएंगे

शक्ति चैम्पियंस मिशन के तहत घरेलू हिंसा, दहेज शोषण, शारीरिक और मानसिक शोषण,

बाल विवाह, बाल श्रम , शारीरिक उत्पीड़न आदि सामाजिक हिंसा मामले शामिल हैं।

शक्ति चैम्पियंस मिशन के अंतर्गत सभी तरह की हिंसा के मामले पुलिस में दर्ज करा सकते हैं।

मिशन के तहत स्थानीय पुलिस के साथ मिलकर समय-समय पर जागरुता शिविर आयोजित किए जाएंगे।

 

यह भी पढें-सरकारी अस्पताल में एक कुत्ते ने खाया एक युवती का शव

वृदांवन :  जंगल में मिला बच्ची का शव, दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका

जंगल में मिला बच्ची का शव, दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका

वृंदावन कोतवाली के रमणरेती चौकी क्षेत्र स्थित जंगल में शुक्रवार की सुबह एक

बच्ची का शव मिलने से सनसनी फैल गई। जानकारी के अनुसार बच्ची अपनी रिश्तेदार महिला के साथ

गुरुवार को जंगल मे लकड़ी बीनने गयी थी। देर रात तक बच्ची के न मिलने पर बच्ची के परिजनों ने पास के थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई।

देर रात पुलिस द्वारा सर्च ऑपरेशन जारी किया गया। 

पुलिस ने देर रात तक बच्ची की तलाश में सर्च ऑपरेशन चलाया, लेकिन बच्ची का पता नहीं चला।

जानकारी के मुताबिक शुक्रवार की सुबह मल्टी लेवल पार्किंग और गांव सुनरख के बीच में

स्थित जंगल में ग्रामीणों ने बच्ची का शव देखा तो पुलिस को सूचना दी।

एक व्यक्ति को हिरासत मे लिया है

बच्ची का शव अर्धनग्न हालत में पड़ा मिला। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

बच्ची की दुष्कर्म के हत्या की आशंका जताई जा रही है। पुलिस का कहना है इस मामले में

जांच शुरु कर दी गई है। पुलिस ने संदेह के आधार पर एक व्यक्ति को हिरासत मे लिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद स्थिति स्पष्ट होगी।

यह भी पढें-बहन को विदा कर घर लौट रहे किशोर की मौत, परिवार में मातम

मॉर्निंग वॉक पर निकली महिला की डीएम आवास के पास गोली मारकर हत्या

मॉर्निंग वॉक पर निकली महिला की गोली मारकर हत्या

उत्तर प्रदेश के झांसी शहर में शुक्रवार सुबह महिला मॉर्निंग वॉक के लिए निकली एक

महिला की बाइक सवार व्यक्ति ने गोली मार कर हत्या कर दी। यह सीपरी बाजार थाना

क्षेत्र स्थित पॉश कॉलोनी में डीएम आवास के बेहद नजदीक हुई। पुलिस के मुताबिक महिला

की पहचान पूजा जायसवाल के रुप में हुई है। दिन-दहाड़े हुए इस हत्याकांड से पॉश इलाके में सनसनी फैल गयी।

सुबह गश्त कर रही पीआरबी को सड़क पर घायल अवस्था में पड़ी महिला दिखी।

सूचना मिलते ही पुलिस घटना स्थल पर पहुंची और महिला को निजी अस्पातल में पहुंचाया गया।

महिला के घर वालों से की  पूछताछ

इलाज के दौरान महिला की मृत्यु हो गई।

पुलिस जानकारी के अनुसार घटनास्थल के पास बीकेडी से सीपरी जाने वाले मार्ग पर एक

तरफ जिलाधिकारी आवास है तो दूसरी तरफ कमिश्नरी, ध्यानचंद स्टेडियम और सर्किट हाउस हैं

जहां हर समय वीआईपी मूवमेंट रहता है। पुलिस ने सुबह टहलने  वाले लोगों से पूछताछ की तो

पता चला कि बाइक पर सवार कुछ लोग महिला के करीब से निकले थे और कुछ आवाज आई थी

लेकिन किसी ने ज्यादा ध्यान नहीं दिया। उस समय कुछ लोग ही टहल रहे थे। पुलिस ने महिला के घर

वालों से भी पुछताछ की। पुलिस की जांच अभी चल रही है। एसएसपी ने हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की तीन टीमें बनाई गई हैं।

 DO READ नौकरी लगाने का झांसा देकर दो लोगों से ठगी

  मुठभेड़ में मारा गया एक लाख का इनामी बदमाश

  मुठभेड़ में मारा गया एक लाख का इनामी बदमाश

वाराणसी में बीती रात हुए एनकाउंटर में एक लाख रुपये का इनामी बदमाश मारा गया।

कल रात वाराणसी के जैतपुरा थाना क्षेत्र के लाट सरैया इलाके में हुई मुठभेड़ में ईनामी बदमाश

को गोली लगी जिसके बाद उसे कबीर चौरा मंडलीय अस्पातल ले जाया गया जहां डॉक्टरो ने उसे मृत घोषित कर दिया।

उसके साथ अन्य लोग भी थे जो भागने में सफल रहे। मुठभेड़ में पुलिस के दो जवान भी घायल हुए।

घटना स्थल से पुलिस ने दो पिस्टल, काफी मात्रा में गोलियां और एक पैशन बाइक भी बरामद की।

जानकारी के मुताबिक मृतक की पहचान रौशन गुप्ता उर्फ किट्टू है बताया गया जिसके ऊपर 48 मुकदमों से

भी अधिक मुकदमें दर्ज हैं। रौशन गुप्ता उर्फ किट्टू पर वाराणसी के आलावा आसपास के जनपदों में भी हत्या के मुकदमे दर्ज हैं।

रौशन गुप्ता पर वाराणसी की पुलिस ने एक लाख रुपये का इनाम भी रखा था।

मोनू चौहान की तीन दिन पहले ही पुलिस मुठभेड़ में मौत हो गई थी

वाराणसी के एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि 2015 में वाराणसी में एसटीएफ और रोहित सिंह उर्फ

सन्नी की मुठभेड़ में मौत हो गई थी, रौशन गुप्ता उर्फ किट्टू और मोनू चौहान सन्नी गैंग के लेकर सक्रिय सदस्य थे।

मोनू चौहान की तीन दिन पहले ही पुलिस मुठभेड़ में मौत हो गई थी। मोनू चौहान पर  50 हजार रुपये का इनाम था।

इसके बाद 50 हजार का इनामी अनिल यादव भी दो दिन बाद पुलिस मुठभेड़ में पकड़ा गया था,

जिसके बाद पुलिस रौशन गुप्ता उर्फ किट्टू की तलाश तेज कर दी थी।

उसका तीसरा साथी अभी फरार है पुलिस उसकी भी जांच कर रही है।

पुलिस का कहना है कि जल्द ही वह भी गिरफ्त में होगा। एसएसपी ने बताया कि सफल

एनकाउंटर के लिए पुलिस टीम को 2 लाख रूपये के इनाम की बात शासन से हो गई है।

यह भी पढें- सरकारी अस्पताल में एक कुत्ते ने खाया एक युवती का शव

उत्तराखंड: नौकरी लगाने का झांसा देकर दो लोगों से ठगी

नौकरी लगाने का झांसा देकर दो लोगों से ठगी

प्रदेश की राजधानी देहरादून में ठगी के मामले लगातार बढ़ रहे है।

ताजा मामला सेलाकुई फैक्ट्री में नौकरी लगाने के झांसा देकर तीन लोगों से ठगी का मामला सामने आया है।

पीड़ित लोगों के तहरीर मिलने पर नेहरू कॉलोनी थाना पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर शातिरो की तलाश में जुट गई है।

पीड़ित मोहम्मद तहजीव (निवासी उत्तर प्रदेश देवरिया) ने पुलिस को तहरीर में बताया कि दो वर्ष पहले

उसकी मुलाकात रिजवान नाम के व्यक्ति से हुई थी। रिजवान ने तीनों व्यक्तियों से कहा कि वह

सेलाकुई स्थित डिक्शन कंपनी में नौकरी लगवाने के काम करता है। जिसके पहले रिजवान ने कुशीनगर गोरखपुर

चीनी मिल में नौकरी लगवाने के लिए बात की, लेकिन जब काम के लिए तवरेज खां और मुईन खां

ने आवेदन किया तो रिजवान ने दोनों को डिक्शन सेलाकुई में स्थित कंपनी में नौकरी लगवाने की बात कही।

नौकरी लगवाने के नाम पर लिए 60 हजार रुपये

आरोपी ने तीन लोगों से काम दिलवाने  के नाम पर 60 हजार रुपये ले लिए और बाद में नौकरी नहीं लगाई।

तहरीर मिलने पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

और पुलिस का कहना है कि आरोपी को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

यह भी पढें- पाकिस्तान की नापाक हरकत से उत्तराखंड का एक और लाल शहीद

सरकारी अस्पताल में एक कुत्ते ने खाया एक युवती शव

सरकारी अस्पताल में एक कुत्ते ने खाया एक युवती का शव

यूपी के संभल में एक लड़की के शव को कुत्ते के नोचने का वीडियो वायरल हो गई है।

असमोली थानाक्षेत्र के गांव शहबाजपुर कलां में हुए हादसे में अमरोहा जिले के डिडौली थानाक्षेत्र के गांव में रहने वाली एक लड़की की मौत हुई थी।

लड़की के भाई पवन के साथ असमोली क्षेत्र के गांव शहबाजपुर कलां में पेट्रोल पंप से डीजल लेने के बाद बाइक से घर लौट रही थी।

पंप के सामने ही गन्ना लदे तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक को टक्कर मार दी थी।

सरकारी अस्पताल प्रशासन की लापरवाही

लड़की का शव जिला सरकारी अस्पताल में स्ट्रेचर पर रखा था।

इसे लेकर वायरल हुए एक वीडियो में अस्पताल प्रशासन की लापरवाही भी सामने आई है।

स्ट्रेचर पर रखे शव तक कुत्ता पहुंच गया था।

मामला अधिकारियों तक पहुंचा तो सच्चाई जानने का प्रयास शुरू कर दिया गया।

 अस्पताल में लापरवाही के मामले

इसी क्रम में गुरुवार शाम को सीएमओ डा.अमिता सिंह जिला अस्पताल पहुंचीं।

सीएमओ ने बताया कि जिला सरकारी अस्पताल के सीएमएस की संस्तुति पर लापरवाही के मामले में वार्ड ब्वाय विपिन भटनागर और सफाई कर्मचारी प्रदीप सिरसवाल को निलंबित किया गया है।

जबकि ड्यूटी पर तैनात डाक्टर व फार्मेसिस्ट को कारण बताओ नोटिस दिया गया है।

मामले की जांच के लिए दो डाक्टरों की कमेटी गठित कर दी गई है। 

श्रुति अग्रवाल

यह भी पढें-सुरेश रैना ने 34 वें जन्म दिवस पर क्या निर्माण करने का संकल्प लिया