राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने विश्व प्रसिद्ध जागेश्वर धाम के किए दर्शन

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य सोमवार को अपने निजी कार्यक्रम के दौरान विश्व प्रसिद्ध जागेश्वर धाम के दर्शन के लिए यहां पहुंची। राज्यपाल के यहां पहुंचने पर जिलाधिकारी नितिन भदौरिया, एसएसपी पंकज भट्ट समेत मंदिर प्रबंधन समिति के पदाधिकारियों ने उनका स्वागत किया और उन्हें स्मृति चिन्ह और शॉल ओढ़ाकर सम्मानित भी किया। भ्रमण के दौरान राज्यपाल ने मंदिर में भगवान भोलेनाथ के दर्शन किए और विश्व शांति की कामना की।

इस दौरान उन्होंने जिलाधिकारी और मंदिर प्रबंधन समिति के पदाधिकारियों से मंदिर के बारे में जानकारी भी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि मंदिर को उसके वास्तविक स्वरूप में रखते हुए जहां -जहां नुकसान हो रहा है। वहां पुनर्निर्माण कार्य कराया जाए। साथ ही श्रद्धालुओं की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए यहां हर संभव व्यवस्थाएं भी की जाएं। कहा कि यह मंदिर अल्मोडा क्षेत्र में धार्मिक पर्यटन के लिए काफी महत्वपूर्ण है।

जागेश्वर धाम के दर्शन के बाद राज्यपाल चितई मंदिर को रवाना हो गई। चितई मंदिर में दर्शन करने के बाद वह  राजभवन नैनीताल को वापस लौटेंगी। कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल ने मीडिया से दूरी बनाए रखी।

– मीना छेत्री

 

– यह भी पढ़े- खटीमा कोतवाली पुलिस को दस टायरा ट्रक चोरी मामले में मिली बड़ी सफलता

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

मानसून सत्र के हंगामे से हुई 133 करोड़ बर्बादी

Listen to this article

इस साल के मानसून सत्र के पहले दिन में ही हंगामा हो गया था और जब दूबारा सत्र आगे बढ़ाया गया तब भी गर्मा गर्मी का माहोल बना हुआ था। शुरुआत से ही पेगासस जासूसी और अन्य मुद्दों पर विपक्षी दलों के विरोध के बीच संसद ने 107 घंटों के निर्धारित समय में से केवल 18 घंटे ही काम किया गया। जिसके कारण करदाताओं के 133 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हो चुका है। सरकारी सूत्रों के मुताबिक अब तक 89 घंटे बर्बाद हो चुके हैं।

मानसून सत्र जो कि 19 जुलाई से शुरू हो चुका हैं और 13 अगस्त तक चलेगा लेकिन बीते दिन में केवल 13 प्रतिशत से भी कम समय के लिए काम हो पाया। जानकारी के मुताबिक लोकसभा अपने संभावित 54 घंटों में से केवल सात घंटे ही चल सकी, वहीं राज्यसभा संभावित 53 घंटों में से 11 घंटे ही चल पाई है। अब तक संसद में संभावित 107 घंटों में से केवल 18 घंटे काम हुआ।

– नैन्सी लोहानी

 

यह भी पढ़े- बच्चे को क्राइम पेट्रोल देखकर यह कारस्तानी सूझी

पाकिस्तान के बल्लेबाज ने बनाया विश्व रिकॉर्ड

Listen to this article

T20 इंटरनेशनल क्रिकेट में पाकिस्तान क्रिकेट टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज मोहम्मद रिजवान ने एक नया रिकॉर्ड बनाया है, जो कि एक विश्व रिकॉर्ड भी कहा जा सकता है। वेस्टइंडीज के साथ जारी टी20 सीरीज के दूसरे मैच में उन्होंने यह खास रिकॉर्ड हासिल किया है। पाकिस्तानी बल्लेबाज मोहम्मद रिजवान ने वेस्टइंडीज के खिलाफ चार मैचों की टी20 सीरीज खेली जिसमें दूसरे मुकाबले में 36 गेंदों में 46 रन की बनाए है।

इसी के साथ उन्होंने टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में एक कैलेंडर ईयर में सबसे ज्यादा रन बनाने का विश्व रिकॉर्ड कायम कर दिया। विकेटकीपर बल्लेबाज रिजवान ने अब 15 मैचों की 14 पारियों में 94 के औसत से 752 रन बनाए हैं। इस मामले में उन्होंने आयरलैंड के बल्लेबाज पॉल स्टर्लिंग के पिछले रिकॉर्ड को पीछे छोड़ कर आगे बढ़े

है।

– नैन्सी लोहानी

 

यह भी पढे़- कैदियों को आत्मनिर्भर बनाने की घोषणा

शाही ईदगाह के सचिव एडवोकेट अहमद ने प्रत्युत्तर का नहीं दिया जवाब

Listen to this article

शुक्रवार को शाही ईदगाह मस्जिद के सचिव ने मथुरा में श्री कृष्ण ठाकुर केशवदेव की जन्मस्थली से संबंधित भूमि मामले में उपासना स्थल अधिनियम के संबंध में जवाब दाखिल नहीं किया। उनको वादी के प्रत्युत्तर में जवाब दाखिल करना था। उधर, प्रतिवादियों में से एक सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन अदालत में अभी तक हाजिर नहीं हुए हैं। अदालत ने वादी को इस संबंध में पैरवी होने का निर्देश दिया और अगली सुनवाई 16 अगस्त तय की।

श्रीकृष्ण जन्मभूमि संबंधी वाद में सिविल जज सीनियर डिवीजन की अदालत में शुक्रवार को उपासना स्थल अधिनियम को लेकर बहस आगे बढ़नी थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। शाही ईदगाह मस्जिद के सचिव एडवोकेट तनवीर अहमद ने वादी के प्रत्युत्तर का जवाब नहीं दिया। जबकि अदालत ने वादी पक्ष को अभी तक केस में गैरहाजिर चल रहे सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन को उपस्थित कराने के लिए पैरवी करने को कहा।

वादी पक्ष के एडवोकेट महेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि उन्होंने अदालत के समक्ष अपना पक्ष रखा। जबकि शाही ईदगाह मस्जिद के सचिव तनवीर अहमद ने अपना जवाब दाखिल नहीं किया है। वादी पक्ष के अधिवक्ता राजेंद्र माहेश्वरी ने कहा कि अब इस केस में 16 अगस्त को सुनवाई होगी।

हाईकोर्ट में 3 अगस्त लगी तारीख

वादी एडवोकेट महेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि केस में जल्द सुनवाई के लिए हाईकोर्ट में डाली गई रिट पर शुक्रवार को सुनवाई नहीं हो सकी। अदालत ने इसमें 3 अगस्त की तारीख लगाई है।

नारायणी सेना की भी सुनवाई 16 अगस्त को

नारायणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनीष यादव द्वारा दाखिल किए गए वाद में सिविल जज सीनियर डिवीजन की अदालत में सुनवाई होनी थी, जिसमें प्रतिवादीगणों को उपस्थित होना था लेकिन प्रतिवादीगण उपस्थित नहीं हो सके।

जिसके चलते अदालत की कार्रवाई आगे नहीं बढ़ सकी। अदालत ने इसमें 16 अगस्त को सुनवाई तय की है। शुक्रवार को वादीगण की ओर से पैरवी नारायणी सेना के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष अमित मिश्रा ने की। उनके साथ राष्ट्रीय सचिव अंकित तिवारी तथा नीरज शर्मा मौजूद रहे।

पुष्पा रावत

 

यह भी पढ़े- ओलंपिक में मुक्केबाज अमित पंघाल की करारी हार

किशोरी से किया दुष्कर्म का प्रयास 85 वर्षीय वृद्ध ने, कोर्ट ने सुनाई 7 साल की सजा

Listen to this article

किशोरी से किया दुष्कर्म का प्रयास 85 वर्षीय वृद्ध ने, कोर्ट ने सुनाई 7 वर्ष सजा उत्तर प्रदेश के जौनपुर में, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट प्रथम काशी प्रसाद सिंह यादव ने शुक्रवार को एक किशोरी से बलात्कार के प्रयास के लिए 85 वर्षीय व्यक्ति को 7 साल की कैद और 52,000 रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई।

मुंगराबादशाहपुर थाने में पीड़िता के पिता ने 27 अप्रैल 2015 को मुकदमा दर्ज कराया था। आरोप लगाया कि 25 अप्रैल 2015 को उसकी 14 वर्षीय बेटी दोपहर में घर से दवा लेने जा रही थी। रास्ते में आरोपी हौसिला प्रसाद पटेल ने उससे कहा कि वह उसकी गेहूं की बोरी पकड़कर अंदर करा दे तो वह उसे 5 रुपये देगा। पीड़िता उसकी बात मानकर उसके साथ गेहूं की बोरी लेकर अंदर कमरे में चली गई। अंदर वृद्ध ने दरवाजा बंद कर लिया और किशारी से दुष्कर्म का प्रयास किया।

पीड़िता ने मां को पूरी बात बताई

शोर मचाने पर उसे मारा पीटा। पीड़िता की मां देर हो जाने पर उसे खोजती हुई जा रही थी तो आरोपी को भागते हुए देखा। पीड़िता ने घर आकर मां को पूरी बात बताई। पुलिस ने विवेचना कर चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की। इस मामले में सरकारी वकील राजेश उपाध्याय, कमलेश राय व वीरेंद्र मौर्य ने अभियोजन पक्ष से पैरवी की।

पुष्पा रावत

 

यह भी पढ़े- ओलिंपिक फाइनल में पहुंची भारत की कमलप्रीत कौर

ओलिंपिक फाइनल में पहुंची भारत की कमलप्रीत कौर

Listen to this article

आज टोक्यो ओलिंपिक का नौवा दिन है और भारतीय महिला का शानदार प्रर्दशन देखने लायक है। डिस्कस थ्रो में कमलप्रीत कौर ने शानदार प्रदर्शन करते हुए फाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली है। कमलप्रीत कौर महज 25 साल की है लेकिन इस खिलाड़ी ने अपनी धमाकेदार प्रदर्शन सब का दिल जीता है। उन्होंने में 64 मीटर की दूरी तक चक्का फेक फाइनल में इतिहास के पन्नों में नाम दर्ज कराया। 25 साल की उर्म की कमलप्रीत कौर का जन्म पंजाब के पटियाला में हुआ था।

पंजाब के श्री मुक्तसर साहिब जिले के बादल गांव की रहने वाली यह खिलाड़ी ने ओलिंपिक में पूरे देश का नाम रोशन किया है। कमलप्रीत का बचपन से पढ़ाई लिखाई में ध्यान नही लगता था और रुची खेल की तरफ ही थी। उनकी दिलचस्पी पढ़ाई में कम देख शारीरिक शिक्षा कोच ने एथलेटिक्स की तरफ ध्यान देने की सलाह दी। साल 2012 में उन्होंने एथलेटिक्स में भाग लिया और पहली स्टेट मीट में उन्होंने उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन करते हुए चौथा स्थान हासिल भी किया। 24वें फेडरेशन कप सीनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 65 मीटर चक्का फेंककर नया कीर्तिमान स्थापित किया। इस स्पर्धा में 65 मीटर बाधा पार करने वाली वह पहली भारतीय महिला बनीं है और इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज करा चुकी है।

 

  – नैन्सी लोहानी

 

यह भी पढ़े- टीम इंडिया में कोरोना का संक्रमण, आधी से ज्यादा टीम बदलनी पड़ी

कैदियों को आत्मनिर्भर बनाने की घोषणा

Listen to this article

प्रदेश की जेलों में बंद कैदियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जेल प्रबंधन ने उन्हें आत्मनिर्भरता के कार्य सिखाये जा रहे है। पहले चार जेलों में बंद 200 कैदियों का चुना जाएगा इन्हें चार से छह महीनों की ट्रेनिंग दी जाएगी ताकि जेल से छूटने के बाद वह अपराध को छोड़ आत्मनिर्भर बन सकें।

देखने में आया है कि कई कैदी सजा पूरी करने के बाद जब जेलों से छूटते हैं तो दोबारा अपराध की दुनिया में पैर रखते हैं। इससे उनका व उनके आस-पास के लोगो का जीवन परेशानी में पड़ जाता है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए जेल प्रबंधन ने यह कदम उठाया है कि यदि जेलों में बंद कैदियों को जेल के अंदर ही आत्मनिर्भर होने के कार्य सिखाए जाएंगा तो बाहर आकर वह अपना काम शुरू कर सकते हैं। इससे जहां वह अपनी जीवन शुरुआत भी कर सकेंगे वहीं दोबारा अपराध की दुनिया में कदम नहीं रखेंगे।

इन जेलों में ट्रेनिंग प्रोग्राम पुरी होने के बाद अन्य जेलों में यह कार्यक्रम शुरू किया जाएगा। ट्रेनिंग प्रोग्राम में उन कैदियों को शामिल किया गया है, जिनका जेल में आचरण अच्छा रहा  व उनकी आठ से 10 महीने में सजा खत्म कर दी जाएगी।

 

राजदा राव

 

यह भी पढे़- Panthers: राजीव गांधी के जहाज के अपहरण की साजिश का खुलासा