उत्तराखंड में कल से खुलेंगे सरकारी और प्राइवेट कॉलेज

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

प्रदेश में सभी सरकारी और निजी विश्वविद्यालय एवं डिग्री कॉलेज 21 जून से खुलेंगे। कालेजों में आनलाइन और आफलाइन पढ़ाई प्रारंभ होगी। सरकार ने 19 जून तक ग्रीष्मावकाश को आगे जारी नहीं रखने का निर्णय किया है। प्रदेश में तकरीबन डेढ़ माह से सभी विश्वविद्यालय एवं डिग्री कालेज ग्रीष्मावकाश के चलते बंद हैं। कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप बढ़ने पर सरकार ने बीती सात मई को आदेश जारी कर 12 जून तक विश्वविद्यालयों एवं डिग्री कालेजों के लिए ग्रीष्मावकाश घोषित कर दिया था।

इसके बाद इस अवकाश को शनिवार तक बढ़ाया गया था। उच्च शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा धन सिंह रावत ने कहा कि 21 जून से सभी विश्वविद्यालयों एवं डिग्री कालेजों में पढ़ाई शुरू की जाएगी।

उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय एवं कालेज खोले जाएंगे, लेकिन अभी सिर्फ शिक्षकों को ही बुलाया गया है। छात्र-छात्राओं को पढ़ाई का नुकसान न उठाना पड़े, इसके लिए अभी आनलाइन पढ़ाई शुरू की जाएगी। हालांकि कोरोना संक्रमण की स्थिति सुधरने के साथ ही आफलाइन पढ़ाई प्रारंभ करने के लिए भी तैयारी करने को कहा गया है। अगले माह यानी एक जुलाई से आफलाइन पढ़ाई विधिवत शुरू करने संकेत उन्होंने दिए।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े- पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से आम आदमी का बुरा हाल

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

नैनीताल हाईकोर्ट ने जारी किया आदेश चारधाम यात्रा पर 18 अगस्त  तक रहेगी रोक

Listen to this article

नैनीताल हाईकोर्ट ने आज यह आदेश जारी किया है की चारधाम यात्रा पर आने वाले 18 अगस्त तक रोक लगी रहेगी। कोर्ट ने यह जानकारी देते हुए कहा है कि चारधाम यात्रा का प्रकरण राज्य सरकार की अपील पर सुप्रीम कोर्ट में बाकी है और वहां से कोई निर्णय नहीं हुआ है। राज्य सरकार ने यात्रा पर रोक जारी रखने के लिए कोर्ट में दी गई सहमति पर चारधाम यात्रा पर रोक को भी अगली तिथि तक बढ़ा दिया है और अब 18 अगस्त तक चारधाम यात्रा पर रोक  लगी रहेगी। मामले की अगली सुनवाई 18 अगस्त को की जाएगी।

हाईकोर्ट द्वारा राज्य सरकार व स्वास्थ्य सचिव को कुछ निर्देश दिए गई है जिसमे -सरकारी अस्पतालों में पीडियाट्रिक वार्ड और पीडियाट्रिक वेंटिलेटर की क्या स्थिति है उसका विवरण अगली तिथि तक देंने, राज्य में सरकारी अस्पतालों में नर्स एवं वार्ड बॉय आदि सपोर्ट स्टाफ के कितने पद खाली हैं और उनकी भर्ती के संबंध में क्या प्रक्रिया चलाई जा रही है और क्या कदम उठाए गए इसका विवरण दें। इसे अलावा कई और निर्देश इसमे सामील है।

 

    -रितिका चौहान

 

यह भी पढ़े- रैली निकालकर की बद्रीनाथ यात्रा शुरू होनी की मांग

CM योगी ने दिए निर्देश दशहरे के दिन रामनगरी को आध्यात्मिक मेगा सिटी बनाने के

Listen to this article

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दशहरे के दिन रामनगरी को आध्यात्मिक मेगा सिटी व विश्वस्तरीय पर्यटन सिटी बनाने की प्रस्तावित योजनाओं का लोकार्पण व निव दाल सकते हैं। इसकी तैयारी में अयोध्या विकास प्राधिकरण लगा हुआ है। वंही 15 अक्तूबर को मुख्यमंत्री के आने के कार्यक्रम बन रहा है। इसमें विजन डॉक्यूमेंट की प्रस्तावित योजनाओं के साथ समस्त विभागों की पूर्ण व प्रस्तावित योजनाओं का लोकार्पण वह निव रखी जा सकती है। हालांकि अभी इसके लिए मुख्यमंत्री से अनुमति ली जानी बाकी है।

अयोध्या में विकास की लगभग 25 हजार करोड़ रुपये की विकास योजनाएं प्रस्तावित हैं। इसमें केंद्र व राज्य सरकार की 24 से अधिक परियोजनाएं शामिल हैं। इसके अलावा धर्मार्थ कार्य के तहत भी अयोध्या के विकास के लिए बजट मिला है। इन सब के साथ ही अयोध्या के विभिन्न विभागों की पूर्ण व प्रस्तावित योजनाओं पर भी कार्य चल रहा है। नामागि गंगे परियोजना के तहत शहर के आठ तालाबों का सुंदरीकरण व आर्ट वर्क का कार्य भी जल्द शुरू होना है। अक्तूबर माह से पूर्व अधिकांश योजनाओं के पूर्ण होने की उम्मीद है।

 

 रितिका चौहान

 

यह भी पढे़- पांच साल के पीएचडी प्रोग्राम में हुआ चयन, कंप्यूटर साइंस पर करेंगे रिसर्च

कर्नाटका के नए सीएम बसवराज बोम्मई आज लेंगे शपथ

Listen to this article

नए मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने आज पदभार संभाला और शपथ लेंगे। शपथ ग्रहण समारोह सुबह 11 बजे हुई। बीएस येदियुरप्पा के इस्तीफे के बाद भाजपा प्रभारी अरुण सिंह की देखरेख में भाजपा विधायक दल की बैठक हुई है, जिसमें येदियुरप्पा ने अपने करीबी और लिंगायत समुदाय से आने वाले राज्य के गृहमंत्री ने बसवराज  बोम्मई का नाम प्रस्ताव करा,  जिन्हें उसके बाद नेता चुना गया। देर रात बोम्मई ने राज्यपाल थावरचंद गहलोत से मुलाकात भी की थी।

कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री 12 साल पहले ही भाजपा में शामिल हो गए थे मगर आज ‘नायक’ बने। वह पेशे से मैकेनिकल इंजीनियर थे साथ ही खेती से जुडे़ होने के नाते कर्नाटक के सिंचाई मामलों का जानकार माने जाते है। राज्य में कई सिंचाई परियोजनाएं शुरू करने की वजह से उनकी सराहना की जाती है। उन्हें अपने मुख्यमंत्री बनने से पहले विधानसभा क्षेत्र में भारत की पहली 100 फीसदी पाइप सिंचाई परियोजना लागू करने का श्रेय लिया है। उनके पिता एसआर बोम्मई भी कर्नाटक के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। बसवराज 2008 में भाजपा में शामिल हुए और तभी लगातार पार्टी में कामयाबि हासिल करते चले गए। वह पहले राज्य सरकार में जल संसाधन मंत्री रहने के साथ उन्होंने अपने राजनीतिक कॅरियर की शुरुआत जनता दल के साथ की थी।

 

   – नैन्सी लोहानी

 

यह भी पढ़े- क्यों मनाते है विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस

छह बार की ओलंपिक मेडलिस्ट सिमोन बाइल्स ऑल-राउंड फाइनल से हटीं

Listen to this article

सिमोन बाइल्स जो कि छह बार की ओलंपिक मेडलिस्ट, पांच वर्ल्ड ऑल-अराउंड खिताब जीतने वाली वह एकमात्र महिला और 30 विश्व और ओलंपिक पदक हैं। उन्होंने अपने मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देते हुए टोक्यो ओलंपिक खेलों में अंतिम व्यक्तिगत ऑल-अराउंड प्रतियोगिता से नाम वापस ले लिया है। गवर्निंग बॉडी की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि सिमोन की रोजाना जांच होगी और उसके बाद यह फैसला होगा कि वह अगले हफ्ते होने वाली स्पर्धा के फाइनल्स में खेलेंगी या नहीं। सूत्रों के मुताबिक सिमोन की जगह जेड कैरी इस स्पर्धा में हिस्सा लेंगी।  अमेरिका की जिम्नास्ट सिमोन बाइल्स ऑल-राउंड फाइनल से हट गई हैं।

मंगलवार को वह जिमनास्टिक्स सेंटर में फाइनल मुकाबले से पहले बाइल्स अभ्यास कर रही थीं और ट्विस्ट वॉल्ट करने के दौरान उनकी हालत ठीक नहीं दिखाई दी। इसके बाद वह अपने कोच के साथ मैदान से बाहर चली गईं और लौटकर वापस नहीं आईं। बाद में अमेरिकी जिमनास्टिक की तरफ से उनके बाहर होने की पुष्टि की गई।

 

   – नैन्सी लोहानी

 

यह भी पढ़े- SPACE WAR की तैयारी में जुटा चीन (China)

 

 

क्यों मनाते है विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस

Listen to this article

28 जुलाई को  हर साल विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस मनाया जाता है। यह दिन मुख्य रुप से प्रकृति में हो रहे परिवर्तन से पृथ्वी को बचाने के लिए है।  जलवायु परिवर्तन, वनों की कटाई और कार्बन फुटप्रिंट  आज कि मुख्य समस्या हो गई है। धरती धीरे- धीरे ख्तम हो रही है, मगर कोरोना काल में लोगों के साथ-साथ परियावर्ण में भी सुधार दिख रहा है।

आसमान बहुत समय बाद नीला दिखा, हवा की गुणवत्ता बढ़ी और पहाडों पर भी प्रदूषण थोड़ा कम हुआ है। लेकिन, अनलॉक होते ही फिर सब पहले जैसी ही हो जाता है। महात्मा गांधी ने एक बार कहा था की पृथ्वी के पास हर इंसान की जरूरत पूरी करने के लिए काफी कुछ है, लेकिन उसके लालच को पूरा करने के लिए नहीं हैं । विकास की अंधी दौड़ ने हमें प्रकृति से दूर कर दिया है। हमें इसके पास जाने की जरूरत है। वही ग्लोबल वार्मिंग, बीमारियां, प्राकृतिक आपदाएं, समुद्र के जलस्तर का बढ़ना, भूस्खलन, जमीनों का रेगिस्तान और बंजर भूमि में  बदलना, तूफानों की संख्याओं और उनकी तीव्रता में वृद्धि, खाद्यशृंख्ला का टूटना, खाद्यजाल का छिन्न भिन्न होना आज कल कि मुख्य समस्या है।

   – नैन्सी लोहानी

 

यह भी पढ़े- UP 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव NCP समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन में लड़ेगी चुनाव

बिकरू कांड में शहीद हुए सीओ की बेटी वैष्णवी मिश्रा को बनाया कार्य अधिकारी

Listen to this article

बिकरू कांड में शहीद हुए सीओ की बेटी वैष्णवी मिश्रा को विशेष कार्य अधिकारी बनाया गया है। शहीद हुए एक सिपाही के भाई ने भी खाकी पहन ली है। दोनों को कानपुर कमिश्नरी में तैनात किया गया है। दोनों ने ड्यूटी ज्वाइन कर ली है। गैंगस्टर विकास दुबे की गिरफ्तारी को लेकर 2 जुलाई 2020 की रात को पुलिस ने गांव बिकरू में छापेमारी की। विकास दुबे और उसके गुर्गों ने 8 पुलिसकर्मि Bयों पर हमला कर उन्हें मार डाला है।

ओएसडी पद के लिए आवेदन

इसमें बिल्हौर सीओ देवेंद्र मिश्रा भी शहीद हुए थे। उनकी बड़ी बेटी वैष्णवी मिश्रा ने ओएसडी पद के लिए आवेदन किया। एक साल तक चली प्रक्रिया के बाद वैष्णवी को नियुक्ति मिल गई है। वैष्णवी की तैनाती पुलिस मुख्यालय में की गई। लेकिन अब उनका तबादला कानपुर कमिश्नरी में कर दिया गया है। पुलिस ऑफिस में उन्होंने पदभार ग्रहण कर लिया है।

सिपाही बबलू कुमार भी हुए शहीद

संबंधित अफसर उनको ट्रेनिंग दे रहे हैं। वहीं आगरा के फतेहाबाद थाना क्षेत्र के नगला लोहिया गांव निवासी सिपाही बबलू कुमार भी शहीद हुए थे। बबलू की तैनाती बिठूर थाने में थी। बबलू के छोटे भाई उमेश ने भर्ती के लिए आवेदन किया।

फिजिकल और मेडिकल परीक्षा पास करने के बाद उमेश ने भी खाकी पहन ली है। नियुक्ति के बाद कानपुर पुलिस कमिश्नरी में ही उनको तैनाती मिली है। फिलहाल पुलिस लाइन में तैनात हैं। सोमवार से छुट्टी पर घर गए हैं।

इनकी भर्ती प्रक्रिया जारी

दरोगा अनूप सिंह, दरोगा नेबूलाल और सिपाही राहुल कुमार की पत्नियों ने दरोगा पद के लिए आवेदन किया है। राहुल कुमार की पत्नी दिव्या ने फिजिकल पास भी कर लिया है।

प्रक्रिया जारी है। अन्य के भी भर्ती होने की प्रक्रिया चल रही है। इसके अलावा अन्य तीन पुलिसकर्मियों के परिजनों ने नौकरी के लिए अभी आवेदन नहीं किया है।

 

पुष्पा रावत

 

य़ह भी पढ़े- यूपी सरकार के इन 11 राज्य से आने वाले यात्रियों के लिए शर्त