उत्तराखंडहोम

आज नवरात्रि का तीसरा दिन कल, पंडित मनोज त्रिपाठी ने बताया कैसे करे पूजा

चैत्र नवरात्रि का तीसरा दिन है। नवरात्रि के नौ दिनों में मां के नौ रूपों की पूजा- अर्चना की जाती है। नवरात्रि के तीसरे दिन मां के तृतीय स्वरूप माता चंद्रघंटा की पूजा- अर्चना की जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार माता चंद्रघंटा को राक्षसों की वध करने वाली माता भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है मां ने अपने भक्तों के दुखों को दूर करने के लिए हाथों में त्रिशूल, तलवार और गदा रखा हुआ है। माता चंद्रघंटा के मस्तक पर घंटे के आकार का अर्धचंद्र बना हुआ है, जिस वजह से भक्त मां को चंद्रघंटा कहते हैं। पंडित मनोज त्रिपाठी ने बताया कि आज जो भी साधक हैं जो घरस्त हैं उन लोगों का मन मणिपूर चक्र में स्थापित होता है।मां का ऐसा स्वरूप बहुत ही सुंदर रुप है गोरा रंग है मां का लेकिन हल्का श्यामा वर्ण लिए हुए ऐसी मां की मन में धारणा करते हुए आज जो व्यक्ति पूजन  करता है मां उसके दांपत्य जीवन के सुखों में वृद्धि करती है। यह भी पढ़ें- उत्तराखंड बोर्ड 10वीं-12वीं की परीक्षा कल से शुरू उन्होंने कहा कि जो लोग शत्रुओं से परेशान होते हैं तो जैसे घंटे की ध्वनि होते ही सभी प्रकार के किट और जीव समाप्त हो जाते हैं इसी प्रकार आज के दिन मां का पूजन करने वाले व्यक्ति के शत्रुओं का नाश हो जाता है माता को दही और हलवे का भोग अतिप्रिय होता है। मां को भोग लगाने से व्यक्ति की मनोकामना पूर्ण हो जाती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button