तीन वर्षों में उत्तराखंड अंतरिक्ष केंद्र ने भरी जनपयोगी क्षेत्रों में उड़ान 

तीन वर्षों में उत्तराखंड अंतरिक्ष केंद्र ने भरी जनपयोगी क्षेत्रों में उड़ान 
Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में आज भारत विश्व में एक स्थापित शक्ति के रूप में पहचान रखता है।

भारत के वैज्ञानिकों के इस अमूल्य योगदान के कारण आज देश की जनता को इसका लाभ विभिन्न क्षेत्रों में मिल रहा है ।

उत्तराखंड इस मामले में भाग्यशाली है कि यहां के दूरदर्शी राजनीतिक नेतृत्व की बदौलत

राज्य को विभिन्न क्षेत्रों में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का लाभ मिलने लगा है,

जिसकी गौरव गाथा उत्तराखंड अंतरिक्ष उपयोग केन्द्र (यूसैक) देहरादून लगातार कह रहा है।

यूसैक अंतरिक्ष में स्थापित भारतीय उपग्रहों के माध्यम से और अपने विशेषज्ञों की मदद से उत्तराखंड की

तीसरी आंख बनकर सदैव प्रदेश को बहुमूल्य सेवाएं दे रहा है। इसका प्रत्यक्ष लाभ अंतत: उत्तराखंड के आम जन को मिल रहा है।

बीते तीन सालों का उदाहरण लेकर इन दावों की पुष्टि की जा सकती है। ताजातरीन उदाहरण कोरोना महामारी का है।

यूसैक ने महामारी के दौरान जियोस्पेशियल एप विकसित किया

जिससे देहरादून जिला प्रशासन को कंटेनमेंट जोनों के निर्धारण में बहुत मदद मिली।

 प्राचीन पैदल यात्रा मार्ग की वनस्पति  की मैपिंग की गई

चूंकि उत्तराखंड आपदा प्रभावित क्षेत्र है ऐसे में यूसैक आपदा से पहले

और आपदा के दौरान उसके प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

इसका ज्वलंत उदाहरण केदारनाथ धाम के पुनर्निर्माण के दौरान देखा जा सकता है।

जहां यूसैक ने केदार घाटी के संबंध में महत्वपूर्ण पारिस्थितिकीय और भूगर्भीय डेटा शासन को

उपलब्ध करवाया बल्कि विभिन्न वैज्ञानिक संगठनों के साथ समन्वय भी बनाया।

यही नहीं यूसैक के निदेशक भूवैज्ञानिक डॉ महेंद्र प्रताप सिंह बिष्ट केदारघाटी पुनर्निर्माण के लिए विशेषज्ञ के रूप में नामित हैं।

इसके अलावा केदारनाथ यात्रा मार्ग के आपदा संभावित क्षेत्रों का सर्वे कर पीडब्ल्यूडी के माध्यम से महत्पूर्ण इनपुट दिए गए गए हैं।

केदारनाथ यात्रा के प्राचीन पैदल यात्रा मार्ग की वनस्पति और जैव विविधता की मैपिंग की

गई है तो वहीं प्रस्तावित नए यात्रा मार्ग की प्रारंभिक सर्वेक्षण रिपोर्ट भी तैयार की गई है।

यूसैक की उल्लेखनीय उपलब्धियां

निदेशक डॉ महेंद्र प्रताप सिंह बिष्ट के नेतृत्व में सिर्फ केदार घाटी ही नहीं

यूसैक की विशेषज्ञता प्रदेश के अछूते आध्यात्मिक स्थलों की खोज और उनके संबंधित शोध आदि में भी हो रहा है।

इस संदर्भ में पिथौरागढ़ जिले के गंगोलीहाट में 10 चूने के पत्थर की गुफाओं की जांच शामिल है जो यूसैक ने की है।

इससे प्रदेश में नए धार्मिक पर्यटन के अवसरों में वृद्धि हो सकेगी।

आधुनिक समय के हिसाब से सटीक और सरल मानचित्रण करने के लिहाज से भी यूसैक की उल्लेखनीय उपलब्धियां हैं।

हरिद्वार का व्यापक भू-डेटाबेस तैयार किया जा रहा है

मुख्यमंत्री जी के कुशल निर्देशन में हाल के वर्षों में यूसैक ने पहली बार उत्तराखंड के

सभी 13 जिलों की मूलभूत सुविधाओं और संपत्तियों का टु दा स्केल मानचित्र तैयार किया तथा सर्वे

ऑफ़ इंडिया द्वारा भी इस टु दा स्केल मानचित्र को सराहा गया है।

कुंभ मेला 2021 की व्यवस्थाओं में प्रशासन की महत्वपूर्ण मदद

करते हुए संपूर्ण कुंभ क्षेत्र हरिद्वार का व्यापक भू-डेटाबेस तैयार किया जा रहा है।

इसके अलावा सैटेलाइट डेटा और जमीनी सर्वे से मिले आंकड़ों की मदद से कुंभ

क्षेत्र का बेस मैप बनाकर मेला प्रशासन को सौंप दिया है।

इससे विश्व के सबसे बड़े धार्मिक आयोजन को व्यवसथित रूप से संपन्न कराने में प्रशासन को मदद मिलेगी।

यूसैक की भूमिका

प्रदेश के विकास कार्यों के सर्वेक्षण को भी यूसैक ने काफी सरल और सटीक बना दिया है।

उल्लेखनीय है कि सड़क मार्गों के विकास के लिए

सरकार छोटी सड़कों से लेकर ऑलवेदर जैसी सड़कें बनाने में जुटी है ।

इस काम में भी यूसैक अहम भूमिका निभा रहा है। जहां आठ जिलों के जीआईएस

आधारित रोड मानचित्र भी यूसैक ने तैयार कर सरकार सौंप दिया है।

वहीं नई व प्रस्तावित ऑलवेदर  रोड़  पोंटा साहिब से

बड़कोट और कोटद्वार से श्रीनगर का मैप भी तैयार किया गया है ।

ऋषिकेश-यमुनोत्री ऑलवैदर रोड़ में चंबा के पास बन रही सुरंग से आस

पास गांवों के मकानों को हो रहे नुकसान का आंकलन पूरा कर सर्वेक्षण रिपोर्ट की गई है

उतराखंड के प्राकृतिक संसाधन

बात प्राकृतिक संसाधनों की करें तो उतराखंड के प्राकृतिक संसाधन यहां के बहुमूल्य पूंजी हैं

अत: इनका अध्ययन, प्रबंधन और संरक्षण बेहद जरूरी मसले हैं।

राहत की बात है कि यूसैक यहां भी अपनी महत्वपूर्ण सेवाएं दे रहा है।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट जल संसाधन के क्षेत्र में पिछले तीन वर्षों में यूसैक ने कुमायूं और

गढ़वाल की अनेक बड़ी नदी घाटी क्षेत्रों के हिमाच्छादित क्षेत्रों का सर्वेक्षण किया है।

पौड़ी जिले की नयार, थल, रामगंगा आदि और चमोली के गैरसैंण में प्रस्तावित

10 झीलों की टैक्निकल रिपोर्ट और बाकी जरूरी सर्वेक्षण यूसैक ने सम्पन्न कर सिंचाई विभाग को सौंप दिए हैं।

इसके अलावा प्रदेश के वेटलैंड्स और पानी की गुणवत्ता

से संबंधित मानचित्र भी तैयार कर सिंचाई विभाग को सौंपे जा चुके हैं।

कृषि विभाग

बात खेती किसानी की। उत्तराखंड का मैदानी इलाका अनाज का कटोरा है तो पहाड़ फलों की डलिया।

यह प्रदेश की आर्थिकी का भी महत्वपूर्ण जरिया है लिहाज़ा इसके प्रबंधन और सर्वेक्षण में भी महती भूमिका है,

और यहां भी यूसैक अपनी प्रभावी उपस्थिति उपलब्ध करा रहा है।

यूसैक लगातार कृषि विभाग के माध्यम से प्रदेश के गन्ना उत्पादक और गेहूं उत्पादक

क्षेत्रों से संबंधित वैज्ञानिक जानकारी उपलब्ध करवा रहा है।

हरिद्वार और ऊधम सिंह नगर के कुछ गांवों की कृषि भूमि की मिट्टी में

उपलब्ध पोषक तत्वों की जीआईएस मैपिंग कृषि विभाग को उपलब्ध कराई गई है।

वन संपदा के सर्वेक्षण और संरक्षण

वन संपदा के सर्वेक्षण और संरक्षण में भी यूसैक ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

प्रदेश की वन भूमि के प्रबंधन और संरक्षण के लिए जरूरी वैज्ञानिक जानकारी उपलब्ध करा रहा है।

साथ ही बुग्यालों में मृदा क्षरण,  अध्य्यन और उपचार के लिए भी कार्यरत है।

उत्तराखंड के वनों को वनाग्नि से हर साल काफी नुकासान होता है।

इस संबंध में प्रदेश के वनाग्नि प्रभावित क्षेत्र की विस्तृत रिपोर्ट तैयार की गई है।

इससे वनाग्नि के प्रभावी नियंत्रण के लिए योजनाएं बनाने में मदद मिल सकेगी।

यही नहीं जैव विविधता संरक्षण के क्षेत्र में भी यूसैक की क्षमताओं का उपयोग प्रभावी रूप में हो रहा है।

प्रदेश में पाई जाने वाली संकटापन्न और दुर्लभ वनस्पतियों की उपलब्धता का भी पता लगाया जा रहा है।

शिक्षा के क्षेत्र में भी यूसैक की विशेषज्ञा काम आ रही है।

यूसैक उत्तराखंड के शिक्षा विभाग के मैपिंग इन्फारमेशन पोर्टल को होस्ट कर रहा है।

 

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

Chunav

चुनाव को लेकर संजय राउत का बड़ा बयान

Listen to this article

शिवसेना ने बड़ा फैसला लियाकि वह पश्चिम बंगाल मेंचुनाव नहीं लेड़ेगें।

इस बात की जानकारी संजय राउत ने अपने  ट्वीट के जरिए दी।

उहोंने कहा कि शिवसेना के  पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के साथ चर्चा के बाद ये अहम निर्णय लिया गया है।

यही नहीं पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी को बंगाल की शेरनी बताते हुए संजय राउत ने लिखा है

शिवसेना एकजुटता से उनके साथ खड़ी है। उन्होने ये ट्वीट करके सभी को हैरान कर दिया है।

चुनाव ना लड़ने के फैसले के साथ-साथ उहोंने ममता बनर्जी की तारिफ की औरशुभकानाएं भी दी।

27 मार्च से होंगे पश्चिम बंगाल में चुनाव

पश्चिम बंगाल में आठ चरणों में चुनाव होनें हैं। चुनाव 27 मार्च से 29 अप्रैल तक चलेगा

और इस चुनाव की मतगणना 2 मई को की जाएगी।

आयोग के अनुसार मतदान इस तरह से होंगे चुनाव 27 मार्च, 1 अप्रैल, 6 अप्रैल, 10 अप्रैल,

17 अप्रैल, 22 अप्रैल, 26 अप्रैल, 29 अप्रैल को होगें।

 

मीना क्षेत्री

 

यह भी पढ़े-मसूरी पहुंचे आम आदमी पार्टी नेता राम निवास गोयल

bharti

दिल्ली हरियाणा उम्मीदवारों के लिए खुशखबरी

Listen to this article

दिल्ली और हरियाण के उम्मीदारों के लिए सेना भर्ती का आयोजन किया जा रहा है।

हरियणा राज्य के फरीदाबाद, गुरूग्राम, मेवात नेहू और पलव जिलों में होगा। दिल्ली कैंट स्थित सेना भर्ती कार्यालय द्वारा जारी

भर्ती अधिसूचना के अनुसार हिमाचल प्रदेश के उना स्थित इंदिरा गांधी स्पोर्ट्स स्टेडियम में 18 मार्च से 25 मार्च तक रैली का आयोजन किया जाना है।

ये सेना भर्ती डी फार्मा कटेगरी के लिए आयोजित की जानी है।

रैली में भाग लेने के इच्छुक उम्मीदवार को इंडियन आर्मी के निर्धारित अप्लीकेशन पोर्टल joinindianarmy.nic.in पर जाकर

रजिस्ट्रेशन करना होगा। उम्मीदवार पोर्टल पर 13 मार्च तक रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

ये भर्ती उन छात्रों के लिए है जिंहोने किसी मान्यता प्राप्त स्कूल से 12वीं परीक्षा पास की है।

अभ्यर्थी को डी फार्मा काउंसिल ऑफ इंडिया या किसी स्टेट फार्मा काउंसिल से न्यूनतम 55 प्रतिशत अंक होने जरूरी हैं।

हालांकी बीफार्मा से 50 प्रतिशत अंको से पास हुए छात्र भी इस भर्ती मे शामिल हो सकते है।

साथ ही प्रतिभागी की आयु 19 वर्ष से 25 होनी चाहिए।

 

मीना क्षेत्री

 

यह भी पढ़े-भारत ने पाकिस्तान को चार मार्च को पहला वलर्डकप हराया था।

Haridwar

स्लाटर हाउस से मुक्त हुआ हरिद्वार जिला

Listen to this article

उत्तराखंड विधानसभा में हरिद्वार जिले के नगर निगम, नगर निकाय,

नगर पालिका क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले स्लाटर हाउसन(पशु वधशाला)

पर रोक लगाए। बुधवार को शहरी विकास सचिव शैलेश बगौली ने इस

संबंध में अधिसूचना जारी की। हरिद्वार जिले में सभी नगर निगमों, नगर

पालिका परिषदों एवं नगर पंचायतों के क्षेत्रों को तत्काल प्रभाव से वधशालाविहीन

क्षेत्र घोषित किया गया है। संबंधित शहरी निकायों ने सुसंगत अधिनीयमों के तहत

स्लाटर हाउस के संचालन को दी गई। अनापत्तियों को निरस्त करने की सहर्ष स्वीकृति दी है।

हरिद्वार में पशु वधशाला का मामला लंबे समय से चल रहा है। हाईकोर्ट में भी इसे लेकर

याचिका दायर हुई थी। इस क्रम में शहरी विकास सचिव शैलेश बगोली ने हरिद्वार के निगम,

पालिका और पंचायत क्षेत्रों को वधशालाविहीन घोषित कर दिया। राज्यपाल ने उत्तर प्रदेश नगर

निगम अधिनियम, 1959 (उत्तराखंड राज्य में प्रवृत्त) की धारा 429-क और उत्तरप्रदेश नगर

पालिका परिषद अधिनियम 1916 की धारा 237-क में मिली शक्तियों

का उपयोग करते हुएअधिसूचना को मंजूरी दी है।

इस मामले में पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने इस संबंध में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र

सिंह रावत से अनुरोध किया था। वहीं क्षेत्रीय विधायकों ने बीती एक मार्च को

स्लाटर हाउस बंद करने के संबंध में मुख्यमंत्री को पत्र सौंपा था। पर्यटन मंत्री

सतपाल महाराज ने कहा कि धार्मिक आस्था के केंद्र हरिद्वार में स्लाटर हाउस

के निर्माण का कोई औचित्य नहीं है। उन्होंने कहा कि धर्मनगरी हरिद्वार देश की

आध्यात्मिक व सांस्कृतिक राजधानी है। यहां स्लाटर हाउस नहीं खोले जाने चाहिए।

 

 

-सोमिया कुटियाल

 

यह भी पढ़े-साइना :बैडमिंटन चैम्पियन के अंदाज में दिखी परिणीति चोपड़ा

 

protest,congress

लाठीचार्ज पर भड़की कांग्रेस कर रही धरना प्रदर्शन

Listen to this article

कांग्रेस का प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। नंदप्रयाग घाट पर सड़क के चौड़ीकरण पर आन्दोलन कर रहे

ग्रामीणों पर लाठीचार्ज किया गया था । इससे गुस्साये कांग्रेसी  लाठीचार्ज के विरुध्द धरना प्रदर्शन

कर रहे हैं। कांग्रेस के कार्यकताओं ने सरकार से लाठीचार्ज के लिए तुरन्त मॉफी मांगने को कहा ।

पुलिस द्वारा लाठीचार्ज से गुस्साये कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सुबह 10.30 बजे विधानसभा परिसर में सरकार के खिलाफ

नारेबाजी  करते हुए आये। साथ ही उन्होंने सरकार के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया ।

व अंततः वह विस परिसर की सीढ़ियों पर बैठ कर धरना देने के लिए बैठ गए ।

महिलाओं पर भी किया गया लाठीचार्ज

दिवालीखाल में महिलाओं पर भी लाठीचार्ज किया गया इस घटना से गुस्साये कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह

ने पुलिस द्वारा की गई इस हरकत को काफी शर्मनाक बताया । साथ ही नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदेशने कहा कि गाँव के लोग

यहाँ व्यक्तिगत मांग के लिए नहीं आये थे।

पुलिस को उनके साथ  ऐसा नहीं करना चाहिए था।

कांग्रेस कड़े शब्दों में इस घटना की निंदा करती है, जब तक सरकार इन आंदोलनकारियों

से माफी नहीं मांगेगी तब प्रदेश कांग्रेस इसी प्रकार से सड़कों पर प्रदर्शन करती रहेगी ।

साथ ही लाठीचार्च के समय मौजूद सम्बधित अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाए ।

 

प्रीति राणा

 

यह भी पढे़-साइना :बैडमिंटन चैम्पियन के अंदाज में दिखी परिणीति चोपड़ा

 

Bollywood

बॉलीवुड में एक और खुशखबरी, जल्द ही मां बनने वाली है श्रेया घोषाल 

Listen to this article

बॉलीवुड की मशहूर सिंगर श्रेया घोषाल जल्द ही पहली बार मां बनने वाली है।

उनके फैंस काफी खुश नज़र आ रहे है आपको बता दे कि श्रेया शादी के छह

साल बाद मां बनने जा रही है। उन्होंने खुद के प्रेग्नेंट होने की जानकारी सोशल

मीडिया के जरिए दी है। श्रेया घोषाल सोशल मीडिया पर काफी अपडेट रहती हैं।

अपने प्रेग्नेंट होने की खब़र उन्होंने अपने इंस्ट्राग्राम अकाउंट पर अपने बेबी बंप के

साथ फोटो भी शेयर किया था जिसमें उन्होंने ब्लू कलर की ड्रेस पहनी हुई है और

उन्होंने अपने बेबी बंप पर हाथ रखा हुआ है।इस तस्वीर के साथ श्रेया घोषाल ने खास

पोस्ट लिखा है, जिसमें उन्होंने खुद के प्रेग्नेंट होने की जानकारी दी है। उन्होंने अपनी पोस्ट

पर लिखा बेबी श्रेयादित्य आने वाला है। श्रेष्या ने बताया शिलादित्य मुखोपाध्याय और मैं

आप सभी के साथ इस खबर को साझा करते हुए काफी खुशी महसूस कर रहे हैं और

आपके प्यार और आशीर्वाद की जरूरत है, क्योंकि

हमने अपने जीवन में इस नए चैप्टरके लिए खुद को तैयार किया है।

 

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े-भारत ने पाकिस्तान को चार मार्च को पहला वलर्डकप हराया था।

 

Saina

साइना :बैडमिंटन चैम्पियन के अंदाज में दिखी परिणीति चोपड़ा

Listen to this article

बैडमिंटन चैम्पियन साइना नेहवाल जिनकी हाल में ही बायोपिक

फिल्म आने वाली है उसका टीजर रिलीज़ हो चुका है। इस फिल्म

में साइना नेहवाल का रोल परिणीति चोपड़ा अदा कर रही है।कुछ

दिन पहले ही फ़िल्म की रिलीज़ डेट का एलान किया गया था।

परिणीति ने साइना का टीज़र सभी के साथ साझा किया है।

परिणीति के फ़िल्म करियर की यह पहली खिलाड़ी की बायोपिक फ़िल्म है

। फिल्म के टीज़र की शुरुआत लिंग भेदभाव के मुद्दे से होती है। इसमें

परिणीति के वॉइसओवर के ज़रिए बताया जाता है कि देश में सवा सौ करोड़

की आबादी में आधी महिलाएं हैं, लेकिन फिर भी लड़कों को ही बढ़ावा दिया

जाता है और लड़कियों की ज़िंदगी चौके-चूल्हे से शुरू होकर शादी पर ख़त्म

हो जाती है। इस टीज़र में साइना की खेल की उपलब्धियों के विजुअल्स को

हाइलाइट किया गया है। फिल्म साइना में उनके कोच पी गोपीचंद के किरदार

में मानव कौल दिखेंगे। सिनेमाघरों में साइना 26 मार्च को रिलीज हो रही है।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े-मसूरी पहुंचे आम आदमी पार्टी नेता राम निवास गोयल