Home » राष्ट्रीय » सिंघु बॉर्डर हुआ खाली तो वहीं टिकरी बॉर्डर पर बहा खून

सिंघु बॉर्डर हुआ खाली तो वहीं टिकरी बॉर्डर पर बहा खून

farmer protest
Listen to this article

आज किसान आंदोलन के 83वें दिन में पहली बार

सिंघु बॉर्डर की सबसे चौंकाने वाली तस्वीर सामने आई है।

सिंघु बॉर्डर पर जिस सड़क के दोनों किनारे ट्रैक्टर-ट्रॉली से

भरे रहते थे वहां अब शांति पसर रही है।

हालांकि, अभी 32 किसान यूनियन के नेता और उनके समर्थक मौजूद हैं।

बतादें कि यह 32 किसान यूनियन पंजाब के हैं।

हरियाणा के अधिकांश किसान संगठन वापस चले गए हैं।

लेकिन किसान नेता गुरनाम सिंह चडूनी का गुट अभी भी मौजूद है।

पहले की तुलना में अब बहुत कम प्रदर्शनकारी किसान ही वहां बचे हैं,

जो बचे हैं उनमें से ज्यादातर किसी ना किसी किसान यूनियन के लोग हैं।

टीकरी बॉर्डर का हाल:-

किसान आंदोलन के नाम पर बैठी भीड़ ने

12 फरवरी की शाम  दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल

जितेंद्र राणा पर लाठी-डंडों से जानवेला हमला कर दिया।

हेड कांस्टेबल के सिर पर कई टांके आए हैं।

जितेंद्र राणा पर हमला उस वक्त हुआ जब वो

वहां लापता प्रदर्शनकारियों के पोस्टर लगाने गए थे।

पुलिस ने मामले में FIR दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी गई है।

 

-निशा मसरूर

 

यह भी पढ़े- कौन हैं दिशा रवि;  दिल्ली पुलिस ने क्यों किया गिरफतार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *