कोरोना से जान गंवाने वाले पत्रकारों के लिए आगे आई केंद्र सरकार

कोरोना
Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

जानकारी के मुताबिक केंद्र सरकार ने कोरोना संक्रमण से जान गंवाने वाले पत्रकारों के परिजनों को 5 लाख रुपये का मुआवजा देने का फैसला लिया है। कोरोना काल में लोगों तक खबर पहुंचाने वाले कई पत्रकार कोरोना की चपेट में आए जिनकी कोरोना से संक्रमित होने के कारण जान चली गई। केंद्र सरकार इन सब के योगदान को मद्दे नजर रखते हुए। सरकार ने इनके परिवार को 5 लाख रुपये देने का फैसला लिया है। सूचना और प्रसारण मंत्रालय के प्रेस सूचना ब्यूरो ने  इसके लिए करीब 25 पत्रकारों के नामों की सूची तैयार की है। साथ ही जिन पत्रकारों के बारे में जानकारी नहीं है उनकी जांच पड़ताल की जा रही है।

कल्याण पत्रकार कोष

जिन पत्रकारों के नाम न छपने के शर्त पर एक अधिकारी ने कहा “प्रसारण मंत्रालय के प्रेस सूचना ब्यूरो के पास  2019 के बाद एक कल्याण पत्रकार कोष है। जिसमें लिखा गया है कि 5 लाख रुपये तक की सहायता पत्रकार को दी जा सकती है। इससे पहले भी कल्याण पत्रकार कोष से मद्द की गई है। एक अधिकारी ने कहा कि राज्यों से रिपोर्ट प्राप्त करने के बाद केंद्र सरकार अधिक से अधिक परिवार में सहायता प्रदान करने के लिए तैयार है।

-प्रीति बिष्ट

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

ट्रेक्टर ट्रॉली और मोटरसाइकिल की टक्कर में हुई बाप बेटे की मौत

Listen to this article

गाजियाबाद विजय नगर थाना क्षेत्र में नेशनल हाइवे पर ट्रेक्टर ट्रॉली और मोटरसाइकिल की जबरदस्त भिड़त में मोटरसाइकिल सवार बाप बेटे की मौके पर ही मौत हो गई। मौके पर पहुँचकर पुलिस ने पंचनामा भरके शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। छानबीन करने पर पता चला कि मृतक डासना देहात की न्यू गौरव एंक्लेव कालोनी में रहते थे।

रोजाना की तरह दोनों बाप बेटे अपनी मोटरसाइकिल से नोएडा काम पर जा रहे थे। विजय नगर थाना क्षेत्र में बेकाबू ट्रेक्टर ट्रॉली और मोटरसाइकिल में जबरदस्त भिड़ंत हो गई और मोटरसाइकिल सवार शमशाद उम्र 45 वर्ष और उसका बेटा शहनवाज उर्फ शानू 22 वर्ष दोनों की मौके पर ही मौत हो गई।जिसकी ख़बर सुनकर उनके परिवार में हाहाकार मच गया।

जानकारी के अनुसार शमशाद 45 वर्ष अपने परिवार के साथ डासना देहात के न्यू गौरव एनक्लेव कालोनी में अपनी पत्नी और पांच बच्चों के साथ रहता था। उसका लकड़ी का कारोबार था। जिसमें उसके बेटे शमशाद हाथ बटाते थे। शमशाद अपने बड़े पुत्र शहनवाज उर्फ शानू के साथ नोएडा काम पर जा रहा था। तभी ये हादसा हुआ। इस हादसे में दोनो बाप बेटों की मौके पर ही मौत हो गई।

 

-किरन

 

यह भी पढ़ें- कोरोना योद्धा भी आये कोरोना वायरस की चपेट में

 

चुनावी रंजिश को लेकर हुआ लाठी-डंडों के साथ फायरिंग

Listen to this article

कोतवाली टांडा क्षेत्र के एक गांव में बच्चों के मामूली विवाद में पूर्व प्रधान और मौजूदा प्रधान पक्ष के कई लोग लाठी-डंडे लेकर हुए आमने-सामने। लाठी-डंडों के साथ-साथ अध्दहे बाजी और असलो से फायरिंग की गई। इस दौरान गांव में अफरा-तफरी का माहौल है। इस घटना की किसी व्यक्ति ने वीडियो बनाई जिस वीडियो में दिख रहा है कि किस तरह से राइफलों और बंदूकों से फायरिंग की जा रही है और साथ ही लोग एक दूसरे पर अध्दहे बरसा रहे हैं।

इस घटना में पुरुष तो एक दूसरे पर जानलेवा थे ही साथ में उनकी महिलाएं भी एक दूसरे पर जानलेवा हमला कर रही है। हालांकि पुलिस ने इस घटना को बच्चों का विवाद होना बताया है लेकिन गांव के लोगों से पूछताछ की तो यह मामला प्रधान के चुनाव की रंजिश से जुड़ा हुआ है। प्रधान का चुनावी रंजिश को लेकर ही ये बवाल हुआ है। इस मामले चौकी दड़ियाल के उपनिरीक्षक श्रीपाल सिंह की तहरीर पर पुलिस ने  26 नामजद सहित 6 से 10 लोग अज्ञात में दोनों पक्षों के खिलाफ़  FIR दर्ज कर जांच में जुट गई है।

 

-किरन

 

यह भी पढ़ें- वुडस्टॉक स्कूल के पास जंगल में लगी भीषण आग

गाज़ियाबाद से दिल्ली में सप्लाई किया जाएगा ऑक्सीज़न कैप्सूल

Listen to this article

कोरोना संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए दिल्ली में भी ऑक्सीज़न की भारी किल्लत सामने आ रही है। इन मरीजों को ऑक्सीज़न की कमी ना हो, इसके लिए दिल्ली सरकार के द्वारा उत्तर प्रदेश से ऑक्सीज़न की आपूर्ति की मांग की गई थी, जिसके चलते गाज़ियाबाद के भोजपुर इलाके में स्थित ऑक्सीज़न प्लांट से दिल्ली के लिए ऑक्सीज़न भेजी जा रही है। इसके लिए बाकायदा एक ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया है और आज फिर से आईनॉक्स प्लांट भोजपुर से ग्रीन कॉरिडोर से दिल्ली के लिए ऑक्सीज़न कैप्सूल को एस्कॉर्ट करके ले जाया गया।

इस बारे में गाज़ियाबाद के एसपी देहात ईरज राजा ने कहा कि पूर्व की भांति भोजपुर के आईनॉक्स प्लांट से दिल्ली के लिए ऑक्सीजन की सप्लाई ग्रीन कोरिडोर बनाकर की गई है। उन्होंने बताया कि समय से दिल्ली के सभी अस्पतालों को ऑक्सीज़न उपलब्ध हो पाए, इसे ध्यान में रखते हुए बाकायदा एस्कॉर्ट के साथ एक बड़ा कैप्सूल रवाना किया गया है। उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले में स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ पुलिस विभाग भी पूरी तरह अलर्ट है। बड़े कैप्सूल में काफी मात्रा में ऑक्सीज़न होती है,ऑक्सीज़न की यह कैप्सूल गाज़ियाबाद के भोजपुर इलाके में आईनॉक्स ऑक्सीज़न प्लांट से ही ऑक्सीज़न की सप्लाई गाजियाबाद और दिल्ली में की जा रही है।

 

-किरन

 

यह भी पढ़ें- चारधाम यात्रा बद्रीनाथ से पहले हाईवे पर झुल रहा है खतरा

कोविड केयर सेंटर से 52 मरीज हुए गायब

Listen to this article

बागेश्वर ज़िले में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही सामने आई है। जहां कोविड केयर सेंटर से 52 मरीज भाग गए। इन 52 कोरोना संक्रमित मरीज़ों की अब तक कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग नही हो पाई है। ऐसे लोग पुलिस व स्वास्थ्य विभाग के लिए सिरदर्द बने हुए है। दोनों विभाग इन मरीजों की तलाश में जुटे हुए हैं। एसपी के मुताबिक़ इन गायब  संक्रमितों पर महामारी अधिनियमों के तहत मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

बागेश्वर ज़िले में अब तक कुल संक्रमितों संख्या 154 पहुंच गई है। जिनमें  कोविड केयर सेंटर में 52 कोरोना संक्रमित अपना इलाज करा रहे हैं। इसके अलावा 102 कोरोना संक्रमित होम आइसोलेशन में है। जानकारी के मुताबिक लापता संक्रमितों की तलाश जारी है। असल में इन सभी लोगों का आरटीपीसीआर टेस्ट किया गया था। जिसके बाद इन संक्रमितों से स्वैच्छिक शपथ पत्र भरवाया गया था कि रिपोर्ट आने तक वह अपने घर में ही आइसोलेशन में रहेंगे। रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर इनको ढूढ़ने की कोशिश की गई तो वे अपने पते में नहीं मिले। कई संक्रमितों का तो मोबाइल नंबर भी गलत है। इन संक्रमितों की खोज लगातार जारी है।

-प्रीति

 

यह भी पढ़े- युवा कल्याण और PRD के माध्यम से हुई कई भर्तीयां

कोरोना की बढ़ती रफ्तार से एसटीएच में ओपीडी बंद करने के आदेश

Listen to this article

हल्द्वानी के सुशीला तिवारी अस्पताल में कोविड मरीजों की संख्या बढ़ने के कारण डीएम धीराज सिंह गर्ब्याल ने शुक्रवार से एसटीएच में ओपीडी बंद करने के आदेश दिए और सोबन सिंह जीना बेस अस्पताल और महिला अस्पताल में मरीजों को ओपीडी में परामर्श दिया जाएगा।
डीएम के अनुसार एसटीएच में आने वाले अन्य रोगों से ग्रस्त रोगियों का इलाज परीक्षण बेस और महिला अस्पताल में 23 अप्रैल से होगा। इसके साथ ही दोनों अस्पतालों में रोगियों के परीक्षण और इलाज के लिए अतिरिक्त डॉक्टरों की तैनाती मेडिकल कॉलेज की ओर से की जाएगी। सीएमओ ने डॉ. भागीरथी जोशी ने जानकारी देते हुए बताया कि गर्भवती महिलाएं आपातकालीन स्थिति में महिला चिकित्सालय में आएं। डॉ. अनामिका को गर्भवती महिलाओं को जानकारी देने और महिलाओं की समस्याओं के समाधान की जिम्मेदारी दी गई है।

इसी के साथ गर्भवती महिलाएं या उनके परिजन परामर्श एवं सलाह के लिए डॉ. अनामिका के मोबाइल नंबर 89580-67810 पर संपर्क कर सकते हैं। कोविड के केस बढ़ने के साथ ही अस्पतालों में ऑक्सीजन की मांग बढ़ती जा रही है। इसी के साथ सीडीओ ने बताया कि कोविड-19 के संक्रमण के दौरान जिले में आक्सीजन सफ्लाई और आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता बनाए रखने के उद्देश्य से जिला स्तरीय समितियों का गठन किया गया है। इस कार्य पर निगरानी रखने की जिम्मेदारी एडीएम वित्त एवं राजस्व सुरेंद्र सिंह जंगपागी को दी गई है।

-प्रीती 

 

यह भी पढ़े- कोरोना काल में लचर स्वास्थ्य सेवाएं

श्रवण राठौड़ का निधन, फैस ने जताया दु;ख

Listen to this article

म्यूजिक कंपोजर श्रवण राठौड़ के निधन से इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में शोक की लहर है। बॉलीवुड के तमाम गायक, संगीतकार, निर्देशक, अभिनेता उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं। अजय देवगन, अक्षय कुमार से लेकर जावेद अख्तर, एआर रहमान ने श्रवण राठौड़ के निधन पर शोक व्यक्त किया है और भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी है।

मशहूर संगीतकार नदीम-श्रवण की जोड़ी में से श्रवण राथौड़ ने 22 अप्रैल को आखिरी सांसे लीं। वो कुछ दिनों पहले कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। श्रवण को पहले से स्वास्थ्य समस्या थी जो कोरोना वायरस संक्रमण के बाद गंभीर हो गयी था, जिसके उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वह आखिरी कुछ दिनों से वेंटिलेटर पर थे।

नदीम-श्रवण की जोड़ी, बतौर संगीतकार 90 के दशक की सबसे चर्चित जोड़ियों में से एक थी। फिल्म आशिकी के गानों को मिली बेशुमार सफलता के बाद नदीम- श्रवण की जोड़ी ने ‘साजन’, ‘दिल है कि मानता नहीं’, ‘सड़क’, ‘सैनिक’, ‘दिलवाले’, ‘राजा हिंदुस्तानी’, ‘फूल और कांटे’ और ‘परदेस’ जैसी फिल्मों का संगीत दिया और ये सभी एल्बम काफी हिट हुए। श्रवण राठौड़ के अचानक चले जाने से सभी भावुक हैं।

 

-सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े- चारधाम यात्रा बद्रीनाथ से पहले हाईवे पर झुल रहा है खतरा