9 अप्रैल से आईपीएल 2021 शुरु, 8 टीम के बीच 52 दिन तक होगा संग्राम

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

आईपीएल 2021 की शुरुआत में अब केवल एक ही  दिन बचा है। 4 वें संस्करण 9 अप्रैल से शुरू हो रहा है। ऐसे में सभी टीमें खिताब जीतने के लिए जोरदार अभ्यास कर रही हैं। इस साल आईपीएल की खास बात यह है कि कोई भी टीम अपने घरेलू मैदान पर मैच नहीं खेलेगी। 9 अप्रैल से शुरू होकर IPL 30 मई तक खेला जाएगा। साथ ही 8 टीमों के बीच कुल 56 मैच खेले जाएंगे। आपको बता दें कि आईपीएल 2021 के मैच कब, कहां और कितने शहरों में खेले जाएंगे।

कब शूरू होगा आईपीएल 2021

IPL 2021 की शुरुआत 9 अप्रैल से होगी। आईपीएल का पहला मैच मुंबई इंडियंस और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बीच चेन्नई में खेला जाएगा।

कितने बजे शुरू होंगे आईपीएल 2021 के मुकाबले

IPL 2021 के मैच भारतीय समयानुसार शाम 7.30 बजे शुरू होंगे। आईपीएल का एक मैच शाम 7.30 बजे से शुरू होगा। जिस दिन 2 मुकाबले खेले जाएंगे उस दिन पहली मैच दोपहर के बाद 3.30 बजे से शुरू होगा। इस दौरान 11 दिन डबल हेडर मैच में खेले जाएंगे यानी एक दिन में 2 मैच।

किन शहरों में खेले जाएंगे आईपीएल 2021 के मैच

IPL 2021 के सभी मैच 6 शहरों में खेले जाएंगे जिनमें चेन्नई अहमदाबाद, बेंगलुरु, दिल्ली, मुंबई और कोलकाता शामिल हैं। लेकिन 4 शहर ऐसे हैं जिनमें सबसे ज्यादा मैच खेले जाएंगे। इस तरह 10 मैच मुंबई के वानखेड़े, 10 ईडन गार्डन कोलकाता में, 10 बेंगलुरु के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में जबकि अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में 8 मुकाबले खेले जाएंगे।

आईपीएल 2021 में कितनी टीमें हिस्सा लेगी

पिछले कई सालों की तरह इस बार भी आईपीएल में 8 टीमें हिस्सा लेंगी। इसमें चेन्नई सुपर किंग्स, सनराइजर्स हैदराबाद, पंजाब किंग्स, मुंबई इंडियंस, राजस्थान रॉयल्स, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, दिल्ली कैपिटल्स, और कोलकाता नाइट राइडर्स की टीमें शामिल हैं।

 

पुष्पा रावत

 

यह भी पढ़ें-सुपरस्टार रजनीकांत को मिलेगा 51वां दादा साहब फाल्के पुरस्कार

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

प्रधानमंत्री मोदी ने महामारी के हालात का लिया जायजा

Listen to this article

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश में कोविड महामारी के कारण उपजे हालात की व्यापक तौर पर समीक्षा की। उन्हें 12 राज्यों में 1 लाख से अधिक सक्रिय मामलों के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। इसके अलावा राज्यों के जिन जिलों में संक्रमण के कारण अधिक मौतें हो रही हैं। उससे भी उन्हें अवगत कराया गया। प्रधानमंत्री ने निर्देश दिया कि इन राज्यों को मदद के साथ इनकेस्वास्थ्य व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने हेतु दिशा-निर्देश भी दिए जाएं। प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से दी गई।

जानकारी के अनुसार, प्रधानमंत्री ने राज्यों द्वारा स्वास्थ्य सुविधाओं को और मजबूत बनाने के लिए किए जा रहे कामों का विवरण दिया। इसके अलावा उन्होंने प्रभावित राज्यों में वैक्सीनेशन व दवाओं का भी लेखा जोखा लिया।प्रधानमंत्री ने कोरोना के कारण संवेदनशील हालात वाले राज्यों का जिक्र किया और कहा कि इन जगहों पर वैक्सीनेशन की प्रक्रिया की गति कम नहीं होनी चाहिए। लोगों को लॉकडाउन के बावजूद वैक्सीनेशन की सुविधा दी जानी चाहिए और जो हेल्थकेयर वर्कर वैक्सीनेशन का काम कर रहे हैं उन्हें किसी और ड्यूटी में न लगाया जाए। इसके अलावा प्रधानमंत्री ने उन राज्यों के बारे में भी विवरण लिया जहां कोरोना वैक्सीन बर्बाद हो गए। प्रधानमंत्री को बताया गया कि 45 साल से अधिक उम्र वाले करीब 31 फीसद जनसंख्या को अब तक वैक्सीन की खुराक मिल चुकी है।

– मीना छेत्री

 

यह भी पढ़े- डिप्टी CM डॉ दिनेश शर्मा और उनकी पत्नी ने जीती कोरोना से जंग

डिप्टी CM डॉ दिनेश शर्मा और उनकी पत्नी ने जीती कोरोना से जंग

Listen to this article

उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा कोरोना वायरस के संक्रमण से मुक्त हो गए हैं। डॉ. दिनेश शर्मा के साथ ही उनकी पत्नी डॉ. जयश्री शर्मा की कोरोना वायरस टेस्ट निगेटिव आ गई है।

डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा के साथ उनकी पत्नी डॉ. जयश्री शर्मा की कोरोना वायरस टेस्ट निगेटिव आने के बाद उनको संजय गांधी पीजीआई के कोविड हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। डॉ. शर्मा अब अपनी पत्नी के साथ ऐशबाग में डॉ. कन्हैयाल लाल रोड पर अपने पैतृक निवास पर आराम करेंगे। आपको बतादे की सीएम योगी आदित्यनाथ भी कोरोना पॉजिटीव रहें चुके है।

– मीना छेत्री

 

यह भी पढ़े- कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए सिख समाज का ऑक्सीजन लंगर जारी

अधिक पैसे वसूलने वाले निजी अस्पताल पर होगा केस तथा रद होगा लाइसेंस

Listen to this article

महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण काल की दूसरी लहर में बढ़ते मामले देख योगी आदित्यनाथ सरकार ने प्रदेश के सभी सरकारी अस्पतालों में कोविड बेड की संख्या बढ़ाने के साथ ही प्राइवेट अस्पतालों को भी सम्बद्ध किया था। जिससे की गंभीर रूप से संक्रमितों को यथोचित उपचार मिल सके। सरकार के इस अवसर का निजी अस्पतालों ने नाजायज लाभ लेने का प्रयास किया। सरकारी कोटे से आवंटित मेडिकल ऑक्सीजन होने के बाद भी इनमें से अधिकांश अस्पतालों ने संक्रमितों तथा नान कोविड मरीजों का उपचार करने से इन्कार कर दिया। इसकी जानकारी पर सरकार ने सख्त कदम उठाया और ऐसे अस्पतालों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

गलत जानकारी देने पर होगा केस

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना के संक्रमण में आने के बाद भी रोज लगातार प्रदेश में इसके कहर पर अंकुश लगाने के इंतजाम में लगे हैं। मेडिकल ऑक्सीजन की कमी होने पर केंद्र सरकार के सहयोग से अन्य राज्यों से भी रेलवे की मदद से ऑक्सीजन को लखनऊ सहित अन्य शहरों में उपलब्ध कराया जा रहा है। इंजेक्शन रेमडेसिविर तथा अन्य उपयोगी दवा को सरकारी जहाज भेजकर अन्य राज्यों से मंगाया जा रहा है। इसके विपरीत निजी अस्पताल सरकारी कोटे की मेडिकल ऑक्सीजन को अनउपलब्ध दिखाकर ब्लैक में बेच रहे हैं। इसके साथ ही संक्रमित तथा उनके तीमारदारों को दवाएं भी महंगी कीमत पर दे रहे हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद से चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश कुमार खन्ना और स्वास्थ्य, चिकित्सा एवं परिवार कल्याण मंत्री जय प्रताप सिंह भी अस्पतालों में दौरा कर रहे हैं। मंत्री जय प्रताप सिंह ने बताया कि कुछ निजी अस्पतालों ने ऑक्सीजन रहते हुए भी खाली बेड को खाली ही रखा है ताकि वह लो यहां पर मनमानी कर पैसा लें। इसी तरह के एक मामले में सन हॉस्पिटल के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज की गई है। इससे अस्पतालों को संदेश जाएगा कि अगर गलत तरीके से पैसे लेते हैं तो कार्रवाई होगी।

 

– मीना छेत्री

 

यह भी पढ़े- देश के लिए शहीद देशराज मावी की मां को नहीं मिल रहा इलाज

कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए सिख समाज का ऑक्सीजन लंगर जारी

Listen to this article

संभल में ऑक्सीजन न मिलने से मौत से जूझ रहे । कोरोना संक्रमित मरीजों की जिंदगी के लिए चंदौसी में सिख समाज की मानवीय पहल सामने आई है ।संभल जिले के चंदौसी में सिख समाज के गुरुद्वारा प्रवन्ध कमेटी ने कोरोना संक्रमितों की जिंदगी के लिए फ्री ऑक्सीजन का लंगर शुरू किया है ।सिख समाज के इस ऑक्सीजन लंगर में संभल ही नहीं आसापास के कई जनपदों से जरूरत मंद ऑक्सीजन लेने के लिए ऑक्सीजन लंगर में पहुँच रहे है।

दरअसल, प्रदेश के अन्य जिलों की तरह संभल जिले में भी सरकारी सिस्टम करोना संक्रमित मरीजों की जिंदगी के लिए ऑक्सीजन की किल्लत से जूझ रहा है । इन हालातो में संभल जनपद में चंदौसी के सिख समाज ने सराहनीय पहल करते हुए कोरोना संक्रमित मरीजों की जिंदगी के लिए ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के लिए हाथ बढ़ाया है । चंदौसी में सिख समाज के गुरु द्वारा प्रवन्ध कमेटी ने कोरोना संक्रमित मरीजों की जिंदगी बचाने के लिए फ्री ऑक्सीजन का लंगर शुरू किया है ।चंदौसी गुरुद्वारा प्रवन्ध कमेटी के सिख सेवादार पिछले 4 दिनों से 24 घंटे जरुरतमंदो को ऑक्सीजन मुहैया करा रहे है ।

सिख समाज के इस फ्री ऑक्सीजन लंगर में ऑक्सीजन लेने के लिए संभल ही नहीं दूर दराज के जनपदो के जरुरत मंद बड़ी संख्या में चंदौसी गुरुद्वारा प्रवन्ध कमेटी के फ्री ऑक्सीजन लंगर में पहुँच रहे है । सिख समाज के इस फ्री ऑक्सीजन लंगर में कोरोना गाइड लाइन का पूरी तरह पालन किया जा रहा है ,ऑक्सीजन सिलेंडर को सेनेटाइज करने के बाद ही जरुरत मंदो को ऑक्सीजन गैस रिफिल की जा रही है ,सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जा रहा है ।ऑक्सीजन गैस रिफिल करने के लिए टैक्नीशियन की मदद ली जा रही है । सिख समाज की इस मानवीय पहल की जमकर तारीफ हो रही है।

 

– मीना छेत्री

 

यह भी पढ़े- मुरादाबाद के गांव गोविंदपुर में दो पक्षों में हड़कंप मच गया

प्रमाण पत्र वितरित करने के बाद लगा गंभीर आरोप

Listen to this article

लीभीत में 2 मई को हुई पंचायत चुनाव की मतगणना के बाद जिला पंचायत सदस्यों को जीत के प्रमाण पत्र वितरित किए गए हैं जिसके बाद अधिकारियों पर गंभीर आरोप लग रहे हैं कई ऐसे उम्मीदवार थे जिनको आरओ ने मतगणना के दौरान विजय घोषित कर दिया था लेकिन उनकी जगह दूसरे उम्मीदवारों को प्रमाण पत्र देने का आरोप लगा है। बसपा, सपा और आम आदमी पार्टी के नेताओं ने कई गंभीर आरोप लगाए हैं।

वार्ड 20 से ज़फ़र सुपारी व वार्ड 21 से सपा के गयासुद्दीन को 3 मई को जीता हुआ बताया लेकिन दूसरे को जीत का प्रमाणपत्र दिया गया वही सपा जिलाध्यक्ष जगदेव सिंह  जग्गा का कहना है कि उनके 15 उम्मीदवार जीते लेकिन दूसरे लोगो को जीत का प्रमाणपत्र दिया गया। उधर बसपा ने भी आरोप लगाए है ऐसे में सवाल उठता है कि 2 मई को शुरू हुई मतगड़ना 3 मई की रात में समाप्त हो गयी थी तो आज 5 मई को क्यो जीत के प्रमाणपत्र दिए। जबकि उम्मीदवार लगातार प्रमाणपत्र मांग रहे थे। वही एडीएम का कहना है मतगड़ना कर रहे कई कर्मचारी बीमार हो गए इसलिए देरी हुई है आरोप सारे गलत है।चप्पे चप्पे पर पुलिस और मतगणना स्थल पर आला अधिकारियों का आना जाना भी रहा मगर यह गौर करने की बात है आरोप लगाने वाले एक नही बल्कि कई लोग लाइन में खड़े है।

 

-मीना छेत्री 

 

यह भी पढ़े- मरीज की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल में की तोड़फोड़

जैकलीन फर्नांडीज ने कोरोना महामारी के चलते खोला NGO

Listen to this article

कोरोना वायरस की महामारी में बॉलीवुड के बहुत से सितारे लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं। कई सितारे लोगों को ऑक्सीजन, दवाइयां, खाना और जरूरी सामान मुहैया करवाकर मदद कर रहे हैं। कोरोना काल में लोगों की मदद करने वालों की लिस्ट में बॉलीवुड की खूबसूरत अदाकारा जैकलीन फर्नांडीस का नाम भी शामिल हो गया है।

जैकलीन फर्नांडीस ने एक फाउंडेशन की स्थापना किया है। जिसके जरिए वह गरीब लोगों को मुफ्त में खाना खिलावाएंगी। जैकलीन फर्नांडीस के इस फाउंडेशन नाम ‘यू ओनली लिव वन्स’ (YOLO) है। इस बात की जानकारी खुद अभिनेत्री ने दी है। उन्होंने सोशल मीडिया पर अपनी कई तस्वीरें साझा की हैं। इन तस्वीरों में जैकलीन फर्नांडीस कोरोना वायरस की मार झेल रहे गरीब लोगों को खाना बांटती और उनके लिए खान बनाती नजर आ रही हैं।

इन तस्वीरों को साझा करते हुए जैकलीन फर्नांडीस ने खास पोस्ट भी लिखा है। उन्होंने पोस्ट में लिखा, ‘मदर टेरेसा ने एक बार कहा था, ‘भूख शांत होने पर शांति की शुरुआत होती है’। मैं वास्तव में आज मुंबई रोटी फाउंडेशन का शुक्रिया अदा करती हूं, जिसे मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त श्री डी शिवानंदन चलाते हैं। महामारी के दौरान रोटी बैंक ने अब तक लाखों भूखे लोगों के लिए भोजन तैयार किया और उसे बांटा है।’

जैकलीन फर्नांडीस ने पोस्ट में आगे लिखा, ‘वह इस बात का सटीक उदाहरण हैं कि #kindnessbrigade क्या करने की ख्वाहिश रखता है और मुझे इस दौरान उनकी मदद करने मे गर्व महसूस हुआ है। हम बस एक बार जिंदगी को जीते हैं! आइए, इस जिंदगी को दूसरों की मदद करने और अपने आसपास के लोगों की #storiesofkindness को शेयर करने के लायक बनाएं!’ सोशल मीडिया पर जैकलीन फर्नांडीस का यह पोस्ट तेजी से वायरल हो रहा है।

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े- ज्यादा देर तक पीपीई पहने से वार्ड बॉय की तबियत हुई खराब