राजनीति चमकाने में दबकर रह गया था सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मामला

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

14 जून 2020 में बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत का शव उनके बांद्रा स्थित फ्लैट में मिला था। खबर सामने आते ही पूरे देश में सनसनी मच गई थी। लोगों ने दावा किया कि सुशांत की मौत महज खुदकुशी नहीं हैं, बल्कि उनका मर्डर किया गया है, जिसके बाद हर किसी को पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार था। 25 जून को सुशांत की फाइनल पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई थी, जिसे पांच डॉक्टरों की टीम द्वारा तैयार किया गया था। इस रिपोर्ट में साफ लिखा था कि एक्टर की मौत फांसी लगने के बाद दम घुटने से हुई है। जहां कुछ लोगों का मानना था कि सुशांत नेपोटिज्म और इंडस्ट्री के कैंप कल्चर का शिकार हो गए हैं, तो वहीं दूसरी तरफ ये भी दावा किया जा रहा था कि बड़े नेता, सेलेब्स का सपोर्ट करते हुए इस केस को दबा रहे हैं। इसी बीच विरोधी पार्टियों द्वारा जबरदस्ती परिवार को सहानुभूति दिखाकर अपने साथ करने की कोशिश की गई, जिससे मामला पूरी तरह राजनीति की भेंट चढ़ने लगा। आज जब एक्टर की मौत का एक साल पूरा होने को आया है, तो आइए जानते हैं, कैसे इस आत्महत्या के मामले से राजनीति चमकाने की कोशिश की गई-

30 जून से शुरू हुई राजनीति

पॉपुलर एक्टर और कॉमेडियन शेखर सुमन और एक्टर के दोस्त संदीप सिंह 30 जून को सुशांत सिंह राजपूत के परिवार से मिलने पटना पहुंचे थे। घरवालों से मुलाकात करने के बाद शेखर सुमन ने उन्हीं के घर के बाहर आरजेडी के लीडर और बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के साथ एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया था। इस कॉन्फ्रेंस में सुशांत के पोस्टर भी इस्तेमाल किए गए थे, जिससे एक्टर का परिवार काफी नाराज हुआ था।

चुनाव के लिए किया गया सुशांत के नाम का इस्तेमाल

इलेक्शन से पहले हर न्यूज चैनलों पर बिहार के नेता तेज आवाजों में बिहार के बेटे सुशांत के लिए इंसाफ की गुहार लगा रहे थे। जिस तरह से बिहार के लोगों द्वारा नए- नए एंगल सामने लाए जा रहे थे, उससे लगा था जैसे ये महज एक एक्टर नहीं बल्कि उनके पूरे राज्य के साथ हुए अन्याय का मामला है। कई लोग बिहार की सड़कों पर धरना प्रदर्शन करते हुए सीबीआई जांच और न्याय की मांग कर रहे थे, हालांकि इन सभी रैलियों को किसी नेता द्वारा ही लीड किया जा रहा था। लेकिन अब नेताओं द्वारा सुशांत का नाम नहीं लिया जा रहा है।

सीबीआई जांच के खिलाफ थे उद्धव ठाकरे

मुंबई पुलिस पर निष्पक्ष जांच ना करने के आरोप के बाद हर किसी ने सुशांत मामले में सीबीआई जांच की मांग करनी शुरू कर दी। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी इस जांच की मांग कर रहे थे लेकिन महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे इसके खिलाफ थे। उद्धव ठाकरे ने नीतीश की इस मांग की निंदा करते हुए मुंबई पुलिस पर सवाल उठाने वालों पर घटिया राजनीति करने का आरोप लगाया।

फैंस को अब भी है नतीजे का इंतजार

मामले की जांच कर रही केंद्रीय जांच एजेंसी CBI अभी तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई है। अब सुशांत के दोस्त और कोरियोग्राफर गणेश हिवारकर ने मामले का अपडेट जानने के लिए कुछ दिन पहले RTI लगाई थी, जिस पर भी CBI ने कोई जवाब नहीं दिया है। अब गणेश ने एजेंसी को चेतावनी दी है कि यदि सुशांत की पहली पुण्यतिथि यानी 14 जून तक उन्हें उनकी RTI का जवाब नहीं मिलता है तो वे CBI दफ्तर के सामने आंदोलन करेंगे।

शिवानी

 

यह भी पढ़े- महाराष्ट्र के दो थिएटर्स में रिलीज हुई सलमान खान की फिल्म

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

पूरे जिले में लोजमो-मुआवजे न मिलने पर लगातार जारी विरोध

Listen to this article

रुड़की के आदर्शनगर स्थित श्री गार्डन में पत्रकार वार्ता के दौरान लोकतांत्रिक जनमोर्चा संयोजक सुभाष सैनी ने बताया कि 4 और 5 अगस्त 2017 को रुड़की के शेरपुर में हुई दो गरीब चौकीदार इंदर सिंह सैनी व मेघराज सिंह सैनी हत्या हुई थी, जिसमें तत्कालीन कैबिनट मंत्री एवं शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक एवं विधायक प्रदीप बत्रा ने मृतक आश्रितों के लिए ढाई-ढाई लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की थी। इससे पहले 27 अप्रैल 2017 को शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक ने भगवानपुर के गांव हल्लू माजरा में प्रधान भाजपा कार्यकर्ता मांगेराम सैनी हत्याकांड में पीड़ितों के घर पहुंचकर मृतक आश्रितों के लिए तीन लाख के मुआवजे की घोषणा कर चुके थे।

मृतक आश्रित मुआवजे के लिए चक्कर काटते रहे लेकिन मुआवजा नहीं मिला है जबकि 27 अप्रैल 2018 में भगवानपुर के ही गांव लव्वा में सैनी परिवार के तीहरे हत्याकांड में कौशिक पीड़ितों के आंसू तक पोछने नहीं पहुंचे। उन्होने कहा कि राष्ट्रीय प्रवक्ता कोशिक तो झूठी घोषणाओं को प्रेस के माध्यम से पीड़ित से समाचार के साथ वापस लें यह घोषणाओं को पूरा करें। संयोजक सैनी ने बताया कि लोजमो कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए मृतक भाजपा कार्यकर्ता प्रधान मांगेराम सैनी व मृतक दो गरीब चौकीदारों के आश्रितों के लिए मुआवजे की झूठी घोषणा को लेकर मदन कौशिक व प्रदीप बत्रा का विरोध गांव-गांव जारी रखेगा। उन्होंने बताया कि 29 अगस्त 2021 को जनपद हरिद्वार के साथ जुड़े दूसरे जनपदों में के शहरों व कस्बों समेत सैकड़ों गांव के एक साथ जोरदार विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।

 

यह भी पढ़े- भाजपा ने फूंका विधानसभा चुनाव का बिगुल

चोरों के हौसले बुलंद देर रात किराना स्टोर में की चोरी

Listen to this article

गाजियाबाद के थाना ट्रानिका सिटी इलाके की महक सिटी कालोनी में मोटरसाइकिल सवार दो बदमाशों ने किराना स्टोर संचालक के साथ मारपीट कर लूट की घटना को अंजाम दिया है, बदमाशों ने विरोध करने पर संचालक के साथ मारपीट कर गोली भी चलाई और दुकान से करीब दो लाख रुपये की लूट की घटना को अंजाम दिया शोर होने पर लोगों ने पीछा किया तो बदमाश मोटरसाइकिल छोड़ कर फरार हो गए। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस मोटरसाइकिल को कब्जे में लेकर जांच में जुटी है।

थाना ट्रानिका सिटी क्षेत्र की महक सिटी कालोनी में विश्वनाथ गुप्ता की किराना की दुकान है जहां पर देर रात करीब साढे नौ बजे दो हथियार बंद बदमाशों ने दुकान में घुसकर गन प्वांईट पर ले लिया और पैसे की मांग करने लगे जब उन्होंने इसका विरोध किया तो बदमाशों ने डराने के लिए गोली चला दी और उनके और उनकी पत्नी के साथ मारपीट की और घर में रखे करीब 2 लाख रुपए लूट कर लिए बदमाशों ने दुकान में लगे सीसीटीवी डीवीआर भी निकाल ली और भागने लगे वही शोर होने पर लोगों ने बदमाशों का पीछा किया तो बदमाश अपनी मोटरसाइकिल कुछ दूर छोड़कर फरार हो गए। घटना की सूचना लोगों ने पुलिस को दी सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची और मोटरसाइकिल को कब्जे में लेकर जांच में जुट गई।

 

यह भी पढ़े- बंद नाली के कारण आधा दर्जन से अधिक परिवारों के घरो में पानी जमा

पहाड़ों में बारिश केहर बनकर बरसा, कई मोटर मार्ग बंद

Listen to this article

पहाड़ों में बारिश आफत बनकर बरस रही है और अपना केहर बरसा रही है। बारिश के बाद जगह-जगह मलबा आने से ऋषिकेश-बदरीनाथ राजमार्ग सहित 163 मोटर मार्ग बंद हो गए हैं। राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र के मुताबिक बंद मार्गों को खोलने का प्रयास किया जा रहा है। वंही  मौसम विभाग ने 23 से 25 जुलाई तक भारी बारिश होने की चेतावनी दी है।

ऐसे में आने वाला समय और चुनौतीपूर्ण है। राजमार्ग को खोलने की कार्यवाही की जा रही है। जिले में इसके अलावा 29 ग्रामीण मोटर मार्ग बंद हैं। उत्तरकाशी जिले में उत्तरकाशी-लंबगांव-श्रीनगर मोटर मार्ग साड़ा के पास पुल क्षतिग्रस्त होने से बंद है। इसके अलावा जिले मे 16 ग्रामीण मोटर मार्ग बंद हैं। देहरादून में एक जिला, एक राज्य एवं 16 ग्रामीण मार्ग, रुद्रप्रयाग में पांच ग्रामीण मार्ग, पौड़ी में 24, टिहरी में सात मोटर मार्ग बंद हैं जबकि बागेश्वर में दस, नैनीताल में तीन राज्य एवं आठ ग्रामीण मोटर मार्ग, अल्मोड़ा में दस ग्रामीण मोटर मार्ग, पिथौरागढ़ में पांच बोर्डर व 11 ग्रामीण मोटर मार्ग बंद हैं।

-रितिका चौहान

 

यह भी पढ़े- रामनगर के बाद पूरे उत्तराखंड में युवा संवाद करेगे अजय कोठियाल

 

अध्यक्ष गोदियाल गणेश ने बोले पार्टी युवाओं के सपनों को पूरा करेगी

Listen to this article

उत्तराखंड कांग्रेस कमेटी के नवनियुक्त अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा कि पार्टी युवाओं के सपनों को पूरा करने के लक्ष्य पर आगे बढ़ेगी। अगले विधानसभा चुनाव में भले ही समय कम बचा हो, लेकिन इस चुनौती को अवसर में बदला जाएगा। गणेश गोदियाल पर कांग्रेस नेतृत्व ने विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है।

भाजपा को कांग्रेस को बदनाम करने का हक नहीं

जुझारू प्रवृत्ति के गोदियाल सहज स्वभाव के लिए जाने जाते हैं। नई जिम्मेदारी मिलने से उत्साहित श्रीनगर से पूर्व विधायक गोदियाल ने कहा कि पार्टी अपने सामने अवसर का पूरा लाभ उठाएगी। पार्टी हाईकमान ने उन पर विश्वास जताया है। वह इस पर खरा उतरने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। नए प्रदेश अध्यक्ष ने पार्टी में किसी तरह की गुटबाजी होने से इन्कार किया। उन्होंने कहा कि भाजपा हमेशा कांग्रेस पर गुटबाजी का आरोप लगाती रहती है। साढ़े चार साल में तीन मुख्यमंत्री बदलने चुकी भाजपा को कांग्रेस को बदनाम करने का हक नहीं है।
उन्होंने कहा कि अगले विधानसभा चुनाव को लेकर पार्टी शिद्दत से तैयारी को अंजाम देगी। युवाओं के सपनों का साकार करने का पार्टी का उद्देश्य है। इसे पूरा करने में कसर नहीं छोड़ी जाएगी। दिल्ली में मौजूद गोदियाल ने कहा कि वह शुक्रवार को पार्टी के वरिष्ठ केंद्रीय नेताओं से मुलाकात करेंगे। शनिवार को वह देहरादून आएंगे।

शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने विभाग में प्रवक्ताओं और प्रधानाध्यापकों के रिक्त पदों पर जल्द पदोन्नति करने के निर्देश माध्यमिक शिक्षा निदेशक सीमा जौनसारी को दिए। शिक्षा मंत्री ने गुरुवार को दूरभाष पर माध्यमिक शिक्षा निदेशक से वार्ता की। उन्होंने कहा कि शिक्षकों की वरिष्ठता का मुद्दा सुलझ चुका है। लिहाजा एलटी से प्रवक्ता पदों पर पदोन्नति की कार्रवाई जल्द पूरी की जाएगी। इसके लिए राज्य लोक सेवा आयोग को जल्द प्रस्ताव भेजने के निर्देश भी उन्होंने दिए। उन्होंने राजीव गांधी नवोदय विद्यालयों में प्राचार्यों, उप प्राचार्यों व शिक्षकों के रिक्त पदों को जल्द भरने के निर्देश भी दिए।

 

यह भी पढ़े- कुमाऊं में बारिश का कहर, रास्ते हुए बंद

 

अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान को निशाना बनाकर अमेरिका ने किया हवाई हमला

Listen to this article

अफगानिस्तान में सेना द्वारा दक्षिणी हेलमंद प्रांत में तालिबान लड़ाकों को निशाना बनाकर शुक्रवार को किए गए एक हवाई हमले में कम से कम 20 लोगों की मौत हो गई, जिनमें से कुछ नागरिक भी शामिल हैं. यह हवाई हमला एक परित्यक्त सैन्य अड्डे के भीतर किया गया. अभी हमला स्थल और मृतकों की संख्या को लेकर अलग-अलग बयान आ रहे हैं. यह हमला ऐसे समय में किया गया है जब अमेरिकी सेना और नाटो बल इस युद्धग्रस्त देश से बाहर जाने की तैयारी पूरी करने वाले हैं और ऐसी चिंताएं पैदा हो रही हैं कि अफगानिस्तान में इसके बाद फिर हिंसा का दौर शुरू हो जाएगा।

सेना ने कहा कि उसने प्रांत के नाहर सराज जिले में तालिबान पर हमला किया क्योंकि ये अड्डे से हथियार और आयुध लूट रहे थे. बयान में बताया गया कि 20 तालिबान लड़ाकों की मौत हुई और कुछ नागिरक भी मारे गए हैं जो कि लूट में आतंकवादियों के साथ शामिल थे. वहीं तालिबान के प्रवक्ता जैबीहुल्ला मुजाहिद ने आरोप लगाया कि अफगान सेना ने नागरिकों पर हवाई हमले किए.“‘नरम मुस्लिम नीति’ का अनुसरण करने की जरूरत।

चीन, अफगानिस्तान और पाकिस्तान ने इस बात पर जोर दिया है कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद देश को एक ‘नरम मुस्लिम नीति’ का अनुसरण करना चाहिए. तालिबान की वापसी और उसके शिनजियांग प्रांत पर संभावित असर को लेकर चीन की बढ़ती चिंता के बीच यह सिफारिश की गई है

 

यह भी पढ़े- उत्तराखंड: फर्जी कोविड टेस्ट घोटाले में विशेष जांच दल ने की पहली गिरफ्तारी

CM धामी ने कहा उत्तराखंड को देश का नंबर वन राज्य बनाएंगे विकास के मामले

Listen to this article

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि विकास के मामले में उत्तराखंड को देश का नंबर वन राज्य बनाएंगे। राज्य में तेजी से बिजली, उद्योग व पर्यटन को बढ़ावा दिया जाएगा। इससे न केवल युवाओं को रोजगार मिलेगा, बल्कि राजस्व में भी इजाफा होगा। कहा कि उद्योग को बढ़ावा देने के लिए कार्ययोजना तैयार की जा रही है।

मुख्यमंत्री ने छोटे ट्रक में खड़े होकर अभिवादन रैली निकाली

सीएम बनने के बाद पहली बार धामी के गृह जनपद में देहरादून से पंतनगर एयरपोर्ट पहुंचे। यहां से विवि के एनेक्सी अतिथि गृह में विश्राम करने के बाद कार से रुद्रपुर गांधी पार्क पहुंचे। जहां पर सीएम ने छोटे ट्रक में खड़े होकर अभिवादन रैली निकाली। रैली में सवार कार्यकर्ताओं के साथ सीएम अग्रसेन चौक, गावा चौक से काशीपुर बाइपास होते हुए पार्टी कार्यालय पहुंचे। जहां पर कार्यकर्ताओं ने सीएम का फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया। सीएम ने कहा कि राज्य में 22 हजार करोड़ रुपये स्वीकृत हुए हैं। इससे राज्य के हाईवे बनेगे और विकास कार्य होंगे। भाजपा सरकार ने जितने भी शिलान्यास हुए हैं, उन सभी का लोकार्पण करना है।

2340 रिक्त पदों को भरने की प्रक्रिया शुरू हो गई है

टनकपुर से बागेश्वर तक नैनोगेज के लिए सर्वे किया गया था, उसे ब्राडगेज के लिए सर्वे कराया जाएगा। कह कि आजादी के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो कार्य सात साल में किए हैं, वह बाकी वर्षों में किए गए कार्यों पर भारी है। नजूल भूमि पर मालिकाना हक व बाजपुर में 20 गांव के मामले का सामधान किया जाएगा। जसपुर से सुल्तानपुरपट्टी तक सड़क निर्माण के लिए 40 करोड़ रुपये मिले हैं। 2340 रिक्त पदों को भरने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। उन्होंने युवाओं में जोश भरा कि मिशन 2022 फतह करने के लिए कार्यकर्ता अभी से एकजुट हो जाएं। सभी कार्यकर्ता सीएम हैं और सभी कार्यकर्ता को काम मिले। कहा कि जल्द वात्सल्य योजना लांच किया जाएगा। विधायक राजकुमार ठुकराल ने सीएम को तलवार भेंट किया।

इस मौके पर जिला प्रभारी मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद, परिवहन मंत्री यशपाल आर्य, शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय, रुद्रपुर विधायक राजकुमार ठुकराल, किच्छा विधायक राजेश शुक्ला, नानकमत्ता विधायक प्रेम सिंह राणा, काशीपुर के विधायक हरभजन सिंह चीमा, भाजपा जिलाध्यक्ष शिव अरोरा, राजेंद्र बिष्ट, काशीपुर की मेयर ऊषा चौधरी, आशीष गुप्ता, भारत भूषण चुघ, विपिन जल्होत्रा, पूर्व सांसद बलराज पासी, गुरविंदर सिंह चंडोक आदि मौजूद थे।

पार्टी कार्यालय में स्वागत के बाद धक्का मुक्की हुई

गांधी पार्क के पास आंबेडकर पार्क में सीएम का स्वागत कार्यक्रम था। मंच पर परिवहन मंत्री यशपाल आर्य सहित कई नेता स्वागत के लिए इंतजार कर रहे थे। सीएम पंतनगर से कार से पूर्वाह्न गांधी पार्क पहुंचे तो कार्यकर्ता उनके स्वागत के लिए उमड़ पड़े। हालात हो गई कि धक्का मुक्की होने लगी। धक्का मुक्की होने से सीएम आंबेडकर पार्क में नहीं गए और सीधे छोटे ट्रक पर अभिवादन रैली के लिए सवार हो गए थे। लोग आंबेडकर पार्क में बैठे कार्यकर्ता स्वागत करने से वंचित हो गए। पार्टी कार्यालय में भी स्वागत के लिए धक्का मुक्की हुई।
वरिष्ठ भाजपा नेताओं ने कार्यकर्ताओं को बैठने को कहा तो लोग नहीं माने। इस पर सीएम ने खुद कुर्सी पर खड़े होकर संबोधित किया। जब सीएम का चेहरा नहीं दिखाई दिया तो कुर्सी पर बैठे कार्यकर्ता कुर्सी इधर उधर कर उस पर खड़े हो गए। इस दौरान गहमागहमी का माहौल रहा। पार्टी कार्यालय में भी धक्का मुक्की के बीच सीएम कार में सवार हुए।

कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए सीएम धामी भावुक हुए

कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए सीएम धामी भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि माथे पर जो लकीरें लिखी हैं, उसे कोई नहीं मिटा सकता।जब वह वर्ष, 2017 में विधायक बने तो लगा कि वह मंत्रिमंडल में उन्हेंं जगह मिलेगी, मगर नहीं मिली। इसके बाद जब प्रदेश अध्यक्ष की बारी आई तो उम्मीद जगी कि वह प्रदेश अध्यक्ष बन जाएंगे,मगर ऐसा नहीं हुआ। अब संगठन ने मुझे राज्य का मुख्य सेवक बना दिया है।

 

यह भी पढ़े- कांग्रेस ने उत्तराखंड के लिए कांग्रेस पदाधिकारियों का किया एलान