कालसी चकराता मार्ग पर बरसात में फिर नासूर बना जजरेट पॉइंट

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

बीते सोमवार को चकराता जौनसार बावर कि लाईफ लाइन कहे जाने वाले कालसी चकराता मुख्य मोटर मार्ग पर बरसात के दौरान जजरेट में पहाड़ी से दिन भर मलबा और पत्थर गिरते रहे जिसके कारण यह मार्ग बार बार बंद किया गया हालांकि pwd द्वारा रास्ता खोलने के लिये दो मशीनें लगाई गयी हैं

लेकिन यहाँ से गुजरना बेहद जोखिम भरा बना हुआ है। किसी भी वक्त भारी मलबा आने से यहाँ ये मार्ग कई घंटों के लिये या कई दिनों के लिये भी बंद हो जाता है और सैकड़ों वाहन यहाँ जाम में फंस जाते हैं जिसके चलते सबसे ज्यादा नगदी फसल वाले किसान प्रभावित होते हैं जिनकी फसलें यहाँ जाम में फंस जाती हैं और समय से मंडी तक नहीं पहुँच पाती जजरेट में यही क्रम मंगलवार की रात से सोमवार दिन तक बना रहा । बरसात में जजरेट पॉइंट जौनसार बावर की जनता के लिये किसी नासूर से कम नहीं है।

 

यह भी पढ़े- देहरादून  से चलने वाली जनता एक्सप्रेस 25 से लेकर 28 जुलाई तक हुई बंद

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

उत्तराखंड में पहाड़ी इलाके में दो माह बाद मिला कोरोना संक्रमित व्यक्ति

Listen to this article

उत्तराखंड के जोशीमठ में आज दो माह बाद एक कोरोना संक्रमित मरीज का मामला सामने आया है। क्षेत्र के लोगों द्वारा यह बताया जा रहा है कि यह मरीज पांडुकेश्वर में ऑल वेदर रोड पर मजदूरी का कार्य करता था। इस खंबर के बाद वहां के लोग बहुत चिंता में आ गए है। इसके बाद उस मरीज को सामुदायिक स्वास्थय केंद्र गोपेश्वर में भेजा है। वंही सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉ. राजीव गर्ग ने कोरोना मरीज की कोरोना से संक्रमित होने की पुष्टि की है। उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 22 नए कोरोना संक्रमित मिले जिनमें एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है।

तेजी से बढ़ते संक्रमर्ण के मामले

जबकि 45 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया। वंही सक्रिय मामलों की संख्या 609 पहुंच गई है। वैसे तो पांच जिलों अल्मोड़ा, बागेश्वर, चमोली, टिहरी और ऊधमसिंह नगर में एक भी संक्रमित मरीज सामने नहीं आए है। वहीं दूसरी ओर  चंपावत और नैनीताल में एक-एक मामले, देहरादून में पांच, हरिद्वार और पौड़ी में दो-दो, पिथौरागढ़ में तीन, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी में चार-चार संक्रमित मामले मिले है।

 

 – नैन्सी लोहानी  

 

यह भी पढे़- वाराणसी में हाईस्कूल, इंटरमीडिएट में कुल 103940 विद्यार्थियों ने भरा परीक्षा फार्म

जागेश्वर: पुजारियों के अपमान के विरोध में मौन व्रत पर बैठे हरीश रावत

Listen to this article

अल्मोड़ा के प्रसिद्ध भगवान भोले के धाम जागेश्वर मंदिर में भाजपा नेताओं ने पुजारियों के साथ बुरा व्यवहार किया। जिसके विरोध में उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत आज मौन व्रत पर बैठेगें। उन्होंने मौन व्रत रखने से पहले भगवान शिव को जल चढ़ाकर उनकी अराधाना की।  मंदिर समिति के प्रबंधक भगवान भट्ट और पुजारियों से गालीगलौज करना भाजपा सांसद धर्मेंद्र कश्यप को भारी पड़ गया। पुलिस ने धर्मेंद्र कश्यप और उनके साथी मोहन राजपूत के साथ सुशील अग्रवाल के खिलाफ मजिस्ट्रेट के आदेश का उल्लंघन करने पर धारा 188 और गालीगलौज गलत व्यवहार  करने पर धारा 504 के तहत रिर्पाट दर्ज कर ली है। हरीश रावत के घर से कांग्रेस का झंडारोहण कर चुनाव प्रचार अभियान की शुरूआत होगी।

भारी बारिश के बावजूद सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता इस कार्यक्रम में शामिल हुए है। इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा कि राज्य की सत्ता से भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने की आज से शुरूआत हो गई है और आने वाला समय कांग्रेस का होगा। हमें फिर से कांग्रेस की सरकार लाकर प्रदेश को विकास के रास्ते पर आगे ले जाना होगा।  इस अवसर पर राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा, विधायक मनोज रावत, विधायक हरीश धामी, पूर्व मंत्री दिनेश अग्रवाल, पूर्व मंत्री मातवर सिंह कंडारी, पूर्व विधायक हेमेश खर्कवाल, पूर्व विधायक मनोज तिवारी, सतपाल ब्रह्मचारी, केपी अग्रवाल, अशोक महलोत्रा, मनमोहन शर्मा, अलका शर्मा, राजकुमार यादव, मनीश कुमार, राजीव जैन, गरिमा दसौनी आदि मौजूद रहे है।

 

  – नैन्सी लोहानी   

 

यह भी पढ़े- आज से देहरादून सिटी बस संचालकों की हड़ताल

                                            

पूर्व CM हरीश रावत ने भाजप के राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी को दिया जवाब

Listen to this article

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और काग्रेस महासचिव हरीश रावत ने भाजप के राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी की सोशल मीडिया में की गई पोस्ट पर जवाब देते हुए कहा कि भाजपा ने पिछले साढ़े चार साल मे प्रदेश का कोई विकास नही किया है। यदि विकास किया होता तो फिर भाजपा को एक के बाद एक मुख्यमंत्री नहीं बदलने पड़ते।  इस पोस्ट में बलुनी ने लिखा था कि पूर्व मुख्यंमत्री हरीश रावत तुष्टिकरण की राजनीति करने के बजाय विकास के मसले पर सार्थक बहस करते तो अच्छा होता। बीते दिन इस पोस्ट के जवाब में कांग्रेस महासचिव रावत ने दो पोस्ट लिखी, पहली पोस्ट में उन्होंने भाजपा मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी से विकास व रोजगार पर सवाल-जवाब करने की पेशकश की और शाम को दूसरी पोस्ट में उन्होंने प्रदेश की अर्थव्यवस्था, जनकल्याणकारी योजनाओं व रोजगार के मसले को उठाया।

पूर्व मूखयमंत्री का भाजपा से सवाल

उन्होंने लिखा कि मुख्यमंत्री रहते हुए उनकी सरकार ने मेरा गांव-मेरी सड़क योजना शुरू की। इससे दूरदराज के गांवों को सड़क से जोडऩे का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन भाजपा के कार्यकाल में यह योजना बंद कर दी गई। इसके साथ ही और कई योजनाए भी थी जो की बंद कर दी गई। उन्होने कहा कि भाजपा नेता  ने बताएं कि कौन-कौन सी विकास योजनाओं को तीनों सरकारों ने धरातल पर उतारा है।

 

  -रितिका चौहान

 

यह भी पढ़े- शाही ईदगाह के सचिव एडवोकेट अहमद ने प्रत्युत्तर का नहीं दिया जवाब

प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने राज्य सरकार को कई मामलों पर घेरा

Listen to this article

साल 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए उत्तराखंड कांग्रेस फ्रंट फुट पर आ गई है। कांग्रेस में प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने राज्य सरकार को कई मामलों पर घेरा। पार्टी ने 22 जुलाई को गणेश गोदियाल को प्रदेश अध्यक्ष बनाया था। आज देहरादून में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने अतिथि शिक्षकों और कर्मचारियों को डीए सहित कई मद्दों पर सरकार को घेरा। प्रेस वार्ता में कांग्रेस अध्यक्ष गोदियाल  कर्मचारियों के पक्ष में उतरे। उन्होंने कर्मचारियों के फ्रीज किए गए डीए को बहाल करने की मांग की साथ ही  उपनल, मनरेगा कर्मचारियों का वेतन बढ़ाने पर भी जोर दिया।

गोदियाल ने अतिथि शिक्षकों का वेतन न बढ़ने पर भी नाराजगी जताई। उन्होने कहा कि राज्य सरकार अतिथि शिक्षकों को परमेनेंट करने का रास्ता निकाले। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने memorandum जारी कर कहा कि 20 जुलाई को प्रदेश अध्यक्ष पद की घोषणा के बाद विभिन्न ब्लाक कमेटी के अध्यक्ष पदों पर नियुक्तियां की गईं, इन्हें तत्काल प्रभाव से रद्द किया जाता है। नए अध्यक्ष से पहले बतौर अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने संगठन में कई नियुक्तियां की थीं।

 

   -रितिका चौहान  

 

यह भी पढ़े- देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़े, 541 मरीजों की गई जान  

प्रदॆश में आज से खुले स्कूल, छात्र-छात्राओं के चेहरों पर खुशी 

Listen to this article

आज से नौंवी से 12वीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए स्कूल खुल गए हैं। छात्र-छात्राओं को थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही स्कूलों में अंदर आने दिया जाएगा और कक्षाओं में सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखकर ही बैठने की व्यवस्था की गई है। कोरोना संक्रमण के चलते और दूसरी लहर के कारण लॉकडाउन होने से स्कूलों को बंद कर दिया गया था। मगर आज कई माह के बाद स्कूल खुलने से छात्र-छात्राओं के चेहरे पर खुशी देखने को मिली है, वंही कक्षा में दूबारा आने का उत्साह उनके चहरों में दिखाई दे रहा है।

इन बातों का ध्यान रखना है जरुरी

इतनी जल्दी स्कूल खुल तो गए है मगर इन स्कूलों के शिक्षकों और कर्मचारियों का अभी तक वैक्सीनेशन तक नहीं हुआ है। वंही दूसरी तरफ स्कूलों के पास सैनिटाइजेशन करवाने तक के लिए अलग से फंड नहीं है। इसलिए कुछ स्कूलों ने विभाग ने स्वास्थ्य विभाग को वैक्सीनेशन के लिए 31 जुलाई को पत्र लिखा था मगर एक अगस्त को रविवार होने की वजह से वैक्सीनेशन नहीं हो पाया। बिना मास्क के स्कूल नहीं आ सकते और अगर कोई छात्र बिना मास्क स्कूल आता है तो ऐसे छात्र-छात्राओं के लिए स्कूल को मास्क की व्यवस्था करनी होगी। आज खोले गए सरकारी और निजी हाईस्कूलों की संख्या 1354 थी और इनमें करीब तीन लाख से ज्यादा छात्र-छात्राएं मौजूद रही है।

 

      -नैन्सी लोहानी

 

यह भी पढ़े- कचरा कूड़ेदान में नहीं डाला तो पड़ेगा भारी जुर्माना: अपर आयुक्त

आज से देहरादून सिटी बस संचालकों की हड़ताल

Listen to this article

आज उत्तराखंड में सिटी बस का संचालन ठप हुआ है और  यह कारण है कि आज प्रदेश में बस संचालक अपनी मांगे सरकार के सामने रखेंगे। उनका मुख्य मुदा गाड़ियों का टैक्स सालाना बढना, इंश्योरेंस माफ, सरेंडर पॉलिसी लागू, गाड़ियों का परमिट दो साल बढ़ाने से संबंधित अन्य 10 सूची को सरकार के सामने रखना था। देहरादून महानगर सिटी बस सेवा महासंघ के जुड़े सिटी बस संचालकों ने आज से अनिश्चितकालीन हड़ताल रखी है। महासंघ पदाधिकारियों ने एलान करते हुए कहा है कि वे अपनी तमाम बसें आरटीओ कार्यालय में खड़ी कर धरना-प्रदर्शन करेंगे। सिटी बसों का संचालन ठप रहेगा जिससे की लोगों को आने जाने में दिकत देखने को मिलेगी।

हड़ताल का कारण

महासंघ के अध्यक्ष विजय वर्धन डंडरियाल का कहना है कि परिवहन मंत्री, परिवहन सचिव, परिवहन आयुक्त, आरटीओ के साथ-साथ बढें अधिकारियों से सिटी बस संचालकों की समस्याओं का जिकर कराया जा रहा है, लेकिन सरकार, शासन और अधिकारियों के स्तर पर कोई सुनवाई नहीं कर रही है। ऐसे में सिटी बस संचालकों के सामने अनिश्चितकालीन हड़ताल के अलावा कोई और रास्ता नहीं है। जब तक सरकार, शासन और परिवहन विभाग की और से उनकी मांगों पुरी नहीं की जाती तब तक सिटी बसें नहीं चलेगी।

 

     – नैन्सी लोहानी

 

यह भी पढ़े- आगरा में दो ऑक्सीजन प्लांट हुए लगभग तैयार