अपराध का गढ़ – उत्तर प्रदेश

Uttar Pradesh crime rate
Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh), वही प्रदेश है जिसका इतिहास बेहद समृद्ध और गौरवशाली रहा है जहां भगवान राम ने रामराज्य का मतलब पूरे जग को समझाया, ये वही प्रदेश है जहां महात्मा बुद्ध ने दुनियां को शांति का संदेश दिया,जहां की हर सुबह अल्लाह की इबादत और राम धुन से सराबोर रहती थी लेकिन आज यहां की आबोहवा अपराध (Crime Rate) की गंध से दुषित हो चुकी है। जहां गंगा की पावन धारा से अधिक खुन की नदियां बहने लगी हैं। भले ही राजनेताओं और प्रशासन द्वारा राज्य में महिलाओं की सुरक्षा और अपराध को रोकने के हजार दावे किए जाते हैं लेकिन सच्चाई यह है कि उत्तरप्रदेश की सरकारें अपराध की घटनाओं को रोकने में असफल रही हैं।

हाल ही में हाथरस की घटना ने पूरे देश को झकजोर कर रख दिया था। 4 सितंबर को हैवानियत और दरिंदगी दोनों की हदें पार हुई थी। 19 वर्षीय लड़की के साथ हुआ गैंगरेप मामला अभी ठंडा भी नही हुआ था  कि एक बार फिर एक और घटना ने प्रदेश को कलंकित कर दिया है। हाथरस में ही 4 साल की मासूम बच्ची के साथ रेप की घटना सामने आई है। मासूम अपने घर में खेल रही थी, तभी पड़ोस में रहने वाला बच्ची का 20 वर्षीय चचेरा भाई टॉफी दिलाने के बहाने उसे अपने घर लेकर जाता है। जहां उस मासूम बच्ची को अपनी हवस का शिकार बनाता है। पीड़ित बच्ची की चीख-पुकार सुनकर आस-पड़ोस के लोग तुरंत वहां पहुंचते हैं और घरवालों को घटना की सूचना देते हैं। परिजनों को बच्ची लहूलुहान अवस्था में जमीन पर पड़ी मिली थी।घर के लोगों द्वारा पीड़ित मासूम बच्ची को तुरंत पुलिस स्टेशन ले जाया जाता है। इसके बाद पुलिस बच्ची को उपचार के लिए अस्पताल में लेकर जाती है। सीओ रुचि गुप्ता (CO Ruchi Gupta) ने घटना की जानकारी देते हुए कहा कि 4 साल की मासूम बच्ची का कथित तौर पर बलात्कार किया गया है। पुलिस द्वारा मौके पर ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी के ऊपर गंभीर धाराओं के तहत मुकदमा भी दर्ज कर लिया गया है। पीड़ित बच्ची का अस्पताल में उपचार जारी है।

अपराध का सिलसिला यहीं खत्म नहीं होता प्रदेश की लखनऊ में विधानसभा के बाहर महिला ने खुद को आग लगा ली। आत्मदाह का प्रयास करने वाली महिला ने मंगलवार को अपने ऊपर केरोसिन डालकर आग लगा ली। महिला का शरीर काफी जल गया है। जिसके बाद पुलिस ने महिला को तुरंत एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया है। डॉक्टरों के अनुसार महिला की हालत काफी गंभीर है। पुलिस जानकारी जुटाने में लगी है कि महिला कौन है और कहां से आई। इस घटना के पीछे क्या कारण है इसकी कोई जानकारी नहीं मिल पाई है।

गौरतलब है कि यह पहला मामला नहीं है जब विधानसभा के बाहर किसी ने आत्मदाह का प्रयास किया है। अमेठी की एक मां-बेटी ने भी अपने को विधानसभा के सामने आग लगा ली थी। जिसके बाद दोनों की मौत हो गई थी।

वहीं यूपी के प्रतापगढ़ में यौन शोषण से एक लड़की की जान जाने की खबर सामने आती है। पुलिस ने मंगलवार को बताया कि यूपी के प्रतापगढ़ में 17 साल की लड़की ने कथित रूप से छेड़खानी से परेशान होकर सोमवार को कुएं में कूदकर जान दे दी। पुलिस ने परिजनों की शिकायत पर गांव के तीन युवकों पर बाघराय थाने में मुकदमा दर्ज किया है। मामला बाघराय थाने के पुवासी गांव का है। इन दबंगों पर पीड़िता के घर में घुसकर छेड़खानी का आरोप है। डिप्टी एसपी तनु उपाध्याय ने बताया कि किशोरी ने कुएं में कूदकर जान दे दी। परिवार ने बताया कि परिवार ने तीन गांव में ही रहने वाले तीन युवकों गुड्डू सिंह, डब्बू सिंह और गुन्नू तिवारी को इसका जिम्मेदार ठहराया है।

उत्तर प्रदेश को अगर अपराध का गढ़ कहा जाए तो अतिश्योक्ति नहीं होगी। गोंडा जिले में तीन दलित नाबालिग बहनों के ऊपर तेजाब फेंकने का मामला सामने आया है। उन्हें गोंडा के सरकारी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती किया गया है। तीनों बहने अपने घर में एक ही कमरे में सो रही थीं। देर रात करीब 2 बजे तेजाब फेंकने वाला शख्स बाहर से छत के रास्ते घर में घुसा और तेजाब फेंक कर भाग गया।

वहीं हमीरपुर जिले में एक महिला के साथ बर्बरता का वीडियो भी वायरल हो रहा है। इस वीडियो में महिला का घऱ खाली करवाने के लिए लसे पेड़ से बाध कर पीटा गया और उसके घर का समान बाहर सड़क पर फेंक दिया गया। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और महिला को मुक्त करवाया।

 

 

 

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रियंका का योगी पर हमला, फेल हुआ योगी का ‘मिशन शक्ति’

प्रियंका का योगी पर हमला, फेल हुआ योगी का ‘मिशन शक्ति’

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बुधवार को योगी सरकार पर हमला कर बोला कि उत्तर प्रदेश की सरकार की

ओर से महिला सुरक्षा को लेकर चलाया गया ‘मिशन शक्ति’ अभियान विफल साबित हुआ है।

प्रियंका गाधी ने किया ट्वीट

उन्होंने ट्वीट किया, ‘जब सरकार का उद्देश्य केवल ढोंग व झूठा प्रचार हो तो मिशन फेल हो ही जाएंगे।

यूपी में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों पर पर्दा डालने के लिए भाजपा सरकार का मिशन शक्ति फेल रहा’।

इस दौरान प्रियंका गांधी ने एक खबर भी ट्वीट की और लिखा कि युवती को जलाने वालों के खिलाफ एक महीने बाद केस हो रहा है।

अपराध बढ़ते जा रहे हैं।

बता दें कि कुछ हफ्ते पहले उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने महिलाओं के खिलाफ अपराध पर

अंकुश लगाने के लक्ष्य से ‘मिशन शक्ति’ अभियान की शुरुआत की थी। इसकी शुरुआत के समय कहा गया था

कि अभियान के पहले चरण में महिला सुरक्षा के संबंध में जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

-शिवम वालिया

 

यह भी पढें-Chang’e 5 : मंगलवार को चांद की सतह पर पहुंचा चीनी यान

उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी के निर्माण को लेकर शुरु हुई राजनीति

उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी के निर्माण को लेकर शुरु हुई राजनीति

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी मुंबई यात्रा के दौरान विशेष तौर पर डिफेंस कॉरीडोर

और उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी निर्माण से संबंधित उद्यमियों एवं फिल्म निर्माताओं से मुलाकात की।

केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने रक्षा क्षेत्र से जुड़े 101

उत्पादों का उत्पादन अब भारत में करने की योजना बनाई है।

योगी आदित्यनाथ ने कि फिल्म सिटी बनाने की घोषणा

हाल ही में अभिनेता सुशांत सिंह की मृत्यृ के बाद खड़े हुए विवाद के दौर में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

ने उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी बनाने की घोषणा की थी,

ताकि उत्तर प्रदेश के कलाकारों को उनके प्रदेश में ही

काम मिल सके और प्रदेश में ही अच्छी फिल्में बनाई जा सकें।

उनकी इस घोषणा पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की ओर से कई बार तंज किया जा चुका है,

लेकिन योगी सरकार इस कार्य को पूरा करने के लिए कोशिशों में जुटी है। हालांकि की यूपी के

पूर्व मुख्यमंत्रियों के कार्यकाल में भी वहां फिल्म सिटी बनाने एवं

उत्तर प्रदेश में फिल्में बनाने वालों को विभिन्न अनुदान व सुविधाएं देने की घोषणाएं होती रही हैं।

कुछ हद तक इन घोषणाओं का असर भी हुआ और उत्तर प्रदेश में कई अच्छी फिल्मों की शूटिंग भी हो चुकी हैं।

फिल्म सिटी के निर्माण पर राउत का तंज

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री फिल्म सिटी के अपने प्रोजेक्ट को साकार करने में जुटे हैं। इसके लिए वह मुंबई के दौरे पर पहुंचे हैं।

उन्होंने नोएडा फिल्म सिटी को लेकर अभिनेता अक्षय कुमार से मुलाकात भी की।

वहीं,  शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने पूछा है कि क्या सीएम योगी अन्य राज्यों में

बनी फिल्म सिटी को लेकर भी वहां के कलाकारों से बात करेंगे या फिर सिर्फ मुंबई में ही ऐसा करने वाले हैं?

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, ‘मुंबई की फिल्म सिटी को दूसरी जगह शिफ्ट करना आसान नहीं है।

दक्षिण भारत में भी फिल्म उद्योग बड़ा है, पश्चिम बंगाल और पंजाब में भी फिल्म सिटी है।

क्या योगी जी इन स्थानों पर भी जाएंगे और वहां के निर्देशकों/

कलाकारों से बात करेंगे या क्या वह केवल मुंबई में ही ऐसा करने जा रहे हैं?’

कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने कहा

कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने कहा, ‘बॉलीवुड को कोई कहीं नहीं ले जा सकता और ना ही यह

किसी सरकार या राजनीतिक पार्टी के संरक्षण का मोहताज है।

सिनेमा के दीवानों ने अपनी मेहनत से इस विराट दुनिया को बसाया है और यह इंटरनल प्रक्रिया सौ वर्षों से जारी है।

नेता लोग इसे शिफ्ट करने के मुगालते में ना रहें।‘

सीएम योगी ने अपनी इस मुंबई यात्रा में मनमोहन शेट्टी, बोनी कपूर एवं सुभाष घई जैसे

दिग्गज फिल्म निर्माताओं से मिलकर फिल्म सिटी निर्माण की बारीकियों पर चर्चा की, ताकि इस दिशा में आगे बढ़ा जा सके।

-शिवम वालिया

 

यह भी पढें-देखें आखिर क्यों बंद किया गया रामनगर का प्रसिद्ध गर्जिया मंदिर

बालू से भरा ट्रक स्कॉर्पियों पर पलटा, आठ की मौत

बालू से भरा ट्रक स्कॉर्पियो पर पलटा, आठ की मौत

उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले से एक दर्दनाक हादसा सामने आया है।

जहां बालू से भरा ट्रक एक स्कॉर्पियो पर पलट गया, जिससे 8 लोगों की मौत हो गयी है।

जबकि दो लोग घायल अवस्था में है। मौके पर पहुंची पुलिस-प्रशासन की टीम ने क्रेन की मदद से ट्रक को हटाया और घायलों को अस्पातल पहुंचाया।

खबरों के अनुसार दोनों घायलों की हालात गंभीर बनी हुई है।

बालू से पूरी तरह भरा हुआ ट्रक स्कॉर्पियो के ऊपर गिर गया

बता दें, की कौशांबी के कड़ा कोतवाली इलाके में देवगंज के पास से देर रात शादी समारोह से वापस आ रहे एक

परिवार पर बालू से पूरी तरह भरा हुआ ट्रक स्कॉर्पियो के ऊपर गिर गया,

जिससे उसमें बैठे 8 लोगों की मौके पर ही  दर्दनाक  मौत हो गई।

साथ ही स्कॉर्पियों को चलाने वाले ड्राइवर की भी घटना स्थल पर ही मौत हो गयी।

बारात कोखराज कोतवाली के शहजाद पुर से देवीगंज स्थित महेश्वरी गार्डन गई थी।

जिस दौरान ये भीषण घटना हो गई।

हादसा करीब सुबह के 3:30 बजे हुआ

जानकारी के मुताबिक कौशांबी के जिलाधिकारी ने बताया कि हादसा करीब सुबह के 3:30 बजे हुआ।

स्कॉर्पियो के अन्दर 8 लोग सवार थे, जिसमें ड्राइवर समेत सभी लोगों की मौत हो गयी।

मृतकों में तीन परिवार की छह महिलाएं व दो बच्चे शामिल हैं।

पूछताछ के दौरान ट्रक के ड्राइवर ने बताया कि ट्रक का टायर फटने के कारण ट्रक का बैलेंस बिगड़ गया

जिस कारण ट्रक पलट गया, उसमें भरा बालू स्कॉर्पियो पर गिर गया।

पुलिस द्वारा आगे की जांच जारी है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सड़क हादसे पर शोक

व्यक्त करते हुए दिवंगत आत्माओं की शांति के लिए प्रार्थना करते हुए मृतकों के शोक पर परिजनों के प्रति संवेदनाएं प्रकट की हैं।

यह भी पढें-दिल्ली में “WORK FROM HOME” के नियमों का हुआ उल्लंघन

PM मोदी के लोकार्पण के बाद काशी प्रयागराज में वाहनों की संख्या में वृध्दि....

काशी-प्रयागराज में लोकापर्ण के बाद हाईवे पर वाहनों की बढ़ोत्तरी

देव दीपावली में प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी के भारत की प्राचीन नगरी काशी-प्रयागराज में लोकापर्ण के बाद हाईवे पर पिछले 24 घंटों में वाहनों की बढ़ोत्तरी हुई है।

जानकारी के अनुसार हाईवे से पिछले समय में 32 हजार गाड़ियां गुजर चुकी हैं।

इस सड़क से लोगों को  काशी से प्रयागराज की दूरी सिर्फ डेढ़ से दो घंटे में पूरी हो जाएगी।

काशी से प्रयागराज के लिए पहले चार, पांच बाजारों से गाडियों को होकर निकलना होता था वहीं अब काशी से प्रयागराज की दूरी 3:30 से 4 घंटे के बीच में हो गयी है।

बाजारों के ऊपर से हाईवे बनने के बाद अब यह दूरी आधी रह गयी है।

 

हाईवे बनाने में कितनी लागत आई

इस हाईवे के कारण कई शहरों की सड़क कनेक्टिविटी को रफ्तार मिलने लगी है।

इस हाईवे की लागत 2447 करोड़ रुपये है। हंडिया से राजातालाब तक बनी सड़क का निर्माण कार्य 5 दिसंबर 2017 को शुरू हुआ था।

वैसे इस सड़क का काम जून 2020 में पूरा हो जाता लेकिन कोरोना के चलते यह काम नवंबर में पूरा हुआ।

इस मार्ग पर पांच छोटे- बड़े फ्लाईओवर, 23 अंडरपास हैं। सड़क चार जिलों को जोड़ती है।

इनमें बनारस, मिर्जापुर, भदोही ,प्रयागराज 6-लेन में है। यह हाईवे पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की

महत्वाकांक्षी योजना स्वर्णिम चतुर्भुज योजना के तहत कोलकाता से दिल्ली को जोड़ने वाली सड़क का हिस्सा है।

 लोकार्पण के बाद हाईवे से गुजरने वाली गाड़ियों की संख्या

लोकार्पण के बाद इस हाईवे से कार से लेकर मोटरसाइकिल जैसे छोटे-बड़े वाहन चले,

जिनमें पहले दिन लालानगर के टोल प्लाजा से गुजरने वाली गाड़ियों की संख्या 25 हजार से अधिक थी।

इसके अलावा मोटरसाइकिल को मिलाकर इनकी संख्या 32 हजार है। एशियाई देशों को जोड़ने वाले 72.64

किमी की सड़क फोर से सिक्स लेन हुई। इस हाईवे को बनने में 35 महीने का समय लगा।

यह भी पढें-दक्षिण भारत में एक बार फिर दी CYCLONE ने दस्तक

अल्पसंख्यकों को उद्यामी बनाएगी योगी सरकार

अल्पसंख्यकों को उद्यमी बनाएगी योगी सरकार

अल्पसंख्यकों के रोजगार के लिए योगी सरकार ने नया प्लान तैयार किया है,

जिसके तहत 525 मुस्लिमों और शेष बौद्ध, जैन व सिख समुदाय के लोगों को रोजगार मिलेगा।

उत्तर प्रदेश में सरकार 572 अल्पसंख्यकों को उद्यमी बनाएगी।

प्रदेश में स्वरोजगार बढ़ाने के लिए वित्त विकास निगम 15 साल बाद इस तरह की पहल शुरु कर रहा है।

जिसमें अल्पसंख्यक वित्त विकास निगम के माध्यम से 10 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता दी जाएगी।

जानकरी के अनुसार उत्तर प्रदेश के नए उद्यमियों को छोटे उद्योग और कुटिर कामों के लिए वित्त विकास नगर निगम द्वारा 20 लाख का ऋण दे सकता है।

उत्तर प्रदेश में सरकार 572 अल्पसंख्यकों को उद्यमी बनाएगी

योगी सरकार ने एक बार फिर से अल्पसंख्यक वित्त विकास निगम को बहुलक  जिलों में नए

कारोबार खड़े करने के लिए निगम को सक्रिय किया है।

इनमें प्रमुख रुप से मुरादाबाद, लखनऊ, बहराइच, प्रयागराज, बरेली, गोरखपुर, सहारनपुर, बिजनौर,

शाहजहांपुर, कानपुर, आजमगढ़, मेरठ, भदोही और अमरोहा शामिल हैं।

इन जिलों में सरकार ने 572 लोगों का चयन कर लिया है। इन उद्यमियों को उद्योग शुरु कराने के लिए 1.5-3 लाख रुपये की सहायता की जाएगी।

अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के आधिकारी के मुताबिक जल्द ही ऋण के कार्यक्रम आयोजित कर दिए जाऐंगे।

अल्पसंख्यक कल्याण विभाग ने इसमें पहली बार 2005- 2006 में उद्यामी को लोन दिया था।

 

यह भी पढें-MBBS की सभी कक्षाएं इसी सप्ताह से होंगी शुरु

MBBS की सभी कक्षाएं इसी सप्ताह से शुरु होगी

MBBS की सभी कक्षाएं इसी सप्ताह से होंगी शुरु

शासन के निर्देश अनुसार मोतीलाल नेहरु मेडिकल कॉलेज के छात्रों के लिए एक अच्छी खबर सामने आई है।

वैसे तो मोतीलाल नेहरु मेडिकल कॉलेज दिसबंर के पहले हफ्ते से खुल गया है,

लेकिन अब MBBS के द्वितीय, तृतीय और अंतिम सेमेस्टर के छात्रों के लिए कक्षा खुलने के दिशा-निर्देश दिए गए हैं।

कोरोना के चलते काफी लंबे समय से कॉलेज बंद है,

हालांकि कॉलेजों के द्वारा ऑनलाइन पढ़ाई कराई जा रही थी।

वहीं प्रशासन अब कॉलेज प्रबंधन की तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटा है।

कोरोना को मद्देनजर रखते हुए सारी व्यवस्थाएं की गयी हैं। कोरोना के नियमों का पालन किया जा रहा है।

नवंबर के पहले सप्ताह से MBBS प्रथम वर्ष की कक्षा लग रही है

जानकारी के मुताबिक कॉलेज प्रधानाध्यापक डॉ. एसपी सिंह ने बताया कि कक्षा शुरू करने की तैयारी हो गयी है।

दिसंबर के पहले सप्ताह से कक्षा शुरू कर दी गयी है।

संबंधित शिक्षकों को तैयारी करने को कहा गया है। कोरोना नियमों व सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए छात्रों की संख्या को बांटकर कक्षा लगाई जाएगी।

इसके लिए शिक्षकों को शेड्युल बनाने का निर्देश दिया है।

संबंधित छात्र-छात्राओं को कक्षा शुरू होने व उपस्थित होने की जानकारी दे दी गई है।

ऐसे समय में कॉलेज शुरु करने के लिए अभिभावकों की सहमति होनी बेहद जरूरी है।

प्रधानाध्यापक ने बताया कि मेडिकल कॉलेज में शिक्षकों की संख्या पर्याप्त है।

कक्षा व प्रैक्टिकल कराने में कोई परेशानी नहीं आने दी जाएगी।

एमबीबीएस द्वितीय, तृतीय व अंतिम वर्ष में 150-150 छात्र हैं।

साथ ही कॉलेज में नवंबर के पहले सप्ताह से MBBS प्रथम वर्ष की कक्षा लग रही है। प्रथम वर्ष में 200 सीटें हैं।

लगभग सभी छात्र-छात्राएं कक्षा में आ रहे हैं। कोरोना नियमों का पालन करते हुए इनकी कक्षाओं को हिस्सों में बांट लिया

 

यह भी पढें-आ रहे हैं बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष, चुनावी अभियान का होगा शंखनाद