जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल का निधन, पीएम ने जताया दुख

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

जम्मू कश्मीर के पूर्व गवर्नर जगमोहन का निधन हो गया। वह 94 साल के थे। जगमोहन ने दिल्ली में अंतिम सांस ली। इनका पूरा नाम जगमोहन मल्होत्रा था। जगमोहन जम्मू कश्मीर के गवर्नर रहने के अलावा केंद्रीय मंत्री भी रह चुके थे। दिल्ली में उनका किसी बीमारी का इलाज चल रहा था, इसी दौरान सोमवार (03 मई) को उनका निधन हुआ। जगमोहन जम्मू कश्मीर के अलावा गोवा के उपराज्यपाल भी रह चुके हैं। जगमोहन सांसद भी थे। उन्होंने नगरीय विकास और पर्यटन मंत्री का कार्यभार भी संभाला था।

उन्हें दो बार जम्मू-कश्मीर का राज्यपाल चुना गया था। वह 1984 से 1989 तक और फिर 1990 में जनवरी से मई तक इस पद पर रहे थे। जगमोहन को पहले कांग्रेस सरकार ने 1984 में राज्यपाल बनाकर भेजा। पहली पारी के दौरान वह जून 1989 तक राज्यपाल रहे। फिर वीपी सिंह सरकार ने उन्हें दोबारा जनवरी 1990 में राज्यपाल के रूप में भेजा। वह इस पद पर मई 1990 तक रहे। जगमोहन मल्होत्रा बाद में राजनीति में उतरे। अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में वह मंत्री भी बने थे।

पीएम मोदी ने उनके निधन पर शोक जताया। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि जगमोहन जी का निधन हमारे राष्ट्र के लिए एक बहुत बड़ी क्षति है। वह एक अनुकरणीय प्रशासक और एक प्रसिद्ध विद्वान थे। उन्होंने हमेशा भारत की बेहतरी की दिशा में काम किया। उनके मंत्रित्व कार्यकाल के दौरान इनोवेटिव नीति निर्धारण किया गया था। उनके परिवार और प्रशंसकों को मेरी तरफ से संवेदना।

 

सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े- चुनाव खत्म होते ही एमपी-राजस्थान में 101 रुपये पहुंचा पेट्रोल

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म पर रिलीज़ होने वाली यह फिल्में और वेब-सीरिज़ ,जानिए

Listen to this article

इस हफ़्ते ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर कई दिलचस्प फ़िल्में और वेब सीरीज़ रिलीज़ हो रही हैं, जिनमें रोमांस, एक्शन, ड्रामा, कॉमेडी सब देखने को मिलेगा। कोरोना वायरस पैनडेमिक के बीच जब देश के अधिकतर राज्यों में सिनेमाघर बंद हैं। ऐसे में ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर आ रहे शोज़ और फ़िल्में आपके मनोरंजन की डोज़ कम नहीं होने देंगे। आपकी सुविधा के लिए हाज़िर है इस वीकेंड की लिस्ट।

7 मई से डिज़्नी प्लस हॉटस्टार पर 11 नये शोज़ स्ट्रीम किये जा रहे हैं। रोमांस, कॉमेडी, क्राइम, थ्रिलर जॉनर में आ रहे शोज़ की ख़ासियत इनकी अवधि है। यह सभी शोज़ छोटी-छोटी अवधि के हैं। इन शोज़ के नाम हैं- छत्तीस और मैना, मुकेश जासूस, सिक्स, मर्डर मेरी जान, तीन दो पांच, शिट यार, भोपाल टू वेगास, हमारा बार हैप्पी आवर, बामिनी एंड बॉयज़, क्राइम नेक्सट डोर, अनकही और अनसुनी- झागी फाइल्स।

आज नेटफ्लिक्स पर आइवन अय्यर की फ़िल्म माइलस्टोन आ रही है, जिन्होंने चर्चित फ़िल्म सोनी बनायी थी। माइलस्टोन एक मध्य उम्र के ट्रक ड्राइवर गालिब की कहानी है, जो एक निजी हादसे से उबरने की कोशिश कर रहा है और एक नये भर्ती हुए नौजवान के हाथों जॉब खोने का भी डर है। फ़िल्म में सुविंदर विक्की और लक्षवीर सरन मुख्य भूमिकाओं में हैं। आज ही नेटफ्लिक्स पर अंग्रेजी फ़िल्म ज्यूपिटर्स लेगेसी रिलीज़ होगी।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े- मैनचेस्टर सिटी पहली बार चैंपियन लीग फाइनल में

टीएमसी नेता ने करवाई कंगना रनौत के खिलाफ FIR दर्ज

Listen to this article

एक्ट्रेस कंगना रनोत ट्विटर अकाउंट बंद होने के बाद और भी ज्यादा अग्रेसिव हो गईं हैं। कंगना एक के बाद एक इंस्टाग्राम पर स्टोरी अपडेट कर रहीं हैं। अपनी सारी स्टोरी में कंगना, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साध रहीं हैं। ये सब देखते हुए ये कहना गलत नहीं होगा कि अब एक्ट्रेस की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। अब कंगना के खिलाफ तृणमूल कांग्रेस के नेता ऋजु दत्ता ने FIR दर्ज कराई है। आरोप है कि अभिनेत्री हेट प्रोपगैंडा (नफरत) फैलाने की कोशिश कर रही हैं।

कंगना पर लगे संगीन आरोप

ऋजु ने अपने ट्विटर हैंडल पर FIR की कॉपी शेयर की। उन्होंने आरोप लगाया कि कंगना ने अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम अकाउंट पर कई आपत्तिजनक पोस्ट किए हैं। इसके साथ उन्होंने इंस्टा स्टोरी का लिंक भी दिय। ऋजु लिखते हैं कि मिस. रनोत पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की छवि को खराब करने की कोशिश कर रही हैं। उन्होंने पुलिस से अभिनेत्री के खिलाफ कड़ा कदम उठाने की अपील की है।

ट्विटर अकाउंट पहले ही हो चुका है सस्पेंड

कंगना रनोत का ट्विटर अकाउंट पहले ही सस्पेंड कर दिया गया है। उन पर ट्विटर के नियमों का पालन न करने का आरोप है। कंगना ने रिएक्शन देते हुए कहा था कि उनके पास अन्य मंच हैं जहां वह अपनी बात कह सकती हैं।

कंगना ने कही ये बात…

कंगना रनौत ने अपने एक बयान में कहा, ‘ट्विटर ने हमेशा की तरह इस बार भी साबित कर दिया है कि वह जन्म से अमेरिकी हैं। उन्हें लगता है एक सफेद व्यक्ति, भारत में रहने वाले (काले रंग) व्यक्ति को गुलाम बनाने का हकदार है। वे आपको ये बताना चाहते हैं कि आपको क्या बोलना है ,सोचना है और क्या करना है? हालांकि मेरे पास कई मंच हैं जिनका उपयोग मैं अपनी आवाज उठाने के लिए कर सकती हूं।‘

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े- अधिक पैसे वसूलने वाले निजी अस्पताल पर होगा केस तथा रद होगा लाइसेंस

पटना में सेना के जवानों ने संभाली अस्पताल की कमान

Listen to this article

पटना के  ESIC अस्पताल में 500 बेड की तैयारी 30 दिन से चल रही थी। यहां 500 बेड का कोरोना डेडिकेटेड अस्पताल चालू होने से बेड के लिए चल रही मारामारी कुछ कम होगी। इसमें 100 ICU बेड होंगे। इसके लिए पूर्वोत्तर स्थित आर्मी बेस से सेना के दो फील्ड अस्पताल की टीम वायु सेना के विशेष विमान से बुधवार और गुरुवार को पटना पहुंच चुकी है। इसमें स्पेशलिस्ट डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ सहित करीब 80 सैन्य कर्मी शामिल हैं।

सेना की चल रही है विशेष तैयारी

सेना के सूत्रों के मुताबिक, कोविड अस्पताल को संचालित करने के लिए 50% मैन पावर आ गई है। जल्द सेना के नॉदर्न, सेंट्रल सहित अन्य कमांड से बाकी मेडिकल टीम भी पहुंच जाएगी। अस्पताल को शुरू करने के लिए कुछ चिकित्सा उपकरणों और दवाओं का इंतजार किया जा रहा है। सेना टीम को ठहरने के लिए ESIC अस्पताल के गेस्ट हाउस और हॉस्टलों में इंतजाम किया गया है।
अस्पताल शुरू करने को लेकर सेना के चिकित्सकों और ESIC अस्पताल तथा प्रशासन की टीम के बीच गुरुवार को महत्वपूर्ण बैठक हुई। कोविड अस्पताल में हर तरह की अत्याधुनिक चिकित्सक सुविधा उपलब्ध होगी। अस्पताल में सभी बेड पर पर ऑक्सीजन का इंतजाम होगा। आईसीयू में मॉनिटरिंग उपकरण और वेंटीलेटर उपलब्ध होंगे। हर तरह की जांच की भी सुविधा होगी।

पटना हाईकोर्ट भी लगातार कर रहा मॉनिटरिंग

ESIC बिहटा को पूरी तरह चालू कराने का निर्देश पटना हाईकोर्ट भी कई बार दे चुका है। कोर्ट भी लगातार इस अस्पताल में सुविधाएं बढ़ाने की मॉनिटरिंग कर रहा है। कोर्ट ने बीते सोमवार तक ही कोविड मरीजों के लिए 150 बेड और उसी अनुपात में निर्बाध ऑक्सीजन आपूर्ति शुरू कराने को कहा था। लैबोरेटरी व दवाखाने को भी अगले हफ्ते तक शुरू करने का निर्देश दिया था। पिछले साल अगस्त में सेना की मदद से यहां 500 बेड का अस्पताल शुरू किया गया था।

शिवानी माजिला

 

यह भी पढ़े- डिप्टी CM डॉ दिनेश शर्मा और उनकी पत्नी ने जीती कोरोना से जंग

अनुष्काऔर विराट ने शुरू किया नया अभियान, जानिए कैसे करेंगे मदद पीड़ितों की

Listen to this article

बॉलीवुड अभिनेत्री अनुष्का और उनके क्रिकेटर पति विराट कोहली कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में लोगों की मदद से आगे आए हैं। विराट-अनुष्का ने जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए धन जुटाने का अभियान शुरू किया है। दोनों ने इस बात की जानकारी सोशल मीडिया के जरिए दी है।

अनुष्का शर्मा ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा- हमारा देश कोरोना वायरस की दूसरी लहर से लड़ रहा है। हमारा हेल्थकेयर सिस्टम कई मुश्किलों का सामना कर रहा है, अपने लोगों को तकलीफ में देख मेरा दिल दुखता है। इसलिए मैंने और विराट ने एक अभियान की शुरुआत की है, कोविड 19 रिलीफ के लिए फंड इक्ट्ठा करने के लिए। हम सभी मिलकर इस संकट से उभरेंगे। इस मुश्किल समय में आपका योगदान लोगों की जान बचा सकेगा।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े- अधिक पैसे वसूलने वाले निजी अस्पताल पर होगा केस तथा रद होगा लाइसेंस

संगीतकार वनराज भाटिया का हुआ निधन, मुंबई में स्थित घर पर ली अंतिम सांस

Listen to this article

हिंदुस्तानी और पाश्चात्य शास्त्रीय संगीत पर बराबर की पकड़ रखने वाले प्रसिद्ध संगीतकार वनराज भाटिया का शुक्रवार सुबह मुंबई में अपने आवास पर निधन हो गया। वह 93 वर्ष के थे। भाटिया दिल्ली विश्वविद्यालय में संगीत के पांच साल तक रीडर भी रहे। श्याम बेनेगल की फिल्म ‘अंकुर’ से अपने फिल्मी करियर की शुरूआत करने वाले वनराज भाटिया देश के पहले संगीतकार रहे जिन्होंने विज्ञापन फिल्मों के लिए अलग से संगीत रचने की शुरूआत की।

‘जाने भी दो यारों’ के संगीतकार

काफी अरसे से बीमार चल रहे संगीतकार वनराज भाटिया ने सुबह दक्षिण मुंबई स्थित अपने आवास पर अंतिम सांस ली। ‘मंथन’, ‘भूमिका’, ‘जाने भी दो यारों’, ’36 चौरंगी लेन’ और ‘द्रोहकाल’ जैसी फिल्मों से वह हिंदी सिनेमा में लोकप्रिय हुए। लेकिन, उनकी संगीत साधना के बारे मे लोग कम ही जानते हैं। भाटिया को 1988 में टेलीविजन पर रिलीज हुई फिल्म ‘तमस’ के लिए सर्वश्रेष्ठ संगीतकार का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला। इसके अलावा सृजनात्मक व प्रयोगात्मक संगीत के लिए 1989 में उन्हें संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया। भारत सरकार ने उन्हें 2012 में पद्मश्री पुरस्कार दिया था।

हिंदुस्तानी और पाश्चात्य शास्त्रीय संगीतज्ञ

एक गुजराती परिवार में जन्मे वनराज भाटिया ने संगीत की प्रारंभिक शिक्षा लेने के बाद देवधर स्कूल ऑफ म्यूजिक में हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत सीखा। चाइकोवस्की को पियानो बजाते देखने के बाद उनकी रुचि पाश्चात्य शास्त्रीय संगीत में हुई और उन्होंने चार साल लगातार फिर पियानो ही सीखा। मुंबई के एलफिन्स्टन कॉलेज से संगीत में एमए करने के बाद भाटिया ने हॉवर्ड फरगुसन, एलन बुशऔर विलियम एल्विन जैसे संगीतकारों के साथ रॉयल अकादमी ऑफ म्यूजिक, लंदन में संगीत की रचना करनी सीखी। यहीं उन्हें सर माइकल कोस्टा स्कॉलरशिप मिली और यहां से गोल्ड मेडल के साथ शिक्षा पूरी करने के बाद उन्हें फ्रांस की सरकार ने रॉकफेलर स्कॉलरशिप प्रदान की।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े- डिप्टी CM डॉ दिनेश शर्मा और उनकी पत्नी ने जीती कोरोना से जंग

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला

Listen to this article

केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री वी.मुरलीधरन की कार पर पश्चिम मिदानपुर जिले के पंचकुरी गांव में हमला किया गया। वह भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ चुनाव के बाद कथित रूप से हिंसा के सिलसिले में दौरा कर रहे थे। मुरलीधर ने ट्विटर पर अरोप लगाया कि उनके काफिले पर हमले में टीएमसी के गुंडों का हाथ है। मुरलीधरन ने कहा, मैं पश्चिम मिदनापुर में पार्टी के इन कार्यकर्ताओं से मिलने गया था, जिन पर हमला किया गया है और जिनके घरों में तोड़फोड़ की गई है। मैं अपने काफिले के साथ एक घर से दूसरे घर जा रहा था। तभी लोगों का एक समूह अचानक हमारी ओर बढ़ने लगा तथा हमला कर दिया।

मंत्री ने बताया, मैं सुरक्षित हूं, लेकिन मेरा चालक जख्मी हो गया और कुछ कारों की खिड़कियां टूट गई। मंत्री के साथ मौजूद भाजपा के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्ह ने दावा किया कि पुलिसकर्मियों की मौजूदगी के बावजूद हमला हुआ। पुलिस अधिकारी ने कहा कि अब तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है।

भाजपा अध्यक्ष ने की निंदा

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने विदेश राज्यमंत्री मुरलीधरन के काफिले पर हुए हमले की कड़ी निंदा की और आरोप लगाया कि राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति पूरी तरह ध्वस्त हो चूकी है।

 

शिवानी माजिला

 

यह भी पढ़े- रेलवे का बड़ा फैसला: देश में शताब्दी, राजधानी समेत कई ट्रेनें की गई रद्द