नाइट कर्फ्यू के बाद भी थमने का नाम नहीं ले रहा कोरोना वायरस

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

लाकडाउन के 94 दिन बाद छह मार्च को दोबारा लगाए गए नाइट कर्फ्यू को एक महीना पूरा हो गया है।इस एक महीने में कोरोना के केस घटने के जगह नौ प्रतिशत तक बढ़ गया है। मरने वालों मरीजों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। नाइट कर्फ्यू के सरकारी आदेश जारी कर  के प्रशासन ने लोगों को इकट्ठा होने में और किसी सामूहिक कार्यक्रम में शामिल होने जैसी पांबदियां तो लगा दी लेकिन उन पाबंदियों को ग्राउंड पर लागू नहीं करवाया जा सका।

उसका नतीजा यह हो रहा है कि कोरोना के केस बढ़ते जा रहे है।नाइटकर्फ्यू के एक महीने के दौरान जिले में 9685 मरीज सामने आए है और 235 मरीजों की मौत हुई, जो कोरोना काल में अब तक सबसे अधिक है। इससे पहले जनवरी में 727 मरीज और 32 मौतें और फरवरी में 1044 मरीज और 31 मौतें हुई थी। इन दो महीनों के मुकाबले ये केस 9 प्रतिशत तक बढ़ गए है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े बता रहे हैं कि नाइट कर्फ्यू लगाना बस एक नियम बनकर रह गया है।

स्वास्थ्य विभाग के नोडल अफसर डा.टीपी सिंह का कहना है कि मरीजों की संख्या स्थिर होने लगी है। लोगों के सहयोग से कोरोना पर काबू पा लिया जाएगा। मंगलवार को कोरोना जांच के लिए सरकारी व गैर सरकारी लैब में 4931 लोगों के सैंपल के लिए भेजे गए। 4099 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़ें-कोरोना गाइडलाइन की लोग की उड़ा रहे धज्जियां

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

खुदरा और उघोग से जुड़े संगठनों को 2020 में टारगेट किया गया

Listen to this article

व्यापार (Business) और पेशेवर सेवाओं से जुड़े संगठन, खुदरा एवं आतिथ्य, वित्तीय, हेल्थकेयर और उच्च प्रौद्योगिकी ऐसे क्षेत्र रहे हैं, जिन्हें 2020 में साइबर अपराधियों (Cyber Criminals) ने विशेष तौर पर टारगेट किया है। मंगलवार को जारी एक नई रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है। ‘फायरआई मैंडिएंट एम-ट्रेंड्स 2021’ रिपोर्ट के अनुसार, खुदरा और आतिथ्य उद्योग से जुड़े संगठनों को 2020 में अधिक टारगेट किया गया है, जो कि पिछले साल की रिपोर्ट में 11वें स्थान की तुलना में दूसरे सबसे अधिक कामगार रहे।

हेल्थकेयर क्षेत्र में भी साइबर हमलों में काफी वृद्धि हुई, जो पिछले साल की रिपोर्ट में आठवें स्थान की तुलना में 2020 में तीसरा सबसे अधिक लक्षित उद्योग बन गया चूंकि कोरोना वायरस महामारी के बाद से स्वास्थ्य एक ऐसा क्षेत्र रहा है, जिसकी भूमिका सबसे अधिक देखी गई है। इस बीच थ्रीट एक्टर्स साइबर हमले में निपुण द्वारा बढ़ाए गए फोकस को वैश्विक महामारी के दौरान स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र द्वारा निभाई गई। जबकि पिछले वर्ष की रिपोर्ट में तुलनात्मक रूप से इस क्षेत्र में साइबर घुसपैठ में गिरावट देखी गई थी। वहीं विशेषज्ञों का कहना है कि इस क्षेत्र में अब साइबर हमलों की घटनाएं बढ़ी हैं। रिपोर्ट के अनुसार, 2020 में साइबर हमलों की घटनाओं में 59 का इजाफा हुआ है और 2019  की तुलना में इसमें 12 अंकों की वृद्धि दर्ज की गई है।

साइबर सिक्योरिटी कंपनी फायरआई के सहयोगी मैंडिएंट के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट और चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर चार्ल्स कार्मकल ने कहा, “संगठनों के लिए बहुउद्देशीय एक्सटॉर्शन और रैंसमवेयर सबसे अधिक प्रचलित खतरे हैं। इस वर्ष की रिपोर्ट में, प्रत्यक्ष वित्तीय लाभ के लिए कम से कम 36 प्रतिशत घुसपैठ की संभावना है, जिसकी हमने जांच की है।

 

-निघत

 

यह भी पढ़ें- गरीब देशों पर कोरोना को लेकर डब्लूएचओ ने उठाया मुद्दा

किसान सम्मान निधि योजना में फिर आने वाली है किस्त

Listen to this article

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजनाके तहत पात्र लाभार्थी किसानों को 2,000 रुपये की तीन किस्तों के रूप में साल में 6,000 रुपये प्राप्त होते हैं। अब तक लाभार्थी किसानों को इस योजना के अंतर्गत सात किस्तें प्राप्त हो चुकी हैं। वहीं, आठवीं किस्त इस महीने में जल्द ही किसानों के खातों में ट्रांसफर की जाएगी। अगर आपका नाम भी पीएम किसान की लिस्ट में है, तो आपको पीएम किसान सम्मान योजना का स्टेटस चेक करते रहना चाहिए। इससे पता चलेगा कि आपको कितनी किस्त मिल चुकी है? क्‍या आपकी कोई  किस्त रुकी है ? आप किस्त रुकने की वजह भी जान सकते हैं और उसे तत्‍काल दुरुस्‍त भी करा सकते हैं। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि यह स्टेटस कैसे चेक किया जाता है।

पीएम किसान सम्मान निधि का स्टेटस चेक करने के लिए रजिस्टर्ड किसानों को पीएम किसान सम्मान योजना की आधिकारिक वेबसाइट pmkisan.gov.in पर जाना होगा।  पीएम किसान सम्मान निधि योजना के होम पेज पर ‘Farmer’s Corner’ बना हुआ है। योजना के तहत रजिस्टर्ड किसानों को इस पर क्लिक करना होगा।अब आपको ‘Beneficiary Status’ का विकल्प दिखाई देगा। इस पर क्लिक करने के बाद आप एक नए पेज पर रिडायरेक्ट हो जाओगे।

इस नए वेब पेज पर रजिस्टर्ड किसान को अपना आधार कार्ड नंबर, बैंक अकाउंट नंबर या रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा। इन तीनों में से एक जानकारी दर्ज करने के बाद ‘Get Data’ पर क्लिक करना होगा। अब किसान का पीएम किसान सम्मान निधि स्टेटस कंप्यूटर स्क्रीन या स्मार्टफोन पर खुल जाएगा। यहां पंजीकृत किसान अपने पीएम किसान सम्मान निधि किस्त के अलावा अन्य जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं।

 

-निघत

 

यह भी पढ़ें- विदेश विभाग ने कहा जापानी सरकार अपने फैसले के बारे में पारदर्शी हैं

उंमग ऐप पर और भी सुविधांए बड़ी आसानी से अप्लाई कर सकेंगे

Listen to this article

UMANG यानि यूनिफाइड मोबाइल ऐप्लिकेशन फॉर न्यू-एज गवर्नेंस को ईपीएफ ग्राहकों द्वारा काफी पसंद किया जाता है। कोरोना पैंडेमिक के दौरान ईपीएफ कस्टमर्स घर बैठे-बैठे ही सर्विसेज़ का फायदा उठा सकें। उमंग ऐप पर ईपीएफ से जुड़ी हुई 16 सेवाएं पहले से उपलब्ध हैं। लेकिन अब इसमें एक नई सर्विस को भी जोड़ा जा रहा है।

उमंग ऐप पर नई सर्विस

नई सर्विस के आने से ईपीएस (कर्मचारी पेंशन योजना) सदस्य,कर्मचारी पेंशन योजना 1995 के तहत योजना प्रमाणपत्र के लिए उमंगऐप से अप्लाई कर सकेंगे।  ये योजना प्रमाण पत्र उन सदस्यों के लिए होता है जो अपना ईपीएफ में किया गया योगदान वापस लेते हैं रिटायरमेंट के बाद पेंशन लाभ चाहते है,ईपीएफओ के साथ सदस्यता बरकरार रखना चाहते हैं।

मिलेगा बड़ा फायदा

श्रम और रोजगार मंत्रालय का कहना है कि इस सर्विस से एड होने से ईपीएफ अकाउंट होल्डर सदस्यता खत्म किए बिना ईपीएस वापिस ले सकेंगे। ये योगदान वापिस लेने के बाद भी ईपीएस अकाउंट होल्डर्स को पेंशन का बेनिफिट मिलेगा। ज कोई भी मेंबर तभी अपनी पेंशन ले सकता है, जब वो कम से कम 10 सालों के लिए कर्मचारी पेंशन योजना (ईपीएस), 1995 का सदस्य रहा हो।

क्या होता है सर्टिफिकेट का फायदा

जब आप अपनी नई नौकरी शुरू करते हैं तो इस सर्टिफिकेट से ये सुनिश्चिक हो जाता है कि पिछली पेंशन वाली सर्विस को नए कंपनी के साथ पेंशन वाली सर्विस में शामिल कर लिया जाए। इससे पेंशन लाभ में तो बढ़ोतरी होती ही है, साथ ही लाभार्थी की मृत्यु होने पर परिवार को पेंशन मिल जाती है।

नहीं लगाने होंगे ऑफिस के चक्कर

इस प्रोसेस में उमंग ऐप का ये फायदा है कि इस स्कीम सर्टिफिकेट के लिए काफी आसानी से अप्लाई किया जा सकता है। इसमें ना तो ईपीएफओ ऑफिस के चक्कर लगाने पड़ते हैं और न समय की बर्बादी होती है। इसमें आप कागज़ी झंझट से दूर रहते हैं।

करोड़ों लोगों को होगा फायदा

ईपीएफओ का अनुमान है नई सर्विस से करीब 5 करोड़ लोगों को बेनिफिट मिलगा।  उमंग ऐप पर उपलब्ध सभी सर्विसेज़ का लाभ लेने के लिए आपके पास एक्टिवयूनिवर्सल अकाउंट नंबर (यूएएन) और ईपीएफओ में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर होना जरूरी है। याद दिला दें कि नंवबर 2017 में उमंग ऐप को लॉन्च किया गया था। यहां कई स्कीमों की सेवाएं मिलती है। ज्यादातर लोग ईपीएफओ से जुड़ी सेवाओं के लिए इस ऐप का इस्तेमाल करते हैं। उमंग ऐप को भारत में 13 भाषाओं में उपलब्ध कराया गया है।

 

-निघत

 

यह भी पढ़ें- चीन ने भारतीय सीमा में तैनात की मिसाइलें

 

कोरोना मरीजों के इलाज का समय कम करने की बनाई जा रही योजना

Listen to this article

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में फिलहाल वैक्सीन हथियार का काम कर रही है। ऐसे में इस महामारी के खिलाफ नया हथियार सामने आया हैकनाडा की एक कंपनी (Sanitizer) ने एक स्प्रे तैयार किया है। कंपनी दावा कर रही है कि इस स्प्रे को नाक में डालने से वायरस में भारी कमी आती है। साथ ही इस स्प्रे की मदद से मरीज के इलाज का वक्त भी कम किया जा सकता है। इसके अलावा गंभीर लक्षणों का सामना कर रहे मरीज की स्थिति भी बेहतर हो सकती है।

द सन की रिपोर्ट बताती है कि ये स्प्रे 99.99 प्रतिशत वायरस खत्म कर देता है। साथ ही यह वायरस को फैलने से भी रोकता है अमेरिका और ब्रिटेन में हुए लैब टेस्ट बताते हैं कि Sanitizer का स्प्रे बग को ऊपरी वायुमार्ग में ही मार देता है। इसके बाद इसे बढ़ने और फेफड़ों की तरफ जाने से रोकता है। स्प्रे से इलाज कराने वाले मरीजों में शुरुआती 24 घंटों में औसत वायरल रिडक्शन 1.362 रहा।

आंकड़ों को देखें, तो इससे पता चलता है कि वायरस में 95 फीसदी तक की कमी आई है। वहीं, 72 घंटों में वायरल लोड 99 फीसदी से ज्यादा गिर गया ब्रिटेन में हुए ट्रायल के मुख्य जांचकर्ता डॉक्टर स्टीफन विन्चेस्टर ने कहा ‘मुझे उम्मीद है कि महामारी के खिलाफ वैश्विक जंग में यह बड़ी जीत साबित होगी। मुझे लगता है कि ये क्रांतिकारी है’ भारत में भी इसी तरह की एक दवा बनाने के प्रयास जारी है।

कोवैक्सीन तैयार करने वाली कंपनी भारत बायोटेक कोरोफ्लू नाम से एक दवा तैयार कर रही है। इस दवा का इस्तेमाल सिरींज के बजाए स्प्रे के तौर पर किया जाएगा इस दवा के सामने आने के बाद कोरोना वायरस से जूझ रहे मरीजों के इलाज की प्रक्रिया और आसान हो जाएगी क्योंकि इसमें समय भी कम लगेगा और यहां प्रक्रिया भी आसान हो जाएगी स्प्रे की मदद से मरीज औऱ स्वास्थ्यकर्मी दोनों को आसानी होगी।

 

-निघत

 

यह भी पढ़ें- ज्वालामुखी में भी लोग अपना घर छोड़ने को तैयार नहीं

BSNL ने किया बड़ा ऐलान 449 में पाओ 300 MBPS स्पीड

Listen to this article

भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) ने पिछले साल नवंबर में भारत फाईबर प्लान्स लॉन्च किए थे। जिसके बाद अब BSNL ने इन प्लान्स को एक बार फिर पेश किया है। जिन्हें जुलाई 2021 तक के लिए उपलब्ध कराया गया है।

इसके साथ ही BSNL ने एयर फाईबर प्लान्स को भी अलग से लॉन्च किया है। इन प्लान की कीमत 449 रुपये से शुरू होती है और इसके साथ 300Mbps तक स्पीड और 4 जीबी तक डाटा दिया जा रहा है।

Disney + HotStar की फ्री मेंबरशिप

BSNL Bharat Fiber 449 रुपये वाले प्लान में यूजर्स को 30Mbps स्पीड के साथ 3.3 जीबी डाटा दिया जाएगा।FUP लिमिट खत्म होने के बाद यह स्पीड 2Mbps रह जाएगी। इस प्लान के साथ भारत में किसी भी नेटवर्क पर अनलिमिटेड वॉयस कॉलिंग की सुविधा दी जा रही है। BSNL Bharat Fiber 799 रुपये वाले प्लान में यूजर्स को 100Mbps स्पीड के साथ 3.3 जीबी डाटा दिया जाएगा।FUP लिमिट खत्म होने के बाद यह स्पीड 2Mbps रह जाएगी। इस प्लान के साथ भारत में किसी भी नेटवर्क पर अनलिमिटेड वॉयस कॉलिंग की सुविधा दी जा रही है।

BSNL Premium Fiber 999 रुपये वाले प्लान में यूजर्स को 200Mbps स्पीड के साथ 3.3 जीबी डाटा दिया जाएगा।FUP लिमिट खत्म होने के बाद यह स्पीड 2Mbps रह जाएगी। इस प्लान के साथ भारत में किसी भी नेटवर्क पर अनलिमिटेड वॉयस कॉलिंग की सुविधा दी जा रही है। इसके साथ कंपनी Disney+ Hotstarकी फ्री मेंबरशिप भी दे रही है। BSNL Ultra Fiber 1,499 रुपये वाले प्लान में यूजर्स को 300Mbps स्पीड के साथ 4 जीबी डाटा दिया जाएगा।FUP लिमिट खत्म होने के बाद यह स्पीड 4Mbps रह जाएगी। इस प्लान के साथ भारत में किसी भी नेटवर्क पर अनलिमिटेड वॉयस कॉलिंग की सुविधा दी जा रही है।

BSNL Air Fiber Basic 499 रुपये वाले प्लान में यूजर्स को 30Mbps स्पीड के साथ 3.3 जीबी डाटा दिया जाएगा।FUP लिमिट खत्म होने के बाद यह स्पीड 2Mbps रह जाएगी। इस प्लान के साथ भारत में किसी भी नेटवर्क पर अनलिमिटेड वॉयस कॉलिंग की सुविधा दी जा रही है।

BSNL Air Fiber Basic Plus Plan at RS 69BSNL Air Fiber Basic Plus 699 रुपये वाले प्लान में यूजर्स को 40Mbps स्पीड के साथ 3.3 जीबी डाटा दिया जाएगा।FUP लिमिट खत्म होने के बाद यह स्पीड 4Mbps रह जाएगी।

BSNL Air Fiber Value Plus 899 रुपये वाले प्लान में यूजर्स को 50Mbps स्पीड के साथ 3.3टीबी डाटा दिया जाएगा।FUP लिमिट खत्म होने के बाद यह स्पीड 6Mbps रह जाएगी। इस प्लान के साथ भारत में किसी भी नेटवर्क पर अनलिमिटेड वॉयस कॉलिंग की सुविधा दी जा रही है।BSNL Air Fiber Premium 1,199 रुपये वाले प्लान में यूजर्स को 70Mbps स्पीड के साथ 3.3 जीबी डाटा दिया जाएगा।FUP लिमिट खत्म होने के बाद यह स्पीड 10Mbps रह जाएगी। इस प्लान के साथ भारत में किसी भी नेटवर्क पर अनलिमिटेड वॉयस कॉलिंग की सुविधा दी जा रही है। इस प्लान के साथ 2,000 रुपये अतिरिक्त शुल्क देने पर स्टैटिट आईपी एड्रेस का लाभ उठाया जा सकता है।

 

 

-निघत

 

यह भी पढ़ें- कोरोना माहामारी के बीच कुंभ मेले की भीड़ देख भड़के रामगोपाल वर्मा

 

मारूती सुजुकी कार लोगों के बीच हुई सबसे लोकप्रिय

Listen to this article

देश की सबसे बड़ी कार विनिर्माता मारुति सुजुकी इंडियाने मंगलवार को कहा कि 2020-21 में स्विफ्ट, बुलेरो, वैगनआर, ऑल्टोऔर डिजायरसबसे अधिक बिकने वाली कारे हैं। कंपनी ने एक बयान में कहा कि 1.72 लाख इकाइयों के साथ स्विफ्ट पहले स्थान पर है, जबकि बलेनो 1.63 लाख इकाइयों के साथ दूसरे स्थान पर रही है। पिछले वित्त वर्ष 2020-21 की बात करें तो ये पांचों सबसे अधिक बिकने वाली कारने लगातार चौथे साल अपना आकर्षण बनाए रखा है।

मारुति सुजुकी इंडिया ने बताया कि 1.60 लाख इकाइयों के साथ वैगनआर तीसरे स्थान पर रही है। इस दौरान ऑल्टो और डिजायर की क्रमशः 1.59 लाख इकाइयां और 1.28 लाख इकाइयां बिकीं हैं।कंपनी द्वारा जारी बयान के मुताबिक पिछले एक दशक से सबसे अधिक बिकने वाली चार कार मारुति सुजुकी की रही है।

30 फीसदी इन मॉडल्स का रहा योगदान

एमएसआई ने बताया कि इन मॉडलों ने 2020-21 में कुल यात्री वाहनों की बिक्री में लगभग 30 प्रतिशत का योगदान दिया है।कंपनी ने कहा कि लगातार चौथे साल भी बिक्री के लिहाज से भारत की शीर्ष पांच गाड़ियां सुजुकी की हैं।

एमएसआई के कार्यकारी निदेशक शशांक श्रीवास्तव ने कहा कि बढ़ती प्रतिस्पर्धा के बावजूद 2020-21 में बिक्री के लिहाज से शीर्ष पांच यात्री वाहन मारुति सुजुकी के हैं। उन्होंने कहा कि 2020 की अर्थव्यवस्था के लिए नई चुनौतियां लाया, लेकिन ग्राहकों का विश्वास मारुति सुजुकी पर अटूट रहा।

 

-निघत

 

यह भी पढ़ें- CM तीरथ सिंह रावत ने तीसरे शाही स्नान सभी को दी शुभकामनाएं मुख्यमंत्री