मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के दिल्ली दौरे से उत्तराखंड को मिल सकती है नई सौगात

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram
Listen to this article

10 जून को तीन माह का कार्यकाल पूरा करने जा रहे मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के दिल्ली दौरे से उत्तराखंड को आने वाले दिनों में कुछ बड़ी सौगात मिल सकती है। उन्होंने दिल्ली प्रवास के दौरान जिस तरह से महत्वपूर्ण मंत्रालयों के मंत्रियों से मुलाकात कर राज्य के लिए मदद मांगी, उससे यह उम्मीद जगी है। उनके इस दौरे को आगामी विधानसभा चुनाव के लिहाज से भी महत्वपूर्ण माना जा रहा है, क्योंकि केंद्र से मिलने वाली सौगात का लाभ विधानसभा चुनाव में भाजपा को मिलेगा। यही नहीं, राज्य विधानसभा का सदस्य बनने के लिए संवैधानिक बाध्यता के तहत मुख्यमंत्री को विधायक का चुनाव भी लड़ना है।

नई याेजनाएं मिलने की उम्मीद जगी

प्रदेश की भाजपा सरकार में नेतृत्व परिवर्तन के बाद 10 मार्च को गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत ने मुख्यमंत्री के रूप में कमान संभाली। उनके सामने खुद को साबित करने के साथ ही सात-आठ माह बाद होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव की चुनौती भी है। ऐसे में जरूरी है कि कोरोना संकट से उपजी विपरीत परिस्थितियों में राज्य के विकास को गति देने के साथ ही केंद्र सरकार से भी कुछ बड़ी योजनाएं हासिल की जाएं। इस पर मुख्यमंत्री ने फोकस किया है, जो उनके दो दिवसीय दिल्ली दौरे के दरम्यान झलका भी।

फिर चाहे वह राज्य के सीमांत क्षेत्रों के विकास की बात हो या लघु जल विद्युत परियोजनाओं की अथवा स्वास्थ्य सेवाओं के विस्तार के मद्देनजर कुमाऊं मंडल में एम्स और कोटद्वार में मेडिकल कालेज की स्थापना की मांग, ये सभी मसले उन्होंने केंद्रीय मंत्रियों के समक्ष रखे और केंद्र से सकारात्मक कार्रवाई का आश्वासन भी मिला। इससे राज्य को कुछ नई याेजनाएं मिलने की उम्मीद जगी है।मुख्यमंत्री के दिल्ली दौरे को दायित्व वितरण से भी जोड़कर देखा जा रहा था, लेकिन इस सिलसिले में उनकी अब तक राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत अन्य पदाधिकारियों से मुलाकात नहीं हो पाई। राज्य में विभिन्न निगमों व प्राधिकरणों में दायित्व बांटे जाने हैं।

अब जबकि विधानसभा चुनाव के लिए वक्त कम रह गया है तो ऐसे फार्मूले की तलाश है, जिससे पार्टी नेताओं को दायित्व भी बंट जाएं और कहीं कोई विरोध के सुर भी न उभरें। इसी लिहाज से पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व से मुख्यमंत्री की बातचीत होनी थी। माना जा रहा कि अगले कुछ दिनों में मुख्यमंत्री इस बारे में केंद्रीय नेतृत्व से विमर्श के बाद कोई फैसला लेंगे।

 

-मानवी कुकशाल

 

यह भी पढ़े- ऋषिकेश में रक्तदान शिविर में पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on telegram

और खबरें

1 जुलाई से खुलेंगे 1.5 लाख विद्यालय, राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देश

Listen to this article

देश में हाल ही में लगे लॉकडाउन के बाद से कोरोना संक्रमण के मामलों में भारी गिरावट दर्ज की गई है। ऐसे में उत्तर प्रदेश सरकार ने 1 जुलाई से विद्यालयों को खोलने के निर्देश दिए हैं। इसके मुताबिक राज्य भर के 1.5 लाख सरकारी प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों को फिर से शुरू किया जाएगा। हालांकि जारी आदेश के मुताबिक केवल प्रशासनिक कार्यों के लिए विद्यालयों को शिक्षकों और कर्मचारियों के लिए ही खोला जाएगा।

विद्यार्थियों को अगले आदेश तक स्कूल आने की अनुमति नहीं होगी।बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव प्रताप सिंह बघेल द्वारा जारी आदेश को प्रदेश भर के संभागीय सहायक शिक्षा निदेशकों और बेसिक शिक्षा अधिकारियों को भेज दिया गया है। जबकि पिछले महीने छात्रों के लिए ऑनलाइन कक्षाएं फिर से शुरू की जा चुकी हैं। शिक्षकों को स्कूलों से ही ऑनलाइन कक्षाएं संचालित करने के लिए कहा गया है।

इसके अलावा बेसिक शिक्षा परिषद ने मध्याह्न भोजन के लिए स्वीकृत राशि सीधे छात्रों या उनके अभिभावकों के खाते में जमा करने का निर्णय लिया है। बता दें कि राज्य सरकार द्वारा जारी यह आदेश केवल यूपी बोर्ड के सरकारी स्कूलों से संबद्ध स्कूलों के लिए ही है।

शिक्षक छात्र नामांकन, मध्याह्न भोजन योजना के अनुसार खाद्य सुरक्षा भत्ते और मुफ्त पुस्तकों के वितरण से संबंधित कार्य को पूरा करने के लिए कक्षा पहली से लेकर आठवीं तक के विद्यालयों को खोला जा रहा है। वहीं कक्षा नौवीं से लेकर बारहवीं तक के लिए अभी तक कोई आदेश जारी नहीं किया गया है। हालांकि 1 जुलाई से माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालयों को भी खोलने की संभावना जताई जा रही है।

 

 मीना छेत्री

दिग्गज एक्टर चंद्रशेखर का 97 साल में निधन

Listen to this article

बीते जमाने के दिग्गज बॉलीवुड एक्टर चंद्रशेखर का आज निधन हो गया है। वे 97 साल के थे। उन्हें टेलीविजन सीरीज ‘रामायण’ में आर्य सुमंत की भूमिका निभाने के लिए भी जाना जाता था। CINTAA के अनिल गायकवाड़ ने चंद्रशेखर के निधन की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि आज सुबह 7 बजे उनका निधन हो गया है। उनका अंतिम संस्कार आज ही किया जाएगा।

पापा का नींद में हुआ निधन

चंद्रशेखर के बेटे अशोक ने बताया, “पापा का नींद में निधन हो गया। उन्हें अपने स्वास्थ्य के साथ कोई समस्या नहीं थी। वे पिछले गुरुवार को एक दिन के लिए अस्पताल में थे। हम उन्हें घर वापस लाए और ऑक्सीजन सहित सभी सुविधाएं भी लेकर आए थे, ताकी जरुरत पड़ने पर कोई परेशानी ना हो। वे कल रात भी ठीक थे। उनका अंत शांतिपूर्ण रहा। हम आज शाम 4 बजे विले पार्ले के पवन हंस में उनका अंतिम संस्कार करने की योजना बना रहे हैं।” चंद्रशेखर टीवी एक्टर शक्ति अरोड़ा के दादा थे। 2019 में शक्ति ने उनके साथ एक फोटो शेयर की थी। इसके साथ उन्होंने कैप्शन में लिखा था, “मेरे दादाजी की सबसे अच्छी मुस्कान।”

11 साल CINTAA के अध्यक्ष रहे थे चंद्रशेखर

CINTAA के संयुक्त सचिव अमित बहल ने कहा, “यह एक बड़ा नुकसान है। चंद्रशेखर सर, आशा पारेख, मिथुन दा, अमरीश पुरी, अमजद खान और राम मोहन ने ही हमारे ऑफिस की नई बिल्डिंग के लिए सरकार से जगह ली थी, जो अब बनने वाली है। हम उद्घाटन में उनकी उपस्थिति के लिए बहुत उत्सुक थे, लेकिन भाग्य की अन्य योजनाएं थीं।” चंद्रशेखर ने 1985 से 1996 तक सिने आर्टिस्ट्स एसोसिएशन (CINTAA) के अध्यक्ष के रूप में भी काम किया था।

चंद्रशेखर ने लगभग 250 फिल्मों में किया था काम

सीनियर एक्टर चंद्रशेखर ने अपने करियर में लगभग 250 फिल्मों में काम किया था। हीरो के रूप में उनकी पहली फिल्म ‘सूरंग’ थी, जो 1953 में रिलीज हुई थी। उन्होंने ‘गेटवे ऑफ इंडिया’, ‘फैशन’ (1957), ‘बरसात की रात’ (1960) और अन्य कई फिल्मों में सहायक एक्टर के तौर पर काम किया था और वे काफी लोकप्रिय भी हो गए थे। उन्होंने अपनी हिट म्यूजिकल फिल्म ‘चा चा चा’ (1964) में लीड रोल प्ले किया था। इस फिल्म को उन्होंने खुद डायरेक्ट और प्रोड्यूस भी किया था। उनकी इस फिल्म में हेलेन ने भी मुख्य भूमिका निभाई थी। हेलेन की यह डेब्यू फिल्म भी थी।

शिवानी

 

मुख्यमंत्री का बलिया दौरा: योगी का रुख अब जनपदों की ओर

Listen to this article

मंडल मुख्यालयों का दौरा पूरा कर चुके मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अब जिलों की ओर रुख करने वाले हैं। इसी को देखते हुए सीएम बुधवार को बलिया जिले में आने वाले थे, लेकिन लगातार हो रही बारिश के कारण निरस्त हो गया है। देर रात में सीएम के आने का प्रोटोकॉल आया था। नगर मजिस्ट्रेट नागेंद्र सिंह ने बताया कि बरसात के कारण कार्यक्रम निरस्त हो गया है और 18 जून को आने की संभावना है।

सीएम दौरे के दौरान कोविड-19 से राहत और बचाव के उपायों के साथ ही विकास कार्यक्रमों की समीक्षा, किसी अस्पताल का निरीक्षण करने वाले थे। इसके मद्देनजर जिलाधिकारी अदिति सिंह ने पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मंगलवार सुबह जिला अस्पताल और जिला महिला अस्पताल का निरीक्षण करने के साथ ही संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया था।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोविड-19 से बचाव और राहत के लिए किए जा रहे कार्यों की समीक्षा के साथ ही जनपद में लगाए जा रहे ऑक्सीजन प्लांट में किसी एक का निरीक्षण भी कर सकते थे। किसी गांव में निगरानी समिति के साथ वार्ता करने के साथ ही जिला अस्पताल या महिला अस्पताल का निरीक्षण भी करते।

मीना छेत्री

 

यह भी पढ़े- निजी स्कूलों की फीस नियंत्रित करने के लिए जनता से मांगे सुझाव

1 जुलाई से स्नातक अंतिम वर्ष की परीक्षाएं, एचपीयू ने जारी किया संभावित शेड्यूल

Listen to this article

हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय ने प्रदेश सरकार के फैसले के अनुसार स्नातक डिग्री कोर्स बीए, बीएससी, बीकॉम और शास्त्री के अंतिम वर्ष की परीक्षाओं का संभावित शेड्यूल जारी कर दिया है। ये परीक्षाएं एक जुलाई से शुरू होंगी और अधिकतम छह अगस्त तक चलेंगी। प्रदेशभर में 156 परीक्षा केंद्रों में 35 हजार छात्र-छात्राएं परीक्षा देंगे।

विवि ने ईयर सिस्टम के साथ ही बीएचएम, बीटेक और बीवॉक के ऑड सेमेस्टर की परीक्षाओं का शेड्यूल भी जारी कर दिया है। इसे आम विद्यार्थियों के लिए विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया गया है। परीक्षा नियंत्रक डॉ. जेएस नेगी ने बताया कि विद्यार्थी परीक्षा शेड्यूल को वेबसाइट से देख और डाउनलोड कर सकते हैं।

इसमें किसी तरह की आपत्ति होने पर इसे विवि में दर्ज करवा सकते हैं। परीक्षा का यह शेड्यूल 21 जून को फाइनल कर दिया जाएगा। उन्होंने कॉलेज प्राचार्य और संस्थानों के निदेशकों और परीक्षार्थियों से कहा है कि वे डेटशीट को लेकर लगातार विवि की वेबसाइट देखते रहें, इसमें बदलाव संभावित है।

ये परीक्षाएं केंद्र और प्रदेश सरकार द्वारा समय-समय पर जारी दिशा-निर्देशों और एसओपी के तहत आयोजित की जाएंगी। प्राचार्यों और निदेशकों से कहा गया है कि वह शेड्यूल के मुताबिक परीक्षा केंद्रों को सैनिटाइज, बैठने के लिए आवश्यक दूरी के साथ व्यवस्था परीक्षा से एक दिन पहले सुनिश्चित करेंगे। इसमें तय संख्या से अधिक छात्र होने पर इसकी सूचना विवि को देने को कहा गया है। परीक्षा नियंत्रक ने कहा कि परीक्षा शेड्यूल कोविड 19 को लेकर जारी दिशा-निर्देशों को ध्यान में रखकर तैयार किया गया।

परीक्षा शेड्यूल जारी, कॉलेजों में स्टाफ बुलाने पर नहीं हुआ फैसला

मंत्रिमंडल की बैठक में हुए फैसले के अनुसार हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय ने एक जुलाई से परीक्षाएं शुरू करने का फैसला लेकर शेड्यूल भी जारी कर दिया है, मगर अभी तक सरकार ने कॉलेजों में स्टाफ को बुलाने पर कोई निर्णय नहीं लिया है। परीक्षा के लिए बनाए गए 156 परीक्षा केंद्रों में परीक्षा की तैयारियां कॉलेजों में स्टाफ को बुलाए जाने के बाद ही शुरू हो सकेंगी। इसमें शेड्यूल के मुताबिक छात्रों का सिटिंग प्लान बनाने, हर परीक्षा से पूर्व सैनिटाइजेशन जैसी तमाम व्यवस्थाएं की जानी हैं। परीक्षा के लिए अब महज 15 दिन का समय शेष रह गया है। ऐसे में विवि को भी कॉलेजों के खुलने का बेसब्री से इंतजार है।

मीना छेत्री

 

यह भी पढे़- बसपा विधायकों की अखिलेश से मुलाकात पर मायावती का हमला

रिटायर्ड ASI ने बलिया में दर्ज कराया बयान

Listen to this article

रिटायर्ड आईएएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह बलिया पहुंचे। यहां उन्होंने दुबहर थाने में पुलिस को अपना बयान दर्ज कराया। सूर्य प्रताप ने बलिया में गंगा नदी में उतराते शवों को लेकर सोशल मीडिया के जरिए सरकार पर निशाना साधा था। जिस पर 12 मई को पुलिस ने उनके खिलाफ केस दर्ज किया था। बयान दर्ज कराने के लिए उन्हें नोटिस भेजा गया था। इसके जवाब में सूर्य प्रताप ने विवेचना अधिकारी दुबहर थाना प्रभारी अनिल चंद्र तिवारी को अपना लिखित बयान दर्ज कराया है।

बोले- मुझे न्यायालय पर भरोसा

सूर्य प्रताप सिंह ने कहा, लिखित में मैंने अपना बयान दिया है। मैं चाहता हूं कि मेरे साथ न्याय करें। क्योंकि ये (विवेचना अधिकारी) सरकार के नुमाइंदे हैं। सरकार ने मेरे ऊपर 7 एफआईआर दर्ज की हैं। अधिकांश एफआईआर कोविड से संबंधित हैं। मैं ऑक्सीजन सिलेंडर की बात करता हूं, लोगों नहीं मिल रही है, लोग लाइन में हैं, लेकिन नहीं मिल रही है तो मेरे ऊपर एफआईआर करते हो।

मैं कोविड मरीजों का गटर में डालने की बात करता हूं, मरीज मर जाता है, बनारस में तो एफआईआर होती है। मैं बलिया, उन्नाव, बनारस प्रयागराज में उतराती शव की बात करता हूं, सबने देखा है। बलिया में जेसीबी से शवों को गाड़ा गया।

सिंह पर दर्ज हैं ये 7 मामले

एसपी सिंह पर कानपुर, उन्नाव, बलिया और बनारस में एक-एक मुकदमा दर्ज है। इसके अलावा तीन मुकदमे पुराने हैं। पिछले दिनों सीएम योगी के सपोर्ट में ट्वीट पर 2 रुपए दिए जाने का ऑडियो वायरल करने के आरोप में मुकदमा कानपुर में दर्ज है।

इसके अलावा गंगा में शव उतराने के मामले में किए गए ट्वीट पर उन्नाव में मामला दर्ज है। एक मामला बनारस में नाले में कोविड पेशेंट का शव मिलने पर किए गए ट्वीट को लेकर दर्ज किया गया था।

शिवानी

 

यह भी पढे़- निजी स्कूलों की फीस नियंत्रित करने के लिए जनता से मांगे सुझाव

निजी स्कूलों की फीस नियंत्रित करने के लिए जनता से मांगे सुझाव

Listen to this article

हिमाचल प्रदेश निजी स्कूल (फीस और अन्य मामलों का विनियमन) विधेयक 2021 में आवश्यक बदलाव करने के लिए सरकार ने जनता से सुझाव मांगे हैं। 15 मार्च 2021 को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में कई मंत्रियों ने विधेयक के बिंदुओं से असहमति जताते हुए इस प्रस्ताव को विद्ड्रा करवा दिया था। अब सरकार के निर्देशानुसार उच्च शिक्षा निदेशालय ने आम जनता से बीस जून तक विधेयक को लेकर अपने सुझाव और आपत्तियां दर्ज करवाने को कहा है। इच्छुक लोग उच्च शिक्षा निदेशालय या जिला उपनिदेशक कार्यालयों में लिखित में या निदेशालय की वेबसाइट पर ऑॅनलाइन अपने सुझाव दे सकेंगे।

आम जनता से मिलने वाले सुझावों के आधार पर दोबारा से विधेयक को तैयार कर मंत्रिमंडल की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। निजी स्कूलों की फीस नियंत्रित करने को लेकर बीते एक वर्ष से प्रदेशभर से मांग उठ रही है। शिक्षा विभाग ने इस बाबत प्रस्ताव तैयार कर मंत्रिमंडल को भेजा था, उम्मीद जताई गई थी कि बजट सत्र में विधेयक को कानून बनाया जाएगा, लेकिन कुछ मंत्रियों की आपत्ति से मामला ठंडे बस्ते में चला गया था। अब शिक्षा विभाग ने विधेयक को लेकर दोबारा कसरत शुरू की है। इस विधेयक के तहत जिला उपायुक्त की अध्यक्षता में बनाई जाने वाली कमेटी में निजी स्कूलों की फीस निर्धारित की जाएगी।

कमेटी में निजी स्कूल प्रबंधन के अलावा पीटीए को शामिल किया जाएगा। उच्च शिक्षा निदेशक की अध्यक्षता वाली कमेटी फीस को मंजूरी देगी। कमेटी में अतिरिक्त निदेशक और प्रारंभिक शिक्षा निदेशक को शामिल किया जाएगा। जिला उपनिदेशकों की अध्यक्षता में बनने वाली कमेटी स्कूलों में फीस वसूली की व्यवस्था की मॉनिटरिंग करेगी।

निजी स्कूलों में दी जाने वाली सुविधाओं के आधार पर फीस तय की जाएगी। स्कूल प्रबंधन और पीटीए (पेरेंट्स-टीचर एसोसिएशन) से चर्चा की जाएगी। सभी के सुझाव लेने के बाद फीस को तय किया जाएगा। फीस तय करने में इस बात का विशेष ध्यान रखा जाएगा कि फीस अभिभावकों का शोषण करने वाली न हो। इसके अलावा फीस में हर साल होने वाली बढ़ोतरी के लिए भी प्रावधान किया जाएगा।

 मीना छेत्री

 

यह भी पढ़े- राम मंदिर ट्रस्ट पर लगे आरोपों का मुख्यमंत्री योगी ने लिया संज्ञान