सीएम बोले- घोषित योजनाएं तभी पूरी मानी जाएगी जब वे धरातल पर नजर आएंगी

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि योजनाओं के क्रियान्वयन में कोई बहानेबाजी नहीं होनी चाहिए। घोषित योजनाएं तभी पूरी माने जाएं, जब वे धरातल पर नजर आएं। इसमें कार्यवाही अथवा गतिमान शब्द का प्रयोग नहीं होना चाहिए। उन्होंने अवशेष घोषणाओं की डीपीआर 15 जुलाई तक तैयार करने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने गुरुवार को सचिवालय में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बागेश्वर एवं अल्मोड़ा जिलों के लिए मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणाओं की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि सचिव एवं विभागाध्यक्ष आपसी समन्वय से योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा करें। यह विभागीय प्रमुखों की जिम्मेदारी है कि योजनाएं समय बद्धता और गुणवत्ता के साथ पूर्ण हों। अपूर्ण योजनाओं की डीपीआर जल्द तैयार कर उनके लिए धनराशि स्वीकृत करने के साथ ही टेंडर प्रक्रिया अविलंब प्रारंभ की जाए।उन्होंने सल्ट विधानसभा की पंपिंग पेयजल योजना तथा अल्मोड़ा की खत्याड़ी ग्रामसभा समूह पेयजल योजना के प्रस्ताव अविलंब जल जीवन मिशन के तहत भेजने के निर्देश दिए।

उन्होंने विकासखंड ताकुला जाने वाले मार्ग के निर्माण के लिए वन विभाग एवं लोक निर्माण विभाग से आपसी विचार-विमर्श के बाद दो सप्ताह में निर्णय लेने को कहा। मुख्यमंत्री ने पर्वतीय क्षेत्रों में निर्मित होने वाली सड़कों व पुलों के निर्माण में तेजी लाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिन कार्यों के अभी टेंडर नहीं हुए हैं, उनके जल्द टेंडर कर लिए जाएं, ताकि बरसात के बाद उन पर कार्य शुरू किया जा सके।

बैठक में बताया गया कि कपकोट विधानसभा के लिए कुल 37 घोषणाएं की गई हैं। इनमें से 20 पूर्ण हो चुकी हैं, शेष पर कार्यवाही गतिमान है। इसी प्रकार बागेश्वर के लिए की गई 29 घोषणाओं में से 19 पूर्ण हो चुकी है। अल्मोड़ा में 32 घोषणाओं में से 16, सल्ट के लिए की गई 76 घोषणाओं में से 49, द्वाराहाट की 16 में से 15 और सोमेश्वर की 74 घोषणाओं में से 37 पूर्ण हो गई हैं।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढे- परिवहन सचिव ने रोडवेज को 20 करोड़ रुपए की धनराशि देने आदेश किया जारी

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

उत्तराखंड में पहाड़ी इलाके में दो माह बाद मिला कोरोना संक्रमित व्यक्ति

Listen to this article

उत्तराखंड के जोशीमठ में आज दो माह बाद एक कोरोना संक्रमित मरीज का मामला सामने आया है। क्षेत्र के लोगों द्वारा यह बताया जा रहा है कि यह मरीज पांडुकेश्वर में ऑल वेदर रोड पर मजदूरी का कार्य करता था। इस खंबर के बाद वहां के लोग बहुत चिंता में आ गए है। इसके बाद उस मरीज को सामुदायिक स्वास्थय केंद्र गोपेश्वर में भेजा है। वंही सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉ. राजीव गर्ग ने कोरोना मरीज की कोरोना से संक्रमित होने की पुष्टि की है। उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 22 नए कोरोना संक्रमित मिले जिनमें एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है।

तेजी से बढ़ते संक्रमर्ण के मामले

जबकि 45 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया। वंही सक्रिय मामलों की संख्या 609 पहुंच गई है। वैसे तो पांच जिलों अल्मोड़ा, बागेश्वर, चमोली, टिहरी और ऊधमसिंह नगर में एक भी संक्रमित मरीज सामने नहीं आए है। वहीं दूसरी ओर  चंपावत और नैनीताल में एक-एक मामले, देहरादून में पांच, हरिद्वार और पौड़ी में दो-दो, पिथौरागढ़ में तीन, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी में चार-चार संक्रमित मामले मिले है।

 

 – नैन्सी लोहानी  

 

यह भी पढे़- वाराणसी में हाईस्कूल, इंटरमीडिएट में कुल 103940 विद्यार्थियों ने भरा परीक्षा फार्म

सोनभद्र जिले में सो रहे पति-पत्नी पर किया फावड़े से हमला

Listen to this article

सोनभद्र जिले के बभनी गांव स्थित में रविवार की रात अज्ञात हमलावरों ने घर में सो रहे दंपति पर फावड़े से हमला कर दिया। फावड़े की वार से पत्नी की मौत हो गई, जबकि पति गंभीर रूप से घायल है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र दुद्धी भेज दिया। गंभीर रूप से घायल पति को इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बभनी में भर्ती कराया गया। जहां उसकी हालत गंभीर होने पर उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया।

बभनी सड़क टोला निवासी शिवकुमार अपनी पत्नी हीरामन देवी के साथ कमरे के बाहर सो रहा था। बच्चे कमरे में सो रहे थे। मृतका की बड़ी पुत्री चंद्रावती के अनुसार हमलावरों ने कमरे में सो रहे बच्चों के दरवाजे बाहर से बंद कर वारदात को अंजाम दिया।

मोहर लाल की हालत गंभीर बनी हुई

चारपाई पर सो रही मां के सिर पर प्रहार किया और पिता पर भी ताबड़तोड़ वार किए। घटना में हीरामन ने मौके पर दम तोड़ दिया। जबकि पति शिवकुमार पुत्र मोहर लाल की हालत गंभीर बनी हुई है। चंद्रावती ने कहा कि आज तड़के करीब 3 बजे पिता की आवाज सुनकर उठी तो बाहर से दरवाजा बंद था।
दरवाजा बंद होने की वजह से शोर मचाने लगी। शोर-गुल सुनकर शिवकुमार के छोटे भाई देवकुमार ने दरवाजा खोला। जब वे लोग अंदर गए तो चारपाई पर पड़े हीरामन के शव को देखकर सन्न रह गए। चीख- पुकार सुनकर आसपास के लोग जमा हो गए। घटना की सूचना तत्काल बभनी पुलिस को दी। मौके पर प्रभारी निरीक्षक अजय कुमार सिंह, मयफोर्स के साथ घटनास्थल पर पहुंचे।

घायल शिवकुमार कि हालत गंभीर होने पर उसे जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र दुद्धी भेजा। हत्या के कारणों का खुलासा नहीं हो सका है। क्षेत्राधिकारी दुद्धी के अनुसार पुलिस जांच में जुटी।

पुष्पा रावत

 

यह भी पढ़े- अनिल बलूनी ने कहा कोंग्रेस ने हिंन्दु-मुस्लिम कार्ड खेलना फिर से शुरु किया

जागेश्वर: पुजारियों के अपमान के विरोध में मौन व्रत पर बैठे हरीश रावत

Listen to this article

अल्मोड़ा के प्रसिद्ध भगवान भोले के धाम जागेश्वर मंदिर में भाजपा नेताओं ने पुजारियों के साथ बुरा व्यवहार किया। जिसके विरोध में उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत आज मौन व्रत पर बैठेगें। उन्होंने मौन व्रत रखने से पहले भगवान शिव को जल चढ़ाकर उनकी अराधाना की।  मंदिर समिति के प्रबंधक भगवान भट्ट और पुजारियों से गालीगलौज करना भाजपा सांसद धर्मेंद्र कश्यप को भारी पड़ गया। पुलिस ने धर्मेंद्र कश्यप और उनके साथी मोहन राजपूत के साथ सुशील अग्रवाल के खिलाफ मजिस्ट्रेट के आदेश का उल्लंघन करने पर धारा 188 और गालीगलौज गलत व्यवहार  करने पर धारा 504 के तहत रिर्पाट दर्ज कर ली है। हरीश रावत के घर से कांग्रेस का झंडारोहण कर चुनाव प्रचार अभियान की शुरूआत होगी।

भारी बारिश के बावजूद सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता इस कार्यक्रम में शामिल हुए है। इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा कि राज्य की सत्ता से भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने की आज से शुरूआत हो गई है और आने वाला समय कांग्रेस का होगा। हमें फिर से कांग्रेस की सरकार लाकर प्रदेश को विकास के रास्ते पर आगे ले जाना होगा।  इस अवसर पर राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा, विधायक मनोज रावत, विधायक हरीश धामी, पूर्व मंत्री दिनेश अग्रवाल, पूर्व मंत्री मातवर सिंह कंडारी, पूर्व विधायक हेमेश खर्कवाल, पूर्व विधायक मनोज तिवारी, सतपाल ब्रह्मचारी, केपी अग्रवाल, अशोक महलोत्रा, मनमोहन शर्मा, अलका शर्मा, राजकुमार यादव, मनीश कुमार, राजीव जैन, गरिमा दसौनी आदि मौजूद रहे है।

 

  – नैन्सी लोहानी   

 

यह भी पढ़े- आज से देहरादून सिटी बस संचालकों की हड़ताल

                                            

पूर्व CM हरीश रावत ने भाजप के राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी को दिया जवाब

Listen to this article

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और काग्रेस महासचिव हरीश रावत ने भाजप के राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी की सोशल मीडिया में की गई पोस्ट पर जवाब देते हुए कहा कि भाजपा ने पिछले साढ़े चार साल मे प्रदेश का कोई विकास नही किया है। यदि विकास किया होता तो फिर भाजपा को एक के बाद एक मुख्यमंत्री नहीं बदलने पड़ते।  इस पोस्ट में बलुनी ने लिखा था कि पूर्व मुख्यंमत्री हरीश रावत तुष्टिकरण की राजनीति करने के बजाय विकास के मसले पर सार्थक बहस करते तो अच्छा होता। बीते दिन इस पोस्ट के जवाब में कांग्रेस महासचिव रावत ने दो पोस्ट लिखी, पहली पोस्ट में उन्होंने भाजपा मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी से विकास व रोजगार पर सवाल-जवाब करने की पेशकश की और शाम को दूसरी पोस्ट में उन्होंने प्रदेश की अर्थव्यवस्था, जनकल्याणकारी योजनाओं व रोजगार के मसले को उठाया।

पूर्व मूखयमंत्री का भाजपा से सवाल

उन्होंने लिखा कि मुख्यमंत्री रहते हुए उनकी सरकार ने मेरा गांव-मेरी सड़क योजना शुरू की। इससे दूरदराज के गांवों को सड़क से जोडऩे का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन भाजपा के कार्यकाल में यह योजना बंद कर दी गई। इसके साथ ही और कई योजनाए भी थी जो की बंद कर दी गई। उन्होने कहा कि भाजपा नेता  ने बताएं कि कौन-कौन सी विकास योजनाओं को तीनों सरकारों ने धरातल पर उतारा है।

 

  -रितिका चौहान

 

यह भी पढ़े- शाही ईदगाह के सचिव एडवोकेट अहमद ने प्रत्युत्तर का नहीं दिया जवाब

प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने राज्य सरकार को कई मामलों पर घेरा

Listen to this article

साल 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए उत्तराखंड कांग्रेस फ्रंट फुट पर आ गई है। कांग्रेस में प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने राज्य सरकार को कई मामलों पर घेरा। पार्टी ने 22 जुलाई को गणेश गोदियाल को प्रदेश अध्यक्ष बनाया था। आज देहरादून में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने अतिथि शिक्षकों और कर्मचारियों को डीए सहित कई मद्दों पर सरकार को घेरा। प्रेस वार्ता में कांग्रेस अध्यक्ष गोदियाल  कर्मचारियों के पक्ष में उतरे। उन्होंने कर्मचारियों के फ्रीज किए गए डीए को बहाल करने की मांग की साथ ही  उपनल, मनरेगा कर्मचारियों का वेतन बढ़ाने पर भी जोर दिया।

गोदियाल ने अतिथि शिक्षकों का वेतन न बढ़ने पर भी नाराजगी जताई। उन्होने कहा कि राज्य सरकार अतिथि शिक्षकों को परमेनेंट करने का रास्ता निकाले। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने memorandum जारी कर कहा कि 20 जुलाई को प्रदेश अध्यक्ष पद की घोषणा के बाद विभिन्न ब्लाक कमेटी के अध्यक्ष पदों पर नियुक्तियां की गईं, इन्हें तत्काल प्रभाव से रद्द किया जाता है। नए अध्यक्ष से पहले बतौर अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने संगठन में कई नियुक्तियां की थीं।

 

   -रितिका चौहान  

 

यह भी पढ़े- देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़े, 541 मरीजों की गई जान  

प्रदॆश में आज से खुले स्कूल, छात्र-छात्राओं के चेहरों पर खुशी 

Listen to this article

आज से नौंवी से 12वीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए स्कूल खुल गए हैं। छात्र-छात्राओं को थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही स्कूलों में अंदर आने दिया जाएगा और कक्षाओं में सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखकर ही बैठने की व्यवस्था की गई है। कोरोना संक्रमण के चलते और दूसरी लहर के कारण लॉकडाउन होने से स्कूलों को बंद कर दिया गया था। मगर आज कई माह के बाद स्कूल खुलने से छात्र-छात्राओं के चेहरे पर खुशी देखने को मिली है, वंही कक्षा में दूबारा आने का उत्साह उनके चहरों में दिखाई दे रहा है।

इन बातों का ध्यान रखना है जरुरी

इतनी जल्दी स्कूल खुल तो गए है मगर इन स्कूलों के शिक्षकों और कर्मचारियों का अभी तक वैक्सीनेशन तक नहीं हुआ है। वंही दूसरी तरफ स्कूलों के पास सैनिटाइजेशन करवाने तक के लिए अलग से फंड नहीं है। इसलिए कुछ स्कूलों ने विभाग ने स्वास्थ्य विभाग को वैक्सीनेशन के लिए 31 जुलाई को पत्र लिखा था मगर एक अगस्त को रविवार होने की वजह से वैक्सीनेशन नहीं हो पाया। बिना मास्क के स्कूल नहीं आ सकते और अगर कोई छात्र बिना मास्क स्कूल आता है तो ऐसे छात्र-छात्राओं के लिए स्कूल को मास्क की व्यवस्था करनी होगी। आज खोले गए सरकारी और निजी हाईस्कूलों की संख्या 1354 थी और इनमें करीब तीन लाख से ज्यादा छात्र-छात्राएं मौजूद रही है।

 

      -नैन्सी लोहानी

 

यह भी पढ़े- कचरा कूड़ेदान में नहीं डाला तो पड़ेगा भारी जुर्माना: अपर आयुक्त